Featured Posts

ब्याज से कमाई छुपाना पड़ेगा भारी सवाल ट्रिक interest income tax

गूगल इस APP से जीते लाखो यहाँ से डाउनलोड करे
आईटी विभाग की ब्याज से होने वाली कमाई पर नजर है। ऐसे लोग उनके रडार पर हैं जो बताते कम हैं छुपाते ज्यादा हैं एफडी, सेविंग अकाउंट, पीपीएफ, किसान विकास पत्र जैसे तमाम सेविंग इंस्ट्रूमेंट है जिनमें लोग निवेश करते है लेकिन उनसे होने वाली कमाई का हिसाब किताब नहीं रखतें।   आपको यही बताएंगे कि कहां ब्याज से होने वाली कमाई पर टैक्स लगेगा और कहां आमदनी टैक्स फ्री होगी। इसके अलावा हम आपकी निवेश से जुड़ी उलझने भी सुलझाएंगे। इस खास शो में हमारे साथ जुड़ रहे हैं ऑप्टिमा मनी मैनेजर्स के पंकज मठपाल।

इन्कम टैक्स अथॉरिटीज की नजर अब उन हजारों-लाखों लोगों पर जा पड़ी है जिन्होंने एफडी पर इंट्रेस्ट से मोटी कमाई की है, लेकिन टैक्स नहीं भरा। इनका पूरा ध्यान उन लोगों पर है जिन्हें 5 लाख रुपये या इससे ज्यादा की आमदनी फिक्स्ड डिपॉजिट या एफडी पर मिले ब्याज से हुई है। इनमें कुछ लोग ऐसे भी हैं जो अपनी कर योग्य आय में ब्याज से मिली रकम को शामिल नहीं करने और रिटर्न फाइल नहीं करते। आईटी अधिकारी बैंक से जानकारी जुटा रहे हैं। एफडी पर 10 फीसदी टीडीएस कटवाने वाले लोगों पर नजर आईटी की नजर है इसके साथ ही सीनियर सिटिजंस पर भी सरकार की नजर है। सरकार का मकसद टैक्स बेस बढ़ाना है।

आपको बता दें कि सेविंग अकाउंट से 10,000 रुपये तक सालाना ब्याज टैक्स फ्री है। ब्याज से होने वाली 10,000 रुपये से ज्यादा कमाई पर टीडीएस कटता है। बैंक 10 फीसदी के हिसाब से टीडीएस काटते हैं। फॉर्म 26 एएस में ब्याज से होने वाली पूरी कमाई का ब्यौरा रहता है जिससे आईटी विभाग के लिए टैक्स चोरी पकड़ना आसान है।

लोग अलग-अलग बैंकों में छोटी रकम जमा करा कर टीडीएस बचाने की कोशिश करते हैं। एचआरए छूट और फर्जी रेंट स्लिप पर भी आईटी की नजर है क्योंकि इनके जरिए भी टैक्स चोरी होती है।

इस कमेंट्स बॉक्स में ✓ Notify me क्लिक करले हम अगले 48 घंटे में आपकी Information इसी साइट पर देने का प्रयास करेगे...विज्ञापन कमैंट्स ना करे अन्यथा 1 घंटे के अंदर हटा दी जाएगी विज्ञापन चार्ज पे कर अपना ads दिखाए Top.HOWFN साइट पर

www.CodeNirvana.in

Copyright © kaise hota hai, how to, mobile phones price in hindi, keemat kya hai | Contact | Privacy Policy | About me