Featured Posts

पुरानी कब्ज का 31 इलाज कारण उपचार Meaning constipation treatments in hindi

Meaning constipation treatments in hindi आज बताऊंगा कब्ज का उपचार पुरानी कब्ज का रामबाण इलाज कब्ज का आयुर्वेदिक इलाज कब्ज का रामबाण इलाज राजीव दीक्षित कब्ज का कारण कब्ज मिटाने के सरल उपचार भयंकर कब्ज कब्ज की दवा

कब्ज qabz पाचन तंत्र की उस स्थिति को कहते हैं

कोई व्यक्ति या जानवर का मल बहुत कड़ा हो जाता है तथा मलत्याग में कठिनाई होती है। कब्ज अमाशय की स्वाभाविक परिवर्तन की वह अवस्था है, जिसमें मल निष्कासन की मात्रा कम हो जाती है, मल कड़ा हो जाता है, उसकी आवृति घट जाती है या मल निष्कासन के समय अत्यधिक बल का प्रयोग करना पड़ता है। सामान्य आवृति और अमाशय की गति व्यक्ति विशेष पर निर्भर करती है। (एक सप्ताह में 3 से 12 बार मल निष्कासन की प्रक्रिया सामान्य मानी जाती है। पेट में शुष्क मल का जमा होना ही कब्ज है। यदि कब्ज का शीघ्र ही उपचार नहीं किया जाये तो शरीर में अनेक विकार उत्पन्न हो जाते हैं। कब्जियत का मतलब ही प्रतिदिन पेट साफ न होने से है। एक स्वस्थ व्यक्ति को दिन में दो बार यानी सुबह और शाम को तो मल त्याग के लिये जाना ही चाहिये। दो बार नहीं तो कम से कम एक बार तो जाना आवश्यक है। नित्य कम से कम सुबह मल त्याग न कर पाना अस्वस्थता की निशानी है।

Kabj Ke Karan Lakshan

पानी काम पीने से कब्ज की शिकायत रह सकती है 24 घंटे में कम से कम 3 -4 लीटर पानी या 9 -10 गिलास पानी जरूर पीना चाहिए गर्मियों में शरीर को ज्यादा पानी की जरुरत होती है और पानी न पीने पर कब्ज की शिकायत हो सकती है आगे पढ़े - पुरुषों की कमजोरियों को दूर करने का आयुर्वेद उपाय 
  • टॉयलेट जाने की जरुरत महसूस होने पर भी किसी काम में जुटे रहने या सोते रहने जैसी वजहों से मोशन को टालने से भी कब्ज की शिकायत हो सकती है
  • स्मॉकिंग या तम्बाकू के दूसरे तरीकों के सेवन से भी कब्ज की शिकायत रह सकती है
  • ज्यादा मानसिक तनाव में रहना
  • तला - भुना मसालेदार खाना
  • एलोपैथिक दवाओं का जयादा सेवन करना जैसे पेनकिलर्स या दर्द निवारक दवाएं खाने वाले भी कब्ज का शिकार हो जाते है
  • वक्त - बेवक्त खाना
  •  कई बीमारिया भी कब्ज की वजह बनती है
  • कोल्डड्रिंक या शराब जरुरत से ज्यादा पीने की वजह से
  • किसी भी तरह की शारीरिक मेहनत न करने वालो को भी कब्ज हो सकती है लगातार घंटो बैठकर काम करने वालो को भी कब्ज की शिकायत रह सकती है 
  • ऐसे व्यक्ति जो खाने को चबाकर नहीं खाते है उन्हें भी कब्ज की शिकायत होती है
  • जितनी भूख लगी है उससे काम खाना खाने का सही तरीका है कि पेट के 60 फीसदी तक भरने तक हैल्दी खाना खाया जाए लेकिन कुछ लोग डाइटिंग के चक्कर में बहोत काम खाते है इससे शारीर में फाइबर वाली चीजे नहीं पहुचती है और कबज हो जाता है 
  • हार्मोन्स की प्रॉब्लम
  • थाइराईड या शुगर से भी कब्ज हो जाती है ।
कब्ज का आयुर्वेदिक इलाज रामबाण उपचार Meaning constipation treatments

शरीर चुस्त -दुरुस्त हो तो इंसान का मन पूरी तरह से ACTIVE रहता है BODY में पेट एक ऐसा केंद्र है जिसको यदि किन्ही उपायों से फिट रखा जा सके तो शरीर और मन दोनों जोश और उत्साह से भरपूर रहते है । आइये जाने उन बेहद सरल घरेलू उपयो को जो कब्जियत को तो जड़ से मिटाते ही है साथ ही पेट के पहले जैसे प्राकृतिक स्वरुप को भी लौटाते है

भोजन में काला नमक, आधा नीबू, सिका जीरा, हींग, और मौसम के अनुसार उपलब्ध सलाद को शामिल करने से कब्ज और पेट की दूसरी तमाम समस्याओं से स्थाई रूप से छुटकारा पाया जा सकता है।

