किसी को अपने वश में करना हो तो जानें यह मंत्र दर्शनशास्त्र philosophy

आचार्य चाणक्य कहते हैं - कुछ बातें ऐसी हैं जो पैसों से प्राप्त नहीं होती है इस श्लोक का अर्थ है कि संतोष रूपी अमृत सभी को प्राप्त नहीं होता है। chanakya quotes in hindi for success suvichar in hindi by swami vivekananda chanakya quotes on love anmol vachan in hindi swami vivekananda good quotations in hindi chanakya quotes on politics chanakya in hindi chanakya arthashastra
"संतोषामृततृप्तानां यत्सुखं शान्तिरेव च। 
न च तद्धनलुब्धानामितश्चेतश्च धावताम्।। 
जिन लोगों के पास संतोष है उन्हें ही सच्चा सुख और शांति प्राप्त होती है। इसके विपरित लोभी लोगों को संतोष प्राप्त नहीं होता है। आचार्य चाणक्य कहते हैं कि जो लोग जीवनभर पैसों के पीछे भागते रहते हैं, सिर्फ धन के विषय में सोचते हैं उन्हें संतोष की प्राप्ति कभी नहीं होती। जिन लोगों के जीवन में संतोष नहीं होता है उन्हें कभी मानसिक शांति नहीं मिलती और वे सदैव बैचेन ही रहते हैं। धन के लालच में हर समय दौड़-धूप करने वाले लोग ना ही सुख प्राप्त कर पाते हैं और ना ही शांति।

0 Response to "किसी को अपने वश में करना हो तो जानें यह मंत्र दर्शनशास्त्र philosophy"

Post a Comment

Thanks for your valuable feedback.... We will review wait 1 to 2 week 🙏✅

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Follow on