Featured Posts

दाऊद इब्राहिम कैसे बना डॉन जीवन परिचय पूरी कहानी history dawood ibrahim daughter hindi

गूगल इस APP से जीते लाखो यहाँ से डाउनलोड करे
India Most wanted दाऊद के आपराधिक जीवन की शुरुआत एक बिजनेसमैन के साथ लूटपाट से हुई जिसमें उसे जेल जाना पड़ा. इसके बाद से दाऊद मुंबई के अंडरवर्ल्ड डॉन करीम लाला के गैंग के लिए काम करने लगा, लेकिन धीरे-धीरे उसकी राह अलग होती गई. वह अपने भाई के साथ अलग गैंग चलाने लगा.

Most wanted india आतंकी dawood ibrahim फिर चर्चा में है. मोदी सरकार ने फिर दोहराया है कि दाऊद पाकिस्तान में ही है और उसे हर हाल में वापस लाया जाएगा. इससे पहले कांग्रेस सरकार ने भी ऐसे ही दावे किए थे. पर दाऊद कहां है, इसकी पुख्ता जानकारी किसी के पास नहीं है. कभी मुंबई का सरताज रहे दाऊद इब्राहिम के डॉन बनने की क्या है कहानी, आपको बताते हैं.

दाऊद इब्राहिम का जन्म महाराष्ट्र के रत्नागिरी शहर में हुआ था. सीबीआई के मुताबिक दाऊद की लंबाई पांच फुट चार इंच है और उसकी बाईं भौं पर तिल है. शानदार पार्टियों का शौकीन दाऊद में बचपन से ही जल्द से जल्द पैसा कमाने की ललक थी. इसके लिए उसने गलत रास्ता चुना.

दाऊद के पिता इब्राहिम कासकर मुंबई पुलिस में कांस्टेबल थे और उनके 7 बेटे और 3 बेटियां थीं. सबसे बड़ा साबिर था और दाऊद दूसरे नंबर पर था. दाऊद इब्राहिम ने 9वीं के बाद से ही स्कूल छोड़ दिया था. पैसे की ललक में उसका मन आपराधिक गतिविधियों में लगने लगा.

1980 के दशक में दाऊद का नाम मुंबई अपराध जगत में बहुत तेज़ी से उभरा. उसकी पहुंच फिल्म जगत से लेकर सट्टे और शेयर बाज़ार तक थी. करीम लाला और हाजी मस्तान जैसे डॉन पुराने हो चुके थे और उनका दौर खत्म हो रहा था.

ऐसे वक्त पर दाऊद इन दोनों की जगह ले रहा था. उसका काम था धमकी देकर फिरौती वसूल करना. वह मुंबई पुलिस की नजरों में चढ़ चुका था और उसका जेल आने-जाने का सिलसिला शुरू हो गया. मुंबई में उसका खौफ काम कर रहा था और वह करोड़ों में खेल रहा था.
इसी दौरान मान्या सुर्वे नाम का एक और डॉन तेजी से उभरा जिसने दाऊद को चुनौती देनी शुरू कर दी. सुर्वे का एनकाउंटर 11 जनवरी 1982 को उस समय के एसीपी इसाक बागवन ने किया था. मान्या की मौत दाऊद के लिए राहत और सुकून भरी खबर थी.

Indian Police के मुताबिक दाऊद इब्राहिम विदेश में बैठे हुए भी भारत में कई वारदातों को अंजाम देने का सिलसिला जारी रखे हुआ था. उसका नाम किसी न किसी शक्ल में आत ही रहा. हर बड़ी वारदात में दाऊद का नाम सामने आने लगा. 1993 मुंबई ब्लास्ट पूरा देश हिल उठा था. जांच के बाद सामने आया कि इसमें दाऊद का हाथ है. दंगे का प्रतिशोध के लिए दाऊद ने ही पाकिस्तान के

इस कमेंट्स बॉक्स में ✓ Notify me क्लिक करले हम अगले 48 घंटे में आपकी Information इसी साइट पर देने का प्रयास करेगे...विज्ञापन कमैंट्स ना करे अन्यथा 1 घंटे के अंदर हटा दी जाएगी विज्ञापन चार्ज पे कर अपना ads दिखाए Top.HOWFN साइट पर

www.CodeNirvana.in

Copyright © kaise hota hai, how to, mobile phones price in hindi, keemat kya hai | Contact | Privacy Policy | About me