मोसम में नमी और ठंडक बढ़ने के साथ संक्रमण की आशंका बढ़ जाती हे और बच्चों में बुखार की भी. आज की इस पोस्ट में, में आपको बुखार के दोरान रखी जाने वाली सावधानियों के बारे में बताऊंगा और साथ में अलग-अलग बुखार के लक्षण भी. 

1. बुखार होने पर मन से कोई दवाई ना लें. साधारण दवाई भी डॉक्टर के परामर्श से लें.

2. समय-समय पर तापमान जांचे और डॉक्टर को सारी रीडिंग बताएं.

3. बच्चे को ठंड ना लग रही हो तो उसे ना ओढ़ाए. इसके बजाय बच्चे को हवा में रखें और उसका शरीर पोंछते रहे.

4. बच्चे की गतिविधियाँ सामान्य हे, वह खेल-खा रहा हे तो घबराने की जरूरत नहीं हे.

5. बच्चे को टिका लगा हे तो भी एकाध दिन बुखार रहना सामान्य हे, इसलिए घबराने की जरूरत नहीं हे.

6. बुखार लगातार बना हुआ हो, दवा देने पर उतर जाएँ और कुछ समय बाद चढ़ जाए, तो डॉक्टर से परामर्श लें.

7. तीन महीने से कम के बच्चे को बुखार हो तो, डॉक्टर को दिखाएँ.

बुखार के साथ-साथ अन्य लक्षण भी हे तो सतर्क रहने की जरूरत हे

1. वायरल
गले में खराश, खांसी के साथ सांस फूलना.

2. मलेरिया
शरीर में दर्द, कम्पकपी, ठंड लग्न, पसीना आना.

3. डेंगू
सिर दर्द, जीभ पर सफेद पपड़ी, पेट दर्द, शरीर पर चकते.

4. सायनोसाइटिस
आँख नाक के किनारे दर्द, नाक से पानी, गले में खराश, खांसी.

5. टांसलाइटिस
निगलने में परेशानी, सुखी खांसी.

कोई भी सवाल पूछे ?.या Reply दे

इस कमेंट्स बॉक्स में ✓ Notify me क्लिक करले हम अगले 48 घंटे में आपकी Information इसी साइट पर देने का प्रयास करेगे...विज्ञापन कमैंट्स ना करे अन्यथा 1 घंटे के अंदर हटा दी जाएगी विज्ञापन चार्ज पे कर अपना ads दिखाए Top.HOWFN साइट पर