Featured Posts

कार धूप में खड़ी है तो खराब होने का खतरा 4 गुणा protect car from sun rain damage

How to protect car from sun damage - एक अध्‍ययन में पाया गया है कि‍ अगर आपकी कार धूप में खड़ी है तो मात्र एक घंटे में कैबि‍न का तापमान 46 डि‍ग्री सेल्‍सि‍यस तक पहुंच जाता है

इसकी वजह से कार में बैठना और उसे चलाना बेहद मुश्‍कि‍ल हो जाता है इतना ही नहीं, इससे कार खराब होने का खतरा भी बढ़ जाता है dhup me car kharab hoti hai जब आप कार में बैठते हैं तो उसका हर हि‍स्‍सा, जि‍से आप छूते हैं उसका तापमान कार के भीतर के तापमान से ज्‍यादा होता है।

  धूप में खड़ी कार का तापमान

Research प्रोफेसर नेंसी सेलोवर ने कहा कि‍ जब हम गर्मी के दि‍न में अपनी कार में बैठते हैं तो हम स्‍टीयरिंग व्‍हील को छू भी नहीं पाते हैं रि‍सर्चर ने पाया है कि‍ जब आपकी कार धूप में खड़ी होती है तो एक घंटे के भीतर कार के भीतर का औसत तापमान 46 डि‍ग्री सेल्‍सि‍यस हो जाता है वहीं, डैशबोर्ड का तापमान 69 डि‍ग्री, स्‍टीयरिंग व्‍हील का 52 डि‍ग्री और सीट्स का तापमान 50 डि‍ग्री सेल्‍सि‍यस हो जाता है

वहीं, कैलि‍फोर्नि‍या सैन डि‍एगो यूनि‍वर्सि‍टी और एरि‍जोना स्‍टेट यूनि‍वर्सि‍टी के रि‍सर्चर ने यह भी पाया है कि‍ बेहद गर्म दि‍नों के दौरान धूप में खड़ी कार के भीतर का 46 डि‍ग्री सेल्‍सि‍यस पर पहुंचता ही है, साथ ही डैशबोर्ड का तापमान 73 डिग्री तक भी पहुंच जाता है जर्नल में प्रकाशि‍त अध्‍ययन में वि‍भि‍न्‍न प्रकार की कारों की तुलना की गई है।

छांव में खड़ी का का तापमान

यह भी पाया गया है कि‍ छांव में खड़ी कार के भीतर का तापमान एक घंटे में 37 डि‍ग्री सेल्‍सि‍यन के करीब पहुंच जाता है। वहीं, डैशबोर्ड का औसत तापमान 47 डि‍ग्री, स्‍टीयरिंग व्‍हील्‍स का 41 डि‍ग्री और सीट्स का तापमान 40 डि‍ग्री सेल्‍सि‍यस हो जाता है।

Research  के अनुसार आपकी कार धूप से 4 गुणा पहले ख़राब होती है यह पाया गया है तो अगर आपके पास भी कार है तो इस खबर का ध्यान रखे व् अपने साथियो को भी खबर भेजे 

इस कमेंट्स बॉक्स में ✓ Notify me क्लिक करले हम अगले 48 घंटे में आपकी Information इसी साइट पर देने का प्रयास करेगे...विज्ञापन कमैंट्स ना करे अन्यथा 1 घंटे के अंदर हटा दी जाएगी विज्ञापन चार्ज पे कर अपना ads दिखाए Top.HOWFN साइट पर

www.CodeNirvana.in

Copyright © kaise hota hai, how to, mobile phones price in hindi, keemat kya hai | Contact | Privacy Policy | About me