यहाँ क्लिक कर मेक इंडिया सब्सक्राइब जरूर करे
What is the symptoms of malaria meaning - मलेरिया बुखार सर्दी देकर आता हैं. और पसीना देकर उतर जाता है. कुछ मलेरिया बुखार समय से चढ़ते है. यह मच्छरों के काटने से होता हैं. मलेरिया के बाद कुछ दिन चावल नही खाने चाहिए. आईये जानते हे मलेरिया होने पर क्या करें.
चिकित्सा malarial fever ka ilaj
1. सादा खाने का नमक पिसा हुआ तवे पर धीमी आंच पर इतना सेकें की उसका रंग काला भूरा (कॉफी के समान) हो जाये. ठण्डा होने पर शीशी में भर ले. बस दवा तैयार है. एक चम्मच नमक एक गिलास गर्म पानी में मिलाकर बुखार चढ़ने से पहले रोगी को दे. ज्वर उतर जाने पर भी एक चम्मच नमक गर्म पानी में मिलाकर पिलाये. दो खुराक लेने मात्र में बुखार उतर जाएगा और फिर नही लौटेगा. यदि लौट आये बुखार तो फिर यही प्रयोग करे. तीसरी बार बुखार बिल्कुल नही आयेगा.

2. एक ग्राम फिटकरी, दो ग्राम चीनी में मिलाकर बुखार आने से पहले दो-दो घण्टे से दो बार दे. बुखार नही आयेगा और आयेगा तो कम. फिर दूसरी बार भी जब बुखार चढ़ने बाला हो तो, इसी प्रकार से दे. रोगी को कब्ज नही होने दे. कब्ज हो तो पहले कब्ज दूर करे.

3. मलेरिया ज्वर चढ़ने से पहले एक सेब रोगी को दे तो बुखार का समय बदल जायगा और फिर ठीक हो जायगा.

4. 60 ग्राम नीम के कच्चे पत्ते चार काली मिर्च ये दोनों पीसकर 125 ग्राम पानी में छानकर पीले. मलेरिया ठीक हो जायगा. यह अती विशवसनीय नुस्खा हैं.

यह भी पढे -> अपने स्मार्टफोन को बनाये CCTC

5. देशी अजवायन एक चम्मच भरकर (6 ग्राम) और गिलोय 3 ग्राम दोनों द्रव्यों को रात्रि के समय जल में भिगो दे और प्रातः पीसकर छानकर सेंधा नमक मिलाकर रोगी को पिला दे. इससे मलेरिया बुखार दो तीन दिन लेने से और पुराना मलेरिया बुखार एक सप्ताह लेने से दूर हो जाता हैं. और फिर कभी बुखार नही आता.

6. मलेरिया में नमक, काली मिर्च नींबू में भरकर गर्म करके चूसने से बुखार की गर्मी दूर हो जाती हैं. यह दो बार नित्य चूसे.

कोई भी सवाल पूछे ?.या Reply दे

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..