Dosto और मित्रो को सबसे पहले नये अंदाज में यह बधाई दे यहाँ क्लिक कर देखे
यह तो सुना हे की भूख इंसान को सहन नहीं होती और उस टाइम वो खच भी खाने को पागल हो जाता हे. भूख किसी जाती पात को नहीं जानती. लेकिन 8 साल की रीता तो बचपन से कांच, प्लास्टिक और लोहा खाती हे और अब यह उसकी आदत बन गया हे.  Girl Eating Plastic, Blade And Glass
दरअसल उन्नाव के चकलवंसी गाँव के मजरे में रहने वाली रीता की बचपन में माँ मर गई थी और गरीबी के चलते खाना नहीं मिल पाता तो वो कूड़े में से कांच और प्लास्टिक खाती थी और अब यह उसकी आदत बन गई हे. 

इस तरह की चीजे खाने के बाद भी रीता पूरी तरह स्वस्थ हे, लोग इसको देखकर अचम्भित हे. रीता की दादी ने भी माना हे की सही से पालन-पोषण के कारण बच्ची को बहुत दर्द झेलना पड़ा. पिता रोजी-रोटी के लिए बहार घूमता रहता था. ऐसे में रीता भूख मिटाने के लिए प्लास्टिक, कांच, लोहा और केसेट खाके अपना गुजारा करती थी.

कोई भी सवाल पूछे ?.या Reply दे

इस कमेंट्स बॉक्स में ✓ Notify me क्लिक करले हम अगले 48 घंटे में आपकी Information इसी साइट पर देने का प्रयास करेगे...विज्ञापन कमैंट्स ना करे अन्यथा 1 घंटे के अंदर हटा दी जाएगी विज्ञापन चार्ज पे कर अपना ads दिखाए Top.HOWFN साइट पर