Featured Posts

प्यार की गाड़ी को कैसे लाएं पटरी पर Kaise Laaye Pyar Ko Patri Par

रिश्‍ते की गाड़ी कभी सरपट नहीं दौड़ती. इसमें उतार-चढ़ाव आते रहते हैं. और अगर आप समय रहते अगर इन परेशानियों का सही आकलन कर लें, तो इन्‍हें आसानी से पार कर सकते हैं. परेशानियां हर रिश्‍ते में आती हैं और जो इनसे पार पाने का सलीका और तरीका सीख लेते हैं उनके रिश्‍ते में माधुर्य बना रहता है. वे साथ रहते हैं. परेशानियों का सामना करते हैं और समझ जाते हैं कि रोजमर्रा की परेशानियों से जूझते हुए अपने जीवन में कैसे आगे बढ़ना है. हर किसी का इससे निपटने का अपना अलग तरीका होता है. कुछ किताबों का रुख करते हैं तो कुछ सेमिनार और काउंसलिंग का तरीका अपनानते हैं। कुछ लोग कामयाब जोड़ों के जीवन पर नजर रखते हैं।
समस्‍या 1 : संवादहीनता
संवादहीनता के कारण ही सबसे ज्‍यादा परेशानियां होती हैं। अपने फोन या टीवी पर नजर गढ़ाए रखकर आप संवाद स्‍थापित नहीं कर सकते। संवाद के लिए जरूरी है कि दो लोगों के शब्‍दों के बीच सीधा संबंध हो।

कैसे करें समाधान
एक दूसरे से औपचारिक मुलाकात करें। मिलें और संवाद करें कि आखिर आप दोनों के बीच क्‍या गड़बड़ चल रहा है। अगर आप विवाहित हैं और साथ रहते हैं, तो फोन बंद रखें और बच्‍चों से अलग होकर आराम से बात करें।
अगर आप ऊंची आवाज में बात किये बिना संवाद नहीं कर सकते, तो किसी सार्वजनिक स्‍थल पर जाएं। पार्क, लाइब्रेरी या रेस्‍तरां आदि किसी भी ऐसे स्‍थान पर जहां आपको ऊंची आवाज में बात करने में असहजता हो।
अपने साथी की बात न काटें। न ही कड़वी बात बोलें। इसके साथ ही अच्‍छे संवाद के लिए जरूरी है कि आप दूसरे साथी पर आरोप लगाने की शैली में बात न करें। आप दोनों मसलों को सुलझाने के लिए बैठे हैं न कि आरोप लगाने के लिए। आपकी शारीरिक भाषा इस प्रकार की होनी चाहिये कि आप अपने साथी की सुन रहे हैं। अगर आप उसकी बातों को तवज्‍जो नहीं दे रहे हैं, तो फिर साथ बैठने का फायदा ही क्‍या। किसी भी बात पर त्‍वरित प्रतिक्रिया देने से बचें। अगर कोई बात समझ में न आयी हो, तो उसे दोहरकर अपने साथी से पुष्टि कर लें कि क्‍या उसने वही कहा है, जो आप समझ रहे हैं।

समस्‍या 2 - विश्‍वास की कमी
विश्‍वास किसी भी रिश्‍ते का आधार होता है. अगर रिश्‍ते में विश्‍वास की कमी है तो वह आगे नहीं बढ़ सकता. आपको रिश्‍ते में कुछ ऐसे कारण नजर आते हैं जो आपको आगे नहीं बढ़ने देते. या फिर आप खुद दूसरों पर भरोसा करने से डरते हैं।

कैसे करें समाधान
वक्‍त देकर जरूर आयें. जो काम आपने करने की हामी भरी हो उसे जरूर करें. अपने साथी से झूठ न बोलें और बहस के दौरान भी गरिमा बनाये रखें. दूसरों की भावनाओं का खयाल रखें. असहमति हो सकते है, लेकिन इससे अपने साथी की भावनाओं को आहत न होने दें. गलत बातों पर ओवररिएक्‍ट न करें। बहस के दौरान गढ़े मुर्दे न उखाड़ें। ईर्ष्‍या न करें और अच्‍छे श्रोता बनें।

समस्‍या 3 : पैसा
रिश्‍तों के बीच पैसा आने से कई समस्‍यायें हो सकती हैं. कई बार यह समस्‍या शादी से पहले ही शुरू हो जाती है. अगर वाकई आप दोनों के रिश्‍ते के बीच पैसा अपने पैर पसार रहा है, तो बेहतर है कि आप दोनों गहरी सांस लेकर बैठें और फाइनेंस से जुड़े पहलुओं पर जरूरी चर्चा करें।

