अपने बच्चों को जरुर सिखाएं यह बातें..Teach To Your Children - Top.HowFN.com

अपने बच्चों को जरुर सिखाएं यह बातें..Teach To Your Children

बच्चों की अच्छी परवरिश में पेरेंट्स की महत्वपूर्ण भूमिका होती हे. कहते हे बच्चे कच्ची मिटटी की तरह होते हे, उन्हें जिस तरह ढाला जाये, वे उसी तरह ढल जाते हे. इसलिए उन्हें बचपन से ही अच्छी बातें सिखा देनी चाहिए, जो उनके स्वस्थ व्यक्तित्व निर्माण में काम आ सके. आईये जानते हे कुछ बातें जो अपने बच्चो को जरुर सिखानी चाहिए. 
Teach To Your Children

1. टाइम मैनेजमेंट
अपने बच्चो को टाइम मैनेजमेंट के बारे में बताएं, जो उनके भविष्य के लिए बहुत फायदेमंद होगा. कौनसा काम पहले निपटाना हे, कीतने टाइम में करना हे, सोने-पीने आदि सबका टाइम तय करें और उन्हें टाइम मैनेजमेंट के बारे में बताएं.

2. मनी मैनेजमेंट
अपने बच्चों को मनी मैनेजमेंट के बारे में समझाना बहुत जरुरी हे, इससे उन्हें बचपन से ही सेविंग और फिजूलखर्ची का अंतर समझ आ सकें और वे भविष्य में फिजूलखर्च करने से बचें. उन्हें short term investment करना सिखाएं. 

यह भी पढ़े कहानी ज्यादा लालच बुरी बला हे

3. रिलेशनशिप मैनेजमेंट

बच्चों के सामाजिक और भावनात्मक विकास में रिलेशनशिप की महत्वपूर्ण भूमिका होती हे. इसलिए अपने बच्चों को रिलेशनशिप के बारे में समझाएं. उन्हें अपने फॅमिली मेम्बर और फ्रेंड्स से परिचित कराएँ. उनके साथ ज्यादा टाइम बिताएं. बच्चों को सोशल गतिविशियों में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करें.

4. सेल्फ कण्ट्रोल
सेल्फ कण्ट्रोल के जरिये बच्चे वर्तमान में ही नहीं, भविष्य में भी अनेक पर्सनल और प्रोफेशनल प्रॉब्लम को नजरंदाज कर सकते हे. बच्चों को घर की छोटी-छोटी जिम्मेदारियां सौंपे. उनकी सीमाएं तय करें. उन्हें अनुशासन में रहना सिखाएं.

5. सोशल मीडिया अलर्ट
टेक्नोलॉजी के बढ़ते प्रभाव से बच्चे अछूते नहीं हे, इसलिए पेरेंट्स की जिम्मेदारी बनती हे की बच्चो की सोशल मीडिया से जुडी गतिविधियों पर पैनी नजर रखें. वे क्या पोस्ट कर रहे हे, किससे बात कर रहे हे. सोशल साइट्स पर उन्हें कोई परेशान तो नहीं कर रहा हे. सोशल मीडिया पर अधिक समय बिताने से बच्चे के मूड पर भी नकारात्मक असर पड़ता हे. इसलिए उनके लैपटॉप, टेबलेट, मोबाइल का टाइम तय करें. थोड़े-थोड़े टाइम बाद पासवर्ड बदलते रहें.

0 Response to "अपने बच्चों को जरुर सिखाएं यह बातें..Teach To Your Children"

Post a comment

Iklan Atas Artikel

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Iklan Bawah Artikel