काली मिर्च के औषधीय गुण, लाभ kali mirch benefits chili - Top.HowFN

काली मिर्च के औषधीय गुण, लाभ kali mirch benefits chili

kali mirch ke fayde in urdu, kali mirch ke totke, kali mirch ke gun, hari mirch ke fayde in hindi, long ke fayde, kali mirch ke fayde in hindi, kali mirch khane ke fayde, kali mirch ke faide in urdu,
काली मिर्च एक ऐसा मसाला है जो स्वाद के साथ ही औषधिय गुणों से भी भरपूर है। इसे सलाद, कटे फल या दाल शाक पर बुरक कर उपयोग लिया जाता है। इसका उपयोग घरेलु इलाज में भी किया जा सकता है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कालीमिर्च के कुछ ऐसे ही रामबाण प्रयोग व फायदे
- त्वचा पर कहीं भी फुंसी उठने पर, काली मिर्च पानी के साथ पत्थर पर घिस कर अनामिका अंगुली से सिर्फ फुंसी पर लगाने से फुंसी बैठ जाती है।

- काली मिर्च को सुई से छेद कर दीये की लौ से जलाएं। जब धुआं उठे तो इस धुएं को नाक से अंदर खीच लें। इस प्रयोग से सिर दर्द ठीक हो जाता है। हिचकी चलना भी बंद हो जाती है।

- ब्लड प्रेशर लो रहता है, तो दिन में दो-तीन बार पांच दाने कालीमिर्च के साथ 21 दाने किशमिश का सेवन करें।
- काली मिर्च 20 ग्राम, जीरा 10 ग्राम और शक्कर या मिश्री 15 ग्राम कूट पीस कर मिला लें। इसे सुबह शाम पानी के साथ फंाक लें। बावासीर रोग में लाभ होता है।

- शहद में पिसी काली मिर्च मिलाकर दिन में तीन बार चाटने से खांसी बंद हो जाती है।

- आधा चम्मच पिसी काली मिर्च थोड़े से घी के साथ मिला कर रोजाना सुबह-शाम नियमित खाने से नेत्र ज्योति बढ़ती है।

- काली मिर्च 20 ग्राम, सोंठ पीपल, जीरा व सेंधा नमक सब 10-10 ग्राम मात्रा में पीस कर मिला लें। भोजन के बाद आधा चम्मच चूर्ण थोड़े से जल के साथ फांकने से मंदाग्रि दूर हो जाती है।

- बुखार में तुलसी, कालीमिर्च तथा गिलोय का काढ़ा लाभ करता है।

- चार-पांच दाने कालीमिर्च के साथ 15 दाने किशमिश चबाने से खांसी में लाभ होता है।

- कालीमिर्च सभी प्रकार के संक्रमण में लाभ देती है।

काली मिर्च खाने के बड़े ही फायदे हैं, (ब्लॅक पेपर)  के कई घरेलू नुस्खे और उपाय हैं, जिससे आपको कई बीमारियो और समस्याओं में  बहुत लाभ मिलता हैं.काली मिर्च के तीखे स्वाद के कारण इसका बहुत ही कम इस्तेमाल किया जाता हैं, लेकिन अनेक प्रकार की बीमारियो में काली मिर्च का इस्तेमाल घरेलू नुस्खे के तौर पर किया जाता हैं. पेट, स्किन और हड्डियो से जुड़ी प्रॉब्लम्स को डोर करने में काली मिर्च बहुत ज़्यादा असरदार होती हैं. आज जाँएंगे की इसका कैसे और कितनी मात्रा में इस्तेमाल करके रोगो को डोर किया जा सकता हैं.

पेट के कीड़े
पेट दर्द का कारण सिर्फ़ खराब ख़ान-पं ही नही होता हैं, बल्कि कीड़े भी इसकी वजह हो सकते हैं. इससे भूख कम लगती हैं और वजन तेज़ी के साथ घटने लगता हैं. इन्हे डोर करने के लिए च्छच्छ में काली मिर्च का पाउडर मिला कर पिए इसके अलावा काली मिर्च को किसमिस के साथ मिला कर खाने से भी पेट के कीड़े दूर होते हैं.

बवासीर में 
जंक फुड के कारण बवासीर की समस्या आजकल ज़्यादातर लोगो को रोग कर रही हैं. इससे छुटकारा पाने के लिए जीरा, काली मिर्च और चीनी या मिशरी को पीस कर एक साथ मिला ले. सुबह-शाम दो से टीन बार इसे लेने से बवासीर में राहत मिलती हैं.

