आजकल के भाग-दौड़, चकाचौध भरे कृत्रिम जीवन में अपनी तन्दुरुस्ती कायम रखने और सेहत बनाने के लिए लोग टॉनिक के नाम से मिलने वाली रंग-बिरंगी गोलियाँ, कैप्सूल और सीरप की शीशियों में पैक दवाओं पर तेजी से निर्भर होते जा रहे हैं. उनका मानना है कि इनके नियमित सेवन करने से शरीर में शक्ति और उत्साह पैदा होकर सेहत बनती है.

वास्तविकता
सच्चाई तो यह है कि टॉनिक से उतना फायदा नही होता है जितना इनका प्रचार किया जाता है और यदि कुछ फायदा होता भी है तो उनके ढेर सारे दुष्प्रभाव भी होते हैं. आवश्यकता से अधिक यानि लगातार अधिक सेवन किये गये विटामिन्स, हार्मोन्स,आयरन, केल्शियम, जिंग, ग्लीस्रोफोस्फेट्स अल्कोहल से विषाक्त लक्षण भी पैदा हो सकते हैं.

अधिक मात्रा में लेने से नुकसान

विटामिन-ए की अधिकता से गुर्दे व् तिल्ली क्षतिग्रस्त होने लगते हैं. बी-कॉम्पलैक्स और विटामिन सी स्वास्थ्य पर विपरीत असर भी करते हैं. विटामिन-डी की अधिकता से गुर्दे में पथरी, उल्टी,पेट दर्द,कब्ज,प्यास की अधिकता, भूख की कमी होती है. विटामिन-इ की अधिकता से शरीर की विटामिन-ए को सोखने की क्षमता कम हो जाती है ज्यादा आयरन से हिमोक्रोमेटोसिस नामक बीमारी हो जाती है. इनके अलावा सिरोसिस आफ लीवर,गठिया,शुक्राणुओं की कमी,हाजमा बिगड़ना, अमाशय में पीड़ा हो सकती है. हार्मोन्स के अधिक प्रयोग करने से महिलाओं को दाढ़ी मुछ आना,अधिक मात्रा में कैल्शियम से किडनी में पथरी होने का खतरा हो जाता है. अतः बिना आवश्यकता के एवं बगैर डॉक्टरी परामर्श के टॉनिक का नियमित सेवन न करे.

कोई भी सवाल पूछे ?.या Reply दे

इस कमेंट्स बॉक्स में ✓ Notify me क्लिक करले हम अगले 48 घंटे में आपकी Information इसी साइट पर देने का प्रयास करेगे...विज्ञापन कमैंट्स ना करे अन्यथा 1 घंटे के अंदर हटा दी जाएगी विज्ञापन चार्ज पे कर अपना ads दिखाए Top.HOWFN साइट पर