Featured Posts

रमजान के महीने में सुरक्षा बल ऑपरेशन शुरू ना करें गृह मंत्रालय

Army will not conduct operations ramjan  हमारे देश की सरकार सुरक्षा बलों के हाथ बांध रही है गृह मंत्रालय ने आज एक ट्वीट किया जिसमें लिखा है कि जम्मू-कश्मीर में रमजान के पवित्र महीने के दौरान सुरक्षा बल अपने ऑपरेशन शुरू ना करें यह फैसला लिया गया है ताकि शांतिप्रिय मुसलमान शांतिप्रिय शांतिपूर्ण माहौल में रमजान मना सके

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती को इसके बारे में सूचित कर दिया है और साथ ही यह भी कहा गया है कि अगर सुरक्षाबलों के ऊपर कोई हमला होता है तो उनके पास जवाब देने का अधिकार है अगर निर्दोष लोगों की जीवन रक्षा करना जरूरी हो तो भी सुरक्षा बल कार्यवाही कर सकते हैं just after the announcement ramzan ceasefire terrorists attack on army patrolling-party-in-shopian-jammu-and-kashmir

 क्या सरकार यह कहना चाहती है की सेना हमला होने का पहले इंतजार करें सेना पहले मार खाए और फिर जवाब दे क्या देश का कोई भी नागरिक इस फैसले से सहमत है आज की खबर पूरे देश के लिए और आप सभी के लिए बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह फैसला हमारे उन जवानों की जिंदगी से जुड़ा हुआ है जो हमारी सुरक्षा के लिए अपनी जान दांव पर लगा देते हैं यह वही जवान है जो कश्मीर के आतंकवाद प्रभावित इलाकों में मौजूद है मुश्किल परिस्थितियों में काम कर रहे हैं इनकी पिटाई की जाती है इनकी हत्या की जाती है और इन पर आत्मघाती हमलों का खतरा मंडराता रहता है आप इन जवानों को दिल्ली में बैठकर रिमोट कंट्रोल कैसे नियंत्रित नहीं कर सकते है

यह जानना जरूरी है क्या गृह मंत्रालय ने यह फैसला लिया क्यो

 J&k cm महबूबा मुफ्ती ने केंद्र से यह मांग की कि रमजान और अमरनाथ यात्रा के दौरान सुरक्षा बल अपनी तरफ से सीजफायर ना करें जम्मू कश्मीर की सरकार ने सिफारिश केंद्र सरकार को भेज दी थी और उसी सिफारिश को आज गृह मंत्रालय ने स्वीकार कर लिया

 अब आप सोचिए कि हमारे देश की सरकार शायद आतंकवादियों से शराफत की उम्मीद कर रही है वह समझती है कि आतंकवादी बड़े शरीफ हैं लेकिन इतनी बड़ी गलती है यह समझने के लिए कोई किताबें पढ़ने की जरूरत नहीं है

अभी सरकार को इतिहास में हुई गलतियों से सबक ले लेना चाहिए और इतिहास में जो गलतियां हुई हैं वह भी हम आपको बता देते हैं आपको सबक लेने में आसानी रहेगी हम वर्तमान सरकार को सन 2000 की याद दिलाना चाहते हैं जब तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई ने रमजान के महीने में युद्धविराम का एलान किया था तब एनडीए की सरकार थी

तब अटल बिहारी वाजपेई ने कहा मुझे उम्मीद है कि हमारे इस फ़ैसले की प्रशंसा की जाएगी राज्य में घुसपैठ खत्म हो जाएगी और शांति स्थापित होगी कश्मीर में आतंकवादी संगठनों ने अटल बिहारी वाजपेई की सरकार के फैसले को खारिज कर दिया था आतंकवादी हाफिज सईद ने

इस कमेंट्स बॉक्स में ✓ Notify me क्लिक करले हम अगले 48 घंटे में आपकी Information इसी साइट पर देने का प्रयास करेगे...विज्ञापन कमैंट्स ना करे अन्यथा 1 घंटे के अंदर हटा दी जाएगी विज्ञापन चार्ज पे कर अपना ads दिखाए Top.HOWFN साइट पर

www.CodeNirvana.in

Copyright © kaise hota hai, how to, mobile phones price in hindi, keemat kya hai | Contact | Privacy Policy | About me