आईएएस की तैयारी कैसे करें आईपीएस बनने के लिए - Top.HowFN

आईएएस की तैयारी कैसे करें आईपीएस बनने के लिए


आज के इस दौर में हर कोई सरकारी नौकरी पाना चाहता है। सरकारी नौकरी कोई भी हो, उससे रिलेटेड एग्जाम में पास होने के लिए आपको खास तरह की तैयारी करनी होती है। ऐसे में तैयारी के मूल-मंत्र को गहराई से समझना हर विद्यार्थी के लिए बहुत ही जरूरी है।आज हम आपको कुछ ऐसे ही तैयारी करने के टिप्स बता रहें हैं अगर आप कोई भी सरकारी नौकरी को हासिल करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको प्रतियोगी परीक्षा पास करना जरूरी है,जैसे यूपीएससी आईएएस आईपीएस आईएफएस । सभी जगह प्रतियोगिता परीक्षा में बहुत कम्पटीशन है।अगर आप ऐसे में सफल होना चाहते हो, तो इन परीक्षाओं में शामिल होने वाले परीक्षार्थियों के लिए एक सही दिशा में तैयारी करना बेहद जरूरी है।

टाइम मैनेजमेंट प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी में टाइम मैनेजमेंट का किरदार काफी अहम होता है। यह तय कर लें कि क्या पहले पढ़ना है और क्या बाद में। एग्जाम के दौरान भी निश्चित कर लें कि किस सेक्शन पर कितना टाइम देना है। इससे सभी प्रश्नों को पूरा समय दे पाने में आसानी होगी।

स्पीड पर ध्यान दें
एग्जाम की तैयारी से लेकर एग्जाम हॉल में प्रश्नों को हल करते समय स्पीड मेंटेन रखें, वरना आखिरी वक़्त में प्रश्नों के छूटने की आशंका बनी रहेगी। स्पीड हासिल करने के कई तरीके हो सकते हैं, जैसे स्पीड टेस्ट देना या घर पर नियत समय के भीतर सैंपल पेपर हल करने की प्रैक्टिस करना आदि। जिन प्रश्नों में दिक्कत महसूस हो रही हो, उन्हें छोड़कर आगे बढ़ जाएं। बाद में उन्हें हल करें।

मॉडल पेपर की प्रैक्टिस
मॉडल पेपर की प्रैक्टिस करने से आपको अपनी खामियों का पता लगेगा और समय रहते आप उन्हें दूर कर पाएंगे। मॉडल टेस्ट पेपर सॉल्व करने से आपको अपनी तैयारी का भी आकलन हो जाता है। तैयारी के आखिरी दिनों में कोशिश करें कि रोजाना एक सैंपल पेपर तय वक़्त में जरूर हल करें।

निगेटिव मार्किंग का खास ध्यान रखें
ऑब्जेक्टिव टाइप ज़्यादातर परीक्षाओं में गलत उत्तर दिए जाने पर निगेटिव मार्किंग का प्रावधान होता है। सिर्फ उन्हीं सवालों का जवाब दें, जिनके जवाब आपको अच्छे से आते हैं। जिन सवालों के जवाब को लेकर कोई परेशानी हो, उन्हें हल करने में समय न गवाएं।

विषयों की तैयारी
हर विषय के लिए एक अलग टाइम रखकर उनकी तयारी करें
जैसे मैथ्स के लिए एक घंटा या उससे ज्यादा जिस विषय में आपको लगे की आप कमज़ोर हो उस पर ही ज्यादा ध्यान दें । मैथ्स के फार्मूले रटने के बजाय उनकी प्रैक्टिस करके उन्हें समझने की कोशिश करें । साइंस के सूत्र को ध्यान से पढ़कर याद रखिये ।

रीजनिंग : पेपर के इस भाग को स्कोरिंग माना जाता है, मगर इसके सवाल समय भी ज्यादा लेते हैं। अमूमन सभी सवाल तार्किक होते हैं। इसलिए आपको अलग-अलग तरह से सोचने की क्षमता का विकास करना होगा । ऐसे सवालों की ज्यादा से ज्यादा प्रैक्टिस करें।


करंट अफेयर्स : यह सामान्य ज्ञान पर डिपेंड करता है इसमें आपसे हाल ही की हुई घटनाओं के बारे में मौजूदा मंत्री के बारे में पूछा जाता है ।इसकी तैयारी करने के लिए आपको न्यूज़ पेपर पढना चाहिए या टीवी देखना चाहिए ।

