What is rotavirus
कया है रोटा वायरस
यह वायरस सभी सामाजिक आर्थिक वर्गों की आबादी को प्रभावित करता है तथा औधौगिक और विकासशील देशों में एक समान रूप में पाया जाता है। जलापूर्ति में अंतर से रोटा वायरस संक्रमण पर प्रभाव नहीं पड़ता। इलेक्ट्रॉनिक माइक्रोस्कोप से देखने पर यह वायरस गोलाकार चक्र जैसा दिखाई देता है जिसके कारण इसका नाम रोटावायरस रखा गया है।
रोटा वायरस से होने वाले दस्तों का कारण पेट और आंतों का संक्रमण है। जब बच्चे अपनी सफाई पर ध्यान नहीं देते तो वह इससे संक्रमित हो जाते हैं। यह वायरस आपीे संपर्क या हवा के द्वारा फैलता है। इस से बच्चों को आमतौर पर हल्के दस्त लगते हैं और वह बिना किसी इलाज के 3 से 5 दिन में ही ठीक हो जाते हैं लेकिन छोटे बच्चे खासतौर पर जो 2 साल से छोटे हैं उनके शरीर में पानी की कमी का खतरा पैदा हो जाता है। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि वह पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन करें।


आंत्र शोध के गंभीर मामलों में जिन में पानी की कमी बहुत ज्यादा हो जाती है अस्पताल में इलाज करवाना जरूरी है। ताकि डिरिप के जरिए पानी की कमी को पूरा किया जा सके। रोटा वायरस का संक्रमण बहुत गंभीर होता है। यही कारण है कि इस तरह के संक्रमण बूढ़े व्यक्तियों में बहुत कम पाए जाते हैं। अनुमान है कि 5 साल की उम्र तक हर बच्चे को कम से कम एक बार रोटा वायरस का संक्रमण होता है। ज्यादातर यह संक्रमण 3 महीने से लेकर 3 वर्ष की उम्र तक होता है

check que?.ans

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..