how to make perfect body tips in hindi उत्तम स्वास्थ्य पाने के लिए खोज रहे है आप को ये याद दिलाये देता हू कभी कोई दवाई (गोली tablets) उतम सेहत नहीं बना सकती जब तक आप सही खान पान पर ध्यान नहीं देंगे

खनिज-विटामिन्स... के बिना सेहतमंद जिं़दगी की कल्पना भी नहीं की जा सकती। अच्छी बात है कि फल, सब्ज़ी, दूध जैसी जो चीज़ें हमारे खानपान का ज़ायका बढ़ाती हैं, वही इन दो तरह के अहम पोषक तत्वों की नेमत भी देती हैं। तो स्वाद पाइए और स्वस्थ भी रहिए

इनकी कमी से आती है कमज़ोरी (body weakness in hindi)
  1. कैल्शियम- दांतों व हडि्डयों को मज़बूती देता है और पेिशयों की सक्रियता बढ़ाता है। कमी से कमज़ोर दांत, शरीर या जोड़ों में दर्द, खिंचाव होता है, इसलिए दूध, दही, पनीर, रागी, हरी पत्तेदार सब्जि़यां, अनाज, खड़ी व अंकुरित दालों का सेवन करें।
  2. आयरन- विभिन्न अंगों तक ऑक्सीजन पहुंचाने वाले हीमोग्लाबिन का प्रमुख घटक है। इसकी कमी से कार्यक्षमता घटना, चिड़चिड़ापन, भूख में कमी व थकावट होती है। हरी पत्तेदार सब्जि़याें, अंकुरित दाल, पोहा, मुरमुरे, भुने चने व अंडे का सेवन करें।
  3. सोडियम- पीएच लेवल बनाए रखने, इलेक्ट्रोलाइट संतुलित करने, ब्लड प्रेशर नियमित करने व मसल्स कॉन्ट्रेक्शन में मदद करता है। इसकी पूर्ति नमक, दूध, हरी सब्जि़याें व खरबूजे से होती है
थोड़े ही, पर हों सही
आयोडिन- मस्तिष्क और थायरॉइड ग्रंथि की कार्यशीलता के लिए ज़रूरी है। इसकी कमी से थायरॉइड का आकार बढ़ जाता है और याद्‌दाश्त में कमी व पाचन में गड़बड़ी जैसे लक्षण उभरते हैं, इसलिए भोजन में सी-फूड व आयोडिन युक्त नमक शामिल करें।
पोटेशियम- पीएच लेवल संतुलित और रक्तचाप नियमित रखता है। इसके अभाव में सुस्ती या पेिशयों में खिंचाव होता। पूर्ति के लिए केला, आलू, मशरूम आदि का सेवन करें।
मैग्नीशियम- इसकी कमी से सिरदर्द, अनिद्रा, अचानक वज़न बढ़ने या घटने जैसे संकेत मिलते हैं। सी-फूड, अखरोट, कद्दू के बीज व हरी पत्तेदार सब्ज़ियाें में पाया जाता है।
फाॅस्फोरस- हड्डियों-दांतों की मज़बूती के लिए आवश्यक। आहार में इसकी मात्रा ठीक रखने के लिए बादाम, दूध, अंडे, ओट्स व मछली का सेवन करें

वसा ज़रूरी पर थोड़ी-सी fat increase - शरीर को ऊर्जा वसा से भी मिलती है। ये दो प्रकार की होती है - संतृप्त वसा (सैचुरेटेड) व असंतृप्त वसा अनसैचुरेटेड  (यहाँ क्लिक कर जाने 17 खाना मोटा होने के लिए ये आसान तरीके Increase Body Fat)

संतृप्त वसा मुख्यत: घी, मक्खन, मलाई, नारियल तेल एवं वनस्पति से मिलती है। वनस्पति हानिकारक वसा है। इसका इस्तेमाल बिस्किट, पिज़्ज़ा जैसी बाज़ार की चीज़ों में होता है। यह शरीर में कोलेस्ट्रॉल बढ़ाती है। इसका सेवन न के बरबार होना चाहिए। वहीं, तेलों व गिरी (नट्स) से मिलने वाली असंतृप्त वसा स्वास्थ्य के लिए अच्छी है। वसा विटामिन ए, डी, ई व के को शरीर में अवशोषित करने और एक से दूसरे स्थान पर ले जाने में सहायक होती है। यह शरीर में विभिन्न द्रव बनाने में काम आती है व अंगों के आसपास इकट्‌ठा हो उन्हें सुरक्षा देती है 

check que?.ans

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..