जनरल स्टडीज : जनरल नॉलेज का दायरा काफी बड़ा है। इस वजह से इसकी तैयारी के लिए विशेष ध्यान देने की जरूरत है। प्रश्नों में इतिहास, भूगोल, पॉलिटी, वैश्विक कीर्तिमान, महत्वपूर्ण दिवस, वैज्ञानिक पक्षों आदि के प्रश्न आते हैं।

लिखित परीक्षा
यूपीएससी, स्टेट पीसीएस, एसएससी और कई अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं में लिखित परीक्षा से भी गुजरना पड़ता है। इसके लिए तैयारी के दौरान ही आपको पढ़ने के साथ-साथ लिखने का भी भरपूर अभ्यास करना चाहिए। राइटिंग के अभ्यास से तय समय में प्रश्नों के पूरे उत्तर लिखने की क्षमता बढ़ेगी। लिखित परीक्षा की तैयारी में राष्ट्रीय समाचार-पत्र, स्तरीय प्रतियोगिता पत्रिकाएं, एनसीईआरटी की 12वीं तक की पुस्तकें तथा विषय से संबंधित अन्य पुस्तकें काफी मददगार साबित होंगी। गौर करें :

नोट्स बनाकर पढ़ें - छोटे-छोटे नोट्स बनाकर भी रखें, ताकि इसकी सहायता से आखिर में रिवीजन कर सकें।
शब्द संख्या - उत्तर के लिए निर्धारित शब्द संख्या और अंक का ध्यान रखें। अगर कोई प्रश्न कम अंक का है और संबंधित विषय के बारे में काफी जानकारी रखते हैं, तो उत्तर में ज्यादा बातें लिखने की बजाय महत्वपूर्ण बातें ही लिखें। ऐसा न करने पर अन्य प्रश्नों के लिए आपके पास समय नहीं बचेगा।

भाषा शैली - प्रश्नों के जवाब लिखते समय शब्दों के प्रयोग पर खास ध्यान दें। उन्हीं शब्दों का प्रयोग करें, जो आम प्रचलन में हों। वाक्य अधिक लंबे न लिखें।

क्रमबद्धता पर गौर करें - अगर किसी उत्तर में आंकड़ों और ब्योरों का इस्तेमाल करना हो, तो उनकी क्रमबद्धता और सिलसिलेवार प्रस्तुति का ध्यान रखें।

इंटरव्यू
इंटरव्यू के दौरान कैंडीडेट को पूरी तरह से आकलन किया जाता है कि क्या वह वाकई उस पद के लिए योग्य है। इसमें खासकर एकेडमिक कॅरियर, जनरल नॉलेज, लीडरशिप, टीम वर्क आदि गुणों को परखा जाता है। इसके अलावा पर्सनैलिटी पर भी खास ध्यान दिया जाता है। बेहतर होगा कि आप तैयारी के दौरान समय-समय पर दोस्तों या सीनियर के साथ मॉक इंटरव्यू देते रहें।
परीक्षा से एक दिन पहले

सिर्फ नोट्स को दोहराएं। तैयारी के दौरान जिन चीजों को आपने नहीं पढ़ा, उन्हें न पढ़ें। चैप्टर्स के जिन हिस्सों में आपका कॉन्फिडेंस लेवल कम है, उन्हें फिर से दोहराएं।

आपने परीक्षा के लिए जो तैयारी की है, उसे जांचने के लिए आपको मॉडल पेपर से अभ्यास करना चाहिए।
ias kaise bane ias kaise bane in hindi ias kaise bane book आईएएस की तैयारी कैसे करें आई ए एस की तैयारी कैसे करे आईएएस का सिलेबस आईएएस बनने के लिए आई ए एस पाठ्यक्रम how to prepare for ias prelims without coaching how to prepare for ias without coaching how to prepare for ias while working how to prepare for ias prelims in 2 months how to prepare for ias prelims how to prepare for ias in hindi how to prepare for ias mains how to prepare for ias prelims 2013

2 comments:

  1. Hame IPS banne ke liy kaon sa visy padna yoga

    ReplyDelete
  2. ips full form & mean - Indian Police Service

    Preliminary Examination in this two subject

    a)General Studies
    d)Optional Studies

    In this you can choose from psychology, Sociology, Philosophy, Agriculture,maths,Physics,chemistry,Stats etc....

    Preliminary Examination - Optional Subjects

    ReplyDelete

Powered by Blogger.