कैसे करें समाधान
अपनी मौजूदा वित्‍तीय स्थिति के प्रति ईमानदार रहें। अगर आर्थिक हालात थोड़े सख्‍त हों, तो अपने जीने के अंदाज में बदलाव लाना लाजमी है। धन को लेकर गर्मागर्म बहस करने से बचें। इससे कोई नतीजा निकलने वाला नहीं है। जरूरत है कि आप अपनी वित्‍तीय नीतियों और प्राथमिकताओं के बारे में बैठकर बात करें। इस तथ्‍य को स्‍वीकार करें कि एक साथी खर्च करेगा और दूसरा बचाने का काम करता है। इस बात को समझिये कि दोनों के अपने फायदे हैं। इस तथ्‍य को स्‍वीकार करें और एक दूसरे की इस आदत से सीखें। अपनी कमाई और उधार आदि के बारे में अपने साथी से न छुपायें। आप दोनों को एक दूसरे के आर्थिक हालात के बारे में सही जानकारी होनी चाहिये. आप दोनों साथ मिलकर अपने घर के खर्चों और बचत का बजट बनाइये।

समस्‍या 4 : कौन करेगा घर के काज
आजकल पति पत्‍नी दोनों कामकाजी होते हैं। और ऐसे में घर के छोटे मोटे काम कौन करेंगा, इस बात को लेकर भी दोनों के बीच झगड़े होते रहते हैं। आखिर इस समस्‍या से कैसे पार पाया जा सकता है।

कैसे करें समाधान
घर पर अपने कामों का सही प्रकार बंटवारा करें। काम को यूं ही फैलाकर न रखें। अपने कामों को लिखकर रखें और आराम से बैठकर उस पर बात करें। अन्‍य विकल्‍पों का भी ध्‍यान रखें। अगर आप दोनों को घर की साफ-सफाई करना पसंद नहीं है, तो आप 'पेड सर्विस' भी रख सकते हैं। अगर किसी एक साथी को सफाई करना पसंद करना है, तो दूसरा साथी बाकी काम कर सकता है। कहने का अर्थ है कि आप दोनों को मिलजुल कर सारे काम निपटा लेने चाहिये।

समस्‍या 5 - प्राथमिकतायें
अगर आप अपने जीवन में प्‍यार चाहते हैं, तो जरूरी है कि आप अपने रिश्‍ते को अहमियत दें। रिश्‍ते में अहं का कोई स्‍थान नहीं होता। मैं नहीं हम के आधार पर रिश्‍ता चलता है।

कैसे करें समाधान
प्‍यार को जवां बनाये रखने के लिए वही काम करें जो आप रिश्‍ते की शुरुआत में किया करते थे। एक दूसरे के प्रति आभार जतायें। एक दूसरे की तारीफ करें। एक दूसरे की बातों में रुचि दिखाना, इन सब कामों को दोहरायें. अन्‍य जरूरी कामों की ही तरह साथ वक्‍त बिताने को भी अहमियत दें। याद रखिये परिवार जीवन की धुरी होता है और अगर यह धुरी बिगड़ जाए तो सारा जीवन बिगड़ जाता है।एक दूसरे का सम्‍मान करें। एक दूसरे की अहमियत को समझे.

समस्‍या 6 - झगड़ा
कभी-कभार झगड़ा होना आम बात है। लेकिन आप दोनों के बीच यह रोज की बात बन जाए तो वक्‍त आ गया है कि आप इस बारे में गंभीरता से सोचें। जानने का प्रयास करें कि आखिर वे कौन सेी बातें हैं जिनके कारण आप दोनों के बीच इतनी बहस होती है। रोजमर्रा की जिंदगी से ब्रेक लें।

कैसे करें समाधान
आप और आपका साथी संयमित तरीके से बात कर सकते हैं। अपने रिश्‍ते में संवाद का तरीका हमेशा सहज और संयमित ही रखें। याद रखिये आप पीडि़त नहीं है, प्रतिक्रिया देना या न देना यह पूरी तरह आप पर ही निर्भर करता है। स्‍वयं के प्रति ईमानदार रहें। जानें कि बहस के दौरान आप किस तरह के कमेंट करते हैं और उनके क्‍या नतीजे निकलते हैं। अपनी गलती होने पर माफी मांग लेने में कोई बुराई नहीं। इससे आपका रिश्‍तो मजबूत ही होगा। अहं को छोड़कर अपने रिश्‍ते की मजबूती के बारे में सोचें। रिश्‍ते में समस्‍यायें आएंगी, लेकिन अगर आप दोनों मिलकर उसका सामना करेंगे तो बेहतर रहेगा। कभी-कभार हंसी मजाक का तड़का लगायें और अपने रिश्‍ते में आनंद बनाये रखें।
1 comments:
This comment has been removed by a blog administrator.

इस कमेंट्स बॉक्स में ✓ Notify me क्लिक करले हम अगले 48 घंटे में आपकी Information इसी साइट पर देने का प्रयास करेगे...विज्ञापन कमैंट्स ना करे अन्यथा 1 घंटे के अंदर हटा दी जाएगी विज्ञापन चार्ज पे कर अपना ads दिखाए Top.HOWFN साइट पर

www.CodeNirvana.in

हमें यूट्यूब सब्सक्राइब करे यहाँ क्लिक
Copyright © kaise hota hai, how to, mobile phones price in hindi, keemat kya hai | Contact | Privacy Policy | About me