Featured Posts

एकादशी आज व्रत कथा महत्व ekadashi vrat katha fast benefits hindi

ekadashi vrat katha fast benefits hindi full information कमला एकादशी परमा एकादशी और हरवला एकादशी के नाम से कृष्ण पक्ष की एकादशी को कहा जाता है दिन रविवार 10 जून को यह उपवास है यह जेष्ठ मास के पुरुषोत्तम मास में होती है इस साल भी एकादशी का व्रत बड़े जोरों शोरों से मनाया जा रहा है

इस व्रत उपवास नियम हैं जो इस प्रकार हैं

प्रात काल में सच्चे मन और विचारों से व्रत को लेकर मन में कुछ संकल्प धारण करते हैं उसके बाद स्नान आदि क्रियाओं से पूर्ण होने के बाद भगवान सूर्य कमल नयन सुदर्शन धारी श्री हरि जी की पूजा अर्चना की जाती है जिसके लिए धूप नैवेध पुष्प दीप फलों में मुसम्मी का फल भगवान को स्नान कराने के लिए पंचामृत आदि का उपयोग किया जाता है

इस बात इस व्रत को करने से होने वाले फायदे

रविवार के दिन को सूर्य भगवान का दिन कहा जाता है और अगर रविवार को ही वह व्रत पड़ता है तो इसका फायदा कई गुना तक बढ़ जाता है ऐसा शास्त्रों में वर्णित है और जो इस बार की एकादशी का व्रत है वह भी रविवार को आ रहा है पुराणों में और पंडितों के द्वारा ऐसा माना जाता है कि भगवान विष्णु और भगवान सूर्ये की पूजा एक साथ करने से जितने भी बुरे से बुरे प्रभाव होते हैं या जो भी समय है वह अच्छा हो जाता है इस व्रत से किसी भी इंसान की किस्मत उस का साथ देती है और खराब परिस्थितियों में भी उसके अनुकूल हो जाती हैं इस तरह से व्रत का व्याख्यान बताया जाता है भगवान विष्णु के पास लक्ष्मी का भी वास होता है तो भगवान जब प्रसन्न होंगे तो लक्ष्मी जी अपने आप प्रसन्न होती हैं तो इस व्रत का महत्व और भी बढ़ जाता

 क्या ना करें उपवास में

जो भी इस व्रत को धारण करना चाहते हैं उनको कुछ चीजों का वर्जन बताया गया है जैसे चावलों का सेवन पूरी तरह से वर्जित है साथ में एकादशी व्रत में भोजन का सेवन नहीं करना चाहिए
parma ekadashi fast 2018 hindi

कुछ लोग इस उपवास में फल हारी अर्थात स्वांग के चावल की खीर बना लेते हैं जो अनुचित है किसी की भी निंदा चुगली नहीं करना चाहिए और इस दिन किसी के भी दिल की दुखने वाली बात बिल्कुल नहीं करनी चाहिए क्योंकि बुरे मन से अगर आप व्रत करेंगे तो उसका प्रभाव भी बुरा होने लगता है

एकादशी व्रत में क्या करें दिन में सच्चे मन से व्रत धारण करें रात के समय मंदिर में जाकर दीप दान करें भगवान विष्णु का संकीर्तन करते हुए रात्रि में जागरण भी कर सकते हैं भगवान विष्णु की पूजा करें और श्री विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करें इस व्रत में सुबह के समय प्रात काल है सूर्यदेव को जल जरुर अवश्य चढ़ाएं प्यार से लोगों को पानी जरुर पिलाएं गायों को चारा भी खिला सकते हैं पानी पिलाएं और गाय माता का आशीर्वाद पाएं उनके मस्तिष्क पर हाथ फेरा और उन्हें प्रेम से चलाएं इसके अलावा व्रत में अपनी क्षमता के अनुसार ब्राह्मणों को कुछ वस्तु का दान दक्षिणा अवश्य करें इसके भी फायदे इस दिन होते हैं

इस कमेंट्स बॉक्स में ✓ Notify me क्लिक करले हम अगले 48 घंटे में आपकी Information इसी साइट पर देने का प्रयास करेगे...विज्ञापन कमैंट्स ना करे अन्यथा 1 घंटे के अंदर हटा दी जाएगी विज्ञापन चार्ज पे कर अपना ads दिखाए Top.HOWFN साइट पर

www.CodeNirvana.in

Copyright © kaise hota hai, how to, mobile phones price in hindi, keemat kya hai | Contact | Privacy Policy | About me