कहानी घटिया सोच वाले लोगों की..A Negative People Story in Hindi


चील का एक अंडा मुर्गी के घोंसले में रखा गया था. समय आने पर वो अंडा फूटा और उसमे से निकला चील का बच्चा, लेकिन खुद को चूजा मानते हुए पलने लगा. चील का बच्चा वही करता जो मुर्गी को करते देखता. वह कूड़े में से खाने के दाने ढूंढता, मुर्गी की तरह बांग देता और हर काम उसी की तरह करता. वह कभी भी थोड़ी से ऊंचाई से ज्यादा उड़ नहीं पाया क्योकि मुर्गी भी ऐसा ही करती थी. उसने एक दिन आसमान में एक चील को बड़ी शान से उड़ते देखा. उसमे मुर्गी से पूछा “कोन हे वो सुंदर चिड़िया??” मुर्गी ने जवाब दिया “वह चील हे, वह एक तेज तर्रार चिड़िया हे. लेकिन तुम उसकी तरह कभी भी आसमान में नहीं उड़ सकते क्योकि तुम एक मुर्गी हो. इस तरह वो चील का बच्चा कभी उड़ने के बारे में सोच भी नहीं सका. वह एक मुर्गे की तरह ही सारा जीवन जिया और मरा भी वैसे ही. अपनी समझ और दूर की ना सोचने के अभाव से उसने खुद को अपने पैदाइशी गुणों से महरूम रखा. उसे कितना बड़ा नुकसान हुआ. वह जितने के लिए पैदा हुआ था, लेकिन दिमागी रूप से हार के लिए तैयार हुआ था.
यही बात ज्यादातर लोगों पर भी लागु होती हे. ज्यादातर लोग अपने दिलो में कुछ करने की चाह लिए ही मर जाते हे. हम अपनी ही दूरदर्शिता की कमी की वजह से बेहतरी हासिल नहीं कर पाते हे. अगर आप भी चील की तरह आसमान में उड़ना चाहते हे तो आपको भी चील के तोर-तरीकों को सीखना होगा. अगर आप कामयाब लोगों की संगत में रहते हे तो आप भी उनकी तरह की बनेंगे. अगर आप सोच-विचार करने वाले लोगो के बिच में रहेंगे तो उनमे से ही एक बनेंगे. अब चुनाव आप पे हे जीतकर दुनिया को दिखाना हे या हारकर छुप जाना हे.

0 Response to "कहानी घटिया सोच वाले लोगों की..A Negative People Story in Hindi"

Post a Comment

Iklan Atas Artikel

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Iklan Bawah Artikel