यहाँ क्लिक कर मेक इंडिया सब्सक्राइब जरूर करे
फेसबुक पर अक्सर फर्जी अकाउंट facebook par likes kaise badhaye के लिए फ़र्ज़ी ac बनाने के मामले सामने आते हैं भारत में इस तरह की घटनाएं कुछ ज्यादा ही होती है जहां फर्जी अकाउंट के माध्यम से तरह-तरह के अपराध होते हैं। अब फेसबुक की रिपोर्ट के मुताबिक उस पर 20 करोड़ अकाउंट फर्जी या नकली हो सकते हैं

यह आंकड़ा दिसंबर 2017 तक का है। भारत उन देशों में हैं, जहां ऐसे अकाउंट की संख्या अधिक है। फेसबुक द्वारा जारी अपनी सालाना रिपोर्ट में कहा गया है कि फर्जी या नकली अकाउंट फेसबुक के मासिक सक्रिय यूजर्स का दस प्रतिशत है। इनमें ज्यादा डेवलप्ड मार्केट्स की तुलना में भारत, इंडोनेशिया जैसे देशों में इन फर्जी अकाउंट्स की संख्या ज्यादा है

 बता दें कि फेसबुक के मासिक सक्रिय यूजर्स की संख्या 2.13 अरब है। यह 31 दिसंबर 2016 की तुलना में 14 प्रतिशत अधिक है। 31 दिसंबर 2016 को एमएयू की संख्या 1.86 अरब थी, जिसमें 6 प्रतिशत यानी 11.4 अरब फर्जी अकाउंट्स थे।

"फेसबुक" में फेक आईडी का कैसे पता लगाये.. जाने पूरी डिटेल से, साथ ही जाने

> फेक आईडी पकड़ने के लिए खास मोबाइल एप्लीकेशन..

> फेक आईडी वालों से जुड़ने के क्या हो सकते हैं नुक्सान..

तो चलिए आपको पूरी तहकीकात के बाद फर्जी आईडी पकड़ने के मुख्य और संछेप में अलग-अलग तरीकों से रूबरू --

1.प्रोफाइल पिक्चर - कोई भी रियल अकाउंट वाले की कम से कम 2 या तो उससे ज्यादा अपनी असली तस्वीरें फेसबुक पर लगते हैं. यदि आपको कोई फ्रेंड-रिक्वेस्ट आती है तो सबसे जरूरी है कि आप अनजान व्यक्ति की प्रोफाइल चेक करें। यदि उसके फोटो पर आपको शक है तो..

> उस फोटो को सेव करें..

> फिर images.google.com में जाकर वो फोटो को ड्रॉप कर दें। यदि आपको वो गूगल पर वो फोटो मिलती-जुलती अलग-अलग वेबसाइट पर दिखे तो वह फेक है...

2. स्टेट्स अपडेट भी बयां करता है बहुत कुछ - फेक आईडी वालों की सबसे बड़ी पकड़ यह है ये लोग लम्बे समय तक अपना स्टे्टस अपडेट नहीं करते हैं. और यदि करते भी हैं तो गौर करिए लाइक,कमेंट वाले सिर्फ male है या कुछ फीमेल भी है.. यदि हर स्टेटस पर सिर्फ male मित्र की ही एकटीविटी दिखती है तो भी ये फेक हो सकता है...

5. अबाउट तो देखना ही चाहिए:- इन सब हथियारों पर किसी आईडी को परखने के बाद आपको उस फेक लगने वाली आईडी का "अबाउट" पेज देखना चाहिए। अगर यूजर ने अपनी स्कूल, कॉलेज, काम की जगह, रहने का स्थान जैसी जानकारियां नहीं दे रखीं हैं और डेटिंग ऑप्शन को ऑन किया हुआ है और महिला, पुरूष दोनों में इंट्रेस्टेड है, तो यह भांपने में देर नहीं लगानी चाहिए कि वह आईडी फर्जी या फेक है।

6. प्रोफाइल को ध्यान से पढ़ें: जो लोग फेक अकाउंट बनाते हैं, उनकी प्रोफाइल में या तो एजुकेशन डिटेल्स होती ही नहीं है या फिर किसी ऊंचे संस्थान का नाम दिया होता है. उदाहरण के तौर पर अगर कोई 24 साल का व्यक्ति दावा करता है कि वो किसी कंपनी का CEO है, तो यह अकाउंट फेक हो सकता है. ऐसे लोगों से बचना चाहिए.

7. फ्रेंड लिस्ट में भी रहती है जानकारी :- फेक फेसबुक आईडी की पहचान में उसकी फ्रेंड लिस्ट भी काफी मदद करती है। अगर संभावित आईडी के फ्रेंड्स में अपोजिट सेक्स के लोग बहुत ज्यादा हैं, तो समझा जाता है कि वह फेसबुक अकाउंट फर्जी है। विपरीत लिंग के लोगों का किसी प्रोफाइल में ज्यादा जुड़ा होना यह भी बताता है कि वह या तो मजे के लिए बनाया गया आईडी है या फिर डेटिंग के लिए लोगों को फांस रहा है।

8.फर्जी फेसबुक अकाउंट्स की सबसे कॉमन या आम हरकत यह होती है कि ये लोग जन्म दिनांक एक ही तरह से यूज करते हैं। जैसे कि 1-1-1990/1996 इत्यादि या फिर 31-12-1990/1996 इत्यादि। ऎसा करने की वजह होती है जो फर्जी जन्म दिनांक उन्होंने यूज करी है वह उनको याद रहे। और इसके हिसाब से वे अपनी उम्र कम ज्यादा करके बताकर लोगों को फंसा सके।

9.फेक आईडी में एक ही जेंडर के अधिकतर मित्र होते हैं..

कोई भी सवाल पूछे ?.या Reply दे

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..