Latest

इनके श्राप के कारण अलग हुए थे राम और सीता..Ram And Sita Breakup Story


हम यह सुनते आये हे की कैकेयी के कारण राम और सीता को 14 साल का वनवास मिला था और बाद में रावण सीता का अपहरण करके ले गया. जिसकी वजह से राम को सीता का वियोग सहना पड़ा. लेकिन इसके पीछे का असली कारण कुछ और ही हे वो हे भगवान नारद मुनि का श्राप. आईये जानते हे पूरी कहानी. 
कथाओं के अनुसार एक बार नारद जी को एक कन्या पसंद आ गयी थी. नारदजी उस कन्या से शादी करना चाहते थे. खुद के उस कन्या के जितना सुंदर बनाने के लिए भगवान विष्णु के पास गए और कहा की मुझे एक वरदान चाहिए. नारदजी ने विष्णुजी को प्पुरी बात बताये बिना ही कहा की मुझे हरि जैसी छवि दे दीजिये. 

यह भी पढ़े जानिये बुखार की आम दवा पैरासिटामोल के बारे में और इसके नुकसान

एक हरि का मतलब होता हे भगवान विष्णु खुद और दुसरे हरी का मतलब होता हे वानर. नारदजी ने हरिमुख माँगा और भगवान ने हरीमुख यानी वानर का मुख दे दिया. जब उस मुख के लेकर वे स्वंयवर में पहुंचे तो लोगों ने उनका काफी मजाक उड़ाया. इस से क्रोधित होकर नारद मुनि ने भगवाण विष्णु को श्राप दिया की आपको भी एक समय देवी लक्ष्मी से दूर रहना पड़ेगा और आपका मिलाप भी एक वानर ही कराएगा.

आपने देखा ही होगा भगवान विष्णु और लक्ष्मी ने सतयुग में राम और सीता का अवतार लिया था. फिर सीता के अपहरण के बाद राम को वियोग सहना पड़ा था. हनुमान के कारण सीता का राम से मिलाप हुआ था.
जानकारी पसंद आई बेहतर करने सुझाव कमैंट्स करे या हमारे बारे में जाने Click me
Please SHARE Whatsapp

0 Response to "इनके श्राप के कारण अलग हुए थे राम और सीता..Ram And Sita Breakup Story "

Post a comment

Iklan Atas Artikel

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Widgets