  1. गलत समय खान- पान के चक्कर में व्यक्ति आए दिन कब्ज से परेशां रहता है , इससे बचने के लिए त्रिफला यानि हरड़ , बहेड़ा और आंवला के मिक्सचर चूर्ण को लगातार 6  माह तक बराबर पानी के साथ सोते समय लेने से कब्ज की परेशानी हमेशा के लिए दूर हो जाती है ।            
  2. जो रोगी काफी कमजोर हो या बालक हो तो आंवला पीस कर नाभि के चारों और दीवाल सी बना दो, उसी के भीतर अदरक का रस भर दो, दो घंटे रोगी को लेटा रहने दो, जुलाब की बगैर किसी तेज हानिकारक दवाई के ही महीनों पुराना सारा मल साफ हो जाता है। 
  3. सुबह खाली पेट गुनगुने गर्म पानी में एक चुटकी काला नमक डालें और उसे पीकर 15 मिनट तक घूम लें कब्ज में अवश्य ही राहत मिलेगी। 
  4. भोजन हमेशा समय पर करे । 
  5. अंजीर को रात को पानी में भिगोकर सुबह चबाकर पानी  पेट साफ़ हो जाता है ।  
  6. गाजर के रस  का रोजाना सेवन करने से कब्ज ठीक हो जाती है । 
  7. गिलोय के बारीक चूर्ण को गुड़ के साथ बराबर की मात्रा मिलाकर २ चम्मच सोते समय सेवन करने से कब्ज रोग दूर हो जाता है । 
  8. प्रतिदिन सुबह देसी शहद में नीबू  रस  मिलकर चाटे । 
  9. हींग  , लसुन  , चद  गुप्पा ये तीनो बूटियाँ  पीसकर गोली बनाकर छांव में सुख लें  , व प्रतिदिन एक गोली खाएं  ।
  10. भोजन के समय सादे पानी के बजाय  अजवाइन का उबला पानी प्रयोग करे । 
  11. लहसुन जीरा 10 ग्राम घी में भूनकर भोजन से पहले  खाये । 
  12. सौंठ पाउडर शहद या गरम पानी से खाएं । 
  13. लौंग का उबला पानी रोज पीये । 
  14. खाने के साथ रोज एक कटोरी दही कहना पेट के लिए बहुत लाभदायक होता है  । 
  15. एक गिलास दूध में 1  चम्मच घी मिलकर रात को सोते समय  से भी कब्ज से पूरी तरह छुटकारा मिल सकता है ।
  16. गुनगुने दूध में 3  खजूर डालकर सेवन हफ्ते भर तक करें , आपको आराम जरूर मिलेगा ।
  17. दूध या पानी के साथ 1 - 2  चम्मच इसबगोल की भूसी रात को सोते समय लें । यह आंतो के काम को तेज करता है ,जिससे पेट खुलकर साफ़ हो जाता है ।
  18. दिन में दो बार आधा गिलास पत्ता गोभी का जूस पीने से राहत मिलती है ।
  19. रोज  दिन में दो बार आधा गिलास पालक का जूस पियें ।  इससे आपको बहोत आराम मिलेगा ।
  20. इस रोग को भागने के लिए प्राणायाम और योग भी फायदेमंद होता है 
  21. जीरा , सौंफ , अजवाइन इनको सुखाकर पावडर बना लें , शहद के साथ भोजन से पहले प्रयोग करे । 
  22. पके टमाटर का रास एक कप पीने से पुरानी  कब्ज दूर होती है और आंतो को भी ताकत मिलती है । 
  23. रात में सोते समय 1 से 2  चम्मच  अलसी  के बीज ताजे पानी से निगल लें आंतो की खुश्की दूर होकर मल साफ़ होगा। 
  24. अमरुद और पपीता ये दोनों फल कब्ज रोगी के लिए बहुत अच्छे होते है ।ये फल दिन में किसी भी समय खाये जा सकते है इन फलो में पर्याप्ते रेशा होता है , जो आंतों   देता है ।  
  25. बेकिंग  सोडा  लेने से भी कब्ज की समस्या पूरी तरह ठीक हो सकती है ।  इसका सेवन करने के लिए 1 /4  कप गर्म 1 चम्मच  बेकिंग सोडा मिलाकर पानी पिए । 

सुबह खाली पेट 1 चम्मच जैतून तेल सेवन करने से फायदा होता है आप चाहें  तो इसमें नीबू का रस भी मिलाकर सेवन कर सकते हैं जैतून का तेल कब्ज दूर कर देता है इससे पेट आराम से साफ़ हो जाता है । 

इस कमेंट्स बॉक्स में ✓ Notify me क्लिक करले हम अगले 48 घंटे में आपकी Information इसी साइट पर देने का प्रयास करेगे...विज्ञापन कमैंट्स ना करे अन्यथा 1 घंटे के अंदर हटा दी जाएगी विज्ञापन चार्ज पे कर अपना ads दिखाए Top.HOWFN साइट पर

www.CodeNirvana.in

हमें यूट्यूब सब्सक्राइब करे यहाँ क्लिक
Copyright © kaise hota hai, how to, mobile phones price in hindi, keemat kya hai | Contact | Privacy Policy | About me