pehla sukh nirogi kaya essay in hindi 16 sukh pahla sukh nirogi kaya dusra sukh suno pehla sukh nirogi kaya pehla sukh nirogi kaya in english pehla sukh nirogi kaya meaning nirogi kaya hindi saat sukh duniya ra
क्या आपको पता हे जीवन में किन किन सुखों को बताया क्या हे कितने प्रकार हे आइये जाने -
  • पहला सुख निरोगी काया।
  • दूसरा सुख घर में माया। (pahla sukh nirogi kaya dusra sukh)
  • तीसरा सुख सुत आज्ञाकारी।
  • चौथा सुख मृदुभाषिणी नारी।
  • पाँचवा सुख सदन हो घर का।
  • छट्ठा सुख न कर्जा हो पर का।
  • सातवाँ सुख चले व्यापार।
  • आठवाँ सुख सबको प्यार।
  • नौवाँ सुख निराकुलता हो मन में।
  • दसवाँ सुख न बैर विरोध स्वजन में।
  • ग्यारहवाँ सुख मन लागे धरम में।
  • बारहवाँ सुख न फंसे कुकर्म में।
  • तेरहवाँ सुख हो साधु समागम।
  • चौदहवाँ सुख यर्मज्ञ जिनागम।
  • पन्द्रहवाँ सुख शीलवृत धारी।
  • सोलहवाँ सुख भगवन के पूजा।
पहला सुख निरोगी काया, मतलब आपका शरीर रोग रहित हो यही पहला सुख ही दूसरा सुख जेब में हो माया।' धन कमाना जीवन में बहुत जरूरी होता है और सभी यह कार्य करते भी हैं। कुछ लोग कड़ी मेहनत करके धन कमाते हैं और कुछ लोग स्मार्ट वर्क करके धन कमाते हैं। धन कमाने के अच्छे रास्ते भी हैं और बुरे भी। लेकिन जब अस्पताल में व्यक्ति की जिंदगी यह धन नहीं बचा पाता है तो यह धन यहीं धरा का धरा रह जाता है। इसीलिए कहते हैं पहला सुख निरोगी काया।

निरोगी काया : यदि आप स्वस्थ हैं तो ही आपका जीवन है। अस्वस्थ काया में जीवन नहीं होता। व्यक्ति 4 कारणों से अस्वस्थ होता है : पहला मौसम-वातावरण से, दूसरा खाने-पीने से, तीसरा चिंता-क्रोध से और चौथा अनिद्रा से।

मौसम और वातावरण आपके वश में नहीं, लेकिन घर और वस्त्र हों ऐसे कि वे आपको बचा लें। घर को आप वस्तु अनुसार बनाएं। हवा और सूर्य का प्रकाश भीतर किस दिशा से आना चाहिए, यह तय होना चाहिए ताकि वह आपकी बॉडी पर सकारात्मक प्रभाव डाले।

स्वस्थ रहने का आसान रास्ता... आगे क्लिक करें... शास्त्र अनुसार मृत समान बना देती हैं 14 गंदी आदते

खाना-पीना आपके हाथ में है अत: उत्तम भोजन और उत्तम जल जरूरी है। हर तरह के नशे से दूर रहने की बात भी आप जानते ही होंगे। आहार के साथ उपवास भी जरूरी है। उपवास के लिए विशेष दिन और माह नियुक्त हैं।

चिंता और क्रोध करने की भी आदत हो जाती है शराब पीने की तरह। मनोवैज्ञानिक कहते हैं कि नशा करके व्यक्ति चिंता में तो हो ही जाता है और वह चिड़चिड़ा भी हो जाता है। ये दोनों ही आदतें आपके शरीर को जल्द से जल्द बूढ़ा बना देंगी और साथ ही आप अपने परिवार को भी खो देंगे।

अब जहां तक चौथे कारण का सवाल है, ऐसे में कहना होगा कि उपरोक्त तीन है तो चौथा हो ही जाएगा। उत्तम नींद संजीवनी दवा के समान होती है। मानसिक द्वंद्व, चिंता, दुख, शोक, अनावश्यक बहस, अनावश्यक विचार आदि सभी से श्वासों की गति अनियंत्रित हो जाती है जिसके चलते नींद उड़ जाती है। इससे मुक्ति का सरल उपाय है प्राणायाम और ध्यान। हालांकि आप और कुछ भी कर सकते हैं।

आपने दुनियाभर की किताबें पढ़ी होंगी या घर में रखी होंगी, लेकिन क्या आपके घर में ऐसी किताबें हैं, जो आपको सेहतमंद और चिंत्तामुक्त बने रहने के उपाय बताती हों? जीवनभर आपने स्कूल और कॉलेज में जो पढ़ा है और कठिन मेहनत करके जो कमाया है, वह अस्पताल में जाकर सब व्यर्थ सिद्ध हो जाने वाला है।

आपको घर में रखना चाहिए घरेलू नुस्खों की कई किताबें, आयुर्वेद और योग से संबंधित किताबें, सीडी आदि। इसके अलावा सबसे जरूरी वे किताबें है जिनके माध्यम से आपको आपके शरीर और दवाओं का ज्ञान होता हो। आपके शरीर के भीतर के अंग कौन-कौन-से हैं और वे किस तरह कार्य करते हैं और उन्हें कौन-से भोजन और व्यायाम की जरूरत है, यह भी जानना जरूरी है। हालांकि आप फेसबुक पर चलने वाली व्यर्थ की बातें जानने में ज्यादा उत्सुक रहते होंगे?
  secret of happiness essay secret of happiness quotes what is the key of happiness secret of happiness book secret of happiness speech key to happiness quotes secret of happiness movie key to success in life

कोई भी सवाल पूछे ?.या Reply दे

इस कमेंट्स बॉक्स में ✓ Notify me क्लिक करले हम अगले 48 घंटे में आपकी Information इसी साइट पर देने का प्रयास करेगे...विज्ञापन कमैंट्स ना करे अन्यथा 1 घंटे के अंदर हटा दी जाएगी विज्ञापन चार्ज पे कर अपना ads दिखाए Top.HOWFN साइट पर