Featured Posts

म्यूचुअल फंड सही है डॉट कॉम Top 10 mutual funds for sip to invest in 2018

म्यूचुअल फंड इन्वेस्टमेंट का एक नया जरिया बनता जा रहा है बढ़ते निवेश के साथ ही कई तरह के सवाल भी इन्वेस्टर के मन में रहते हैं। ऐसे में म्यूचुअल फंड का खासियत है, उसमें कैसे टैक्स सेविंग मिलती है, कंपनियां कैसे इन्वेस्ट करती हैं, इसके बारे में हम बैंक बाजार डॉट कॉम के सीईओ आदिल शेट्टी के जरिए पूरी डिटेल बता रहे हैं...

स्‍मार्ट इनवेस्‍टमेंट 
म्यूचुअल फंड में सेवि‍ंग की बात आते ही सबसे पहले बात होती है रि‍स्‍क की। अगर आप अपना पूरा पैसा कि‍सी एक कंपनी में इनवेस्‍ट कर दें और कि‍सी वजह से वह कंपनी डूब जाए तो आपका सारा पैसा भी डूब जाएगा। ऐसे में म्यूचुअल फंड का सबसे बड़ा फायदा यही है कि‍ यहां आपके पैसे को अलग-अलग कंपनि‍यों में लगाया जाता है। जैसे कि‍ अलग-अलग स्‍टॉक और बॉन्‍ड्स में आपके पैसे को इनवेस्‍ट कि‍या जाता है। इसका फायदा यह है कि‍ अगर कि‍सी एक कंपनी में लगा पैसा डूब भी जाए तो बाकी जगह से हुआ लाभ उसे कवर कर सकता है।


रि‍स्‍क की भी है अपनी च्‍वॉइस 
इसके बावजूद आपको लगता है कि‍ म्यूचुअल फंड में रि‍स्‍क है तो बता दें कि‍ आप यहां रि‍स्‍क को भी अपने हि‍साब से मैनेज कर सकते हैं। जैसे यहां तीन कैटेगि‍री हाई रि‍स्‍क, मीडि‍यम रि‍स्‍क और लो रि‍स्‍क। ऐसे में अगर आप म्यूचुअल फंड लेते समय हाई रि‍स्‍क का ऑप्‍शन चूज करेंगे तो आपको रि‍स्‍क बहुत ज्‍यादा होगा।

लेकि‍न इसमें फायदा यह है कि‍ आपको अगर फायदा हुआ तो रि‍टर्न भी ज्‍यादा मि‍लेगा। ऐसे ही अगर आप मीडि‍यम रि‍स्‍क का ऑप्‍शन चूज करेंगे तो आपको मीडि‍यम लेवल का जोखि‍म उठाना पड़ेगा वहीं, आपको रि‍टर्न पर फायदा भी मीडि‍यम लेवल का ही मि‍लेगा। इसके अलावा लो लेवल रि‍स्‍क जोन में भी अगर आप मि‍नि‍मम रि‍स्‍क का ऑप्‍शन चुनते हैं तो आपको रि‍टर्न भी मि‍नि‍मम ही मि‍लेगा। ऐसे में म्यूचुअल फंड में आप अपना रि‍स्‍क जोन खुद सेलेक्‍ट कर सकते हैं।

लि‍क्‍वि‍डि‍टी का ऑप्‍शन 
जब आप एक म्यूचुअल फंड में निवेश करते हैं तो आपके पास दो विकल्प होतेे हैं। इसमें एक ऑप्‍शन है कि‍ आप रेगुलर फंड में निवेश करें और दूसरा यह है कि‍ आप टैक्‍स सेवर फंड में नि‍वेश करें।

इन दोनों में अंतर यह है कि रेगुलर फंड में नि‍वेश शुरू करने के कुछ महीने बाद ही आप रकम नि‍कलना शुरू कर सकते हैं। जबकि टैक्‍स सेवि‍ंग फंड में 3 साल का लॉकइन पीरि‍यड होता है। उस लॉकइन पीरि‍यड से पहले आप इस फंड में से नहीं नि‍काल सकते हैं।

टैक्‍स सेविंग फंड 
टैक्‍स सेविंग म्यूचुअल फंड इनकम टैक्‍स अधिनियम की धारा 80 सी के तहत निवेश पर आयकर में छूट का फायदा भी देता है। इसका मतलब है कि ऐसे म्यूचुअल फंड में निवेश पर आप आयकर की छूट ले सकते हैं।

अपनी पसंद का चुनें प्‍लान 
सभी म्यूचुअल फंड निवेशक जो हाई, मीडि‍यम या फि‍र लो रि‍स्‍क वाले फंड चूज करते हैं। वे पैसे के रि‍टर्न को देखते हुए ही इन्‍हें चुनते हैं। इसका मतलब है कि वे या तो एक ऐसा फंड चुन सकते हैं जहां कम समय में अच्‍छा रि‍टर्न मि‍ल जाए। वहीं, दूसरी ओर वे लंबी अवधि को चुनते हैं जहां लंबे समय में प्‍लानि‍ंग के साथ पैसे को इनवेस्‍ट कि‍या जा सके

इस कमेंट्स बॉक्स में ✓ Notify me क्लिक करले हम अगले 48 घंटे में आपकी Information इसी साइट पर देने का प्रयास करेगे...विज्ञापन कमैंट्स ना करे अन्यथा 1 घंटे के अंदर हटा दी जाएगी विज्ञापन चार्ज पे कर अपना ads दिखाए Top.HOWFN साइट पर

www.CodeNirvana.in

Copyright © kaise hota hai, how to, mobile phones price in hindi, keemat kya hai | Contact | Privacy Policy | About me