गठिया रोग में लाभ
उम्र बढ़ने के साथ ही होने वाला गठिया रोग काली मिर्च का इस्तेमाल बहुत ही फयदेमंद होता हैं. इसे तिल के तेल में जलने तक गरम करे. उसके बाद इस तेल को ठंडा होने पर दर्द वाली जगह आदि पर लगाए आपको बहुत ही आराम मिलेगा.

सही मेटबॉलिज़म
काली मिर्च मेटबॉलिज़म को बेहतर बनती हैं. यह कॅलरी बर्न करने के साथ ही पेट के फट को भी कम करती हैं. मोटापे की समस्या में काली मिर्च बहुत ही फयदेमंद होती हैं. इससे पेट से जुड़ी कई सारी बीमारिया भी ठीक हो जाती हैं.

जुखाम में आराम
जुखाम होने पर दूध में काली मिर्च मिला कर हल्का गर्म करके पिए. Isse jukam mein rahat milegi. Khansi hone par bhi Kali Mirch ko Shahad ke saath mila kar chaate. Din mein teen-chaar baar aisa karne se Khansi door ho jati hain. Iska Teekha Swaad Jukaam mein band gale aur naak ki problem ko bhi door karta hain.

Daant Dard ko door kare

Kali mirch ka istemla daanto ke liye bhi faydemand hain. Iske rojana sewan se daant kharab hone ki samsya khatm hoti hain. Daant ke dard mein bhi kali mirch ka istemal bahut hi faydemand hain. Yeh skin ko bhi healthy banata hain. Ise khane se tavcha sambandhi kai saari bimariya door hoti hain.

Acidity se chhutkara

Kali Mirch ko Kale Namak ke saath Nimbu ke ras mein milaye aur is ras ko dheere-dheere piye. Acidity mein bahut had tak labh milta hain. Ek cup garam paani mein peesi huyi kali mirch aur Nimbu ka ras mila kar peene se gas ki shikayat door hoti hain.

Blood pressure control kare

Blood pressure ko control karne mein bhi kali mirch faydemand sabit hoti hain. Agar samsya badh rahi hain to aadha glass paani mein ek chhota chammach Kali mirch powder daal kar piye. Jald aaram milega.


Kali Mirch ke kuch Desi Nuskhe :-

1. Aankhon ki roshini ke liye :- Ek patashe mein 1-2 Kali mirch subah khali pet chaba kar khaye. Ek kilo chini ki chaar taar ki chashni bana kar usme 100gram Ghee, 25 gram Kali Mirch, 100 Gram Punarnava ki jad, 25 Gram Mulethi, 50 Gram Shatavari aur 50 Gram Triphala (Sabhi ka powder) milaye. Sharad purnima ki raat ko chandrma ki roshini mein ek thaali mein ise jamaye. Iske pees kaat le. Ek pees rojana 30 dino tak khaye. Aankhon ki roshini ke ilawa aankho se judi kai saari preshaniya door ho jayengi.


2. Cough, Khansi, dama aur kharash :- Ek chammach Shahad mein Adrak ka ras aur 4-5 Kali mirch pees kar milaye aur subah-shaam ko ise chaate. 10 Kali mirch, 10 patashe, 5 Tulsi ke patte, 1 Badi Elaichi aur thodi si Adrak ko pees kar 250 ml Paani mein dheemi aanch par ubaale. 200ml paani bachne par ise chhan le. Ab isme 2 chammach Shahad mila kar dheere-dheere piye. Isse Sardi-Jukam aur cough ki samsya mein aaram milta hain.


3. Migraine :- 5 Kali Mirch aur 3 Badam ko pees le. Isme 1/4 chammach Safed Chandan, 1/4 chammach Lal Chandan, thoda Kapoor aur Ghee mila kar seer par lep kare. Aisa lagatar 10-15 dino tak kare. Isse sar-dard aur migraine ki samsya mein fayda hota hain.


Dyaan de :- Naak se khoon aane par, Pet ya Peshab mein Jalan hone par, Garbhvati Mahila (Pregnant Women) aur 2 saal se kam umar ke baccho ko Kali Mirch ka Istemal nahi karna chahiye, Kyonki iski Taseer garm hoti hain.

No comments

मोबाइल नो. ना डाले नेट पर सभी को देखेगा सिर्फ अपने विचार दे कमेंट्स बॉक्स में ✓ Notify me क्लिक करले अगले 48 घंटे में जवाव देने का प्रयास करेगे, विज्ञापन कमैंट्स ना करे 1 घंटे के अंदर हटा दी जाएगी विज्ञापन चार्ज पे कर Ads दिखाए

Powered by Blogger.