कुलभूषण जाधव कौन है केस इंटरनेशनल कोर्ट भारत को जीत kulbhushan jadhav - Top.HowFN.com

कुलभूषण जाधव कौन है केस इंटरनेशनल कोर्ट भारत को जीत kulbhushan jadhav

कुलभूषण जाधव केस इन हिंदी , कुलभूषण खरबंदा counsellor access ,consular access meaning in hindi what is vienna convention , what happened to kulbhushan jadhav , zaid hamid , sushma swaraj, कुलभूषण जाधव , कुलभूषण जाधव लेटेस्ट न्यूज़, कुलभूषण जाधव न्यूज़
ICJ ने कुलभूषण जाधव की फांसी की सजा पर स्टे रखेंगे ऐसा इंटरनेशनल कोर्ट ने पकिस्तान से कहा जब तक आप रिमेडियल एक्शन नहीं ले लेते अब पाकिस्तान इस फैसले के बावजूद क्यूट कर सकता है

आर्टिकल 36 का उल्लंघन ना करे पाकिस्तान आर्मी 


 हर चीज को मॉनिटर किया जाएगा जैसे पहले आर्मी ने उनको फांसी की सजा दी थी वह पॉसिबल नहीं होगा मामला क्योंकि इंटरनेशनल लेवल पर चला गया है तो पाकिस्तान भी यही कोई ऐसी जुर्रत नहीं करेगा कि वह इस केस से ज्यादा दूसरी तरह की उलझन में पड़े

मुंबई से सचिन ने बताया जो कुलभूषण के बहुत पुराने और निकट मित्र हैं और लगातार अभियान भी चलाया देशभर के अंदर कुलभूषण जाधव केस में 15 जजो ने भारत का सपोर्ट किया है

भारत ने अपनी बात दमदार तरीके से रखी कोर्ट को बातया उसको विद प्रूफ रखा तब 15 जजों ने भारत के पक्ष में फैसला दिया है हमारे विदेश मंत्रालय की तरफ से किस तरह से चीजों को रखा गया और किस तरह से जो हमारे हरीश साल्वे वकील जो वहां पर कुलभूषण जाधव केस को फ्री ऑफ़ चार्ज में लड़ रहे थे वहीँ  पाकिस्तान का जो वकील पाकिस्तानी गवर्मेंट से अपनी पूरी फीस वसूलने कर रहे थे

भारत दिल वालों की है कंट्री क्योकि भारत मूल के नागरिक के प्रति इतने प्रेम दिखाया एक इंटरनेशन वकील ने

इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में आज दूध का दूध पानी का पानी हुआ हालांकि उम्मीद से ज्यादा  होता तो और बेहतर होता अगर आज इंटरनेशनल कोर्ट आफ जस्टिस से रिहाई की कोई खबर निकल जाती हाला की समीक्षा की खबर निकल कर आई है

यह भी अपने आप में बड़ी बात है और पाकिस्तान के लिए यह अलार्म इंग सिचुएशन है यहां से सुधारने की गुंजाइश बचती है पाकिस्तान के पास और पाकिस्तान के लोगों में अगर थोड़ी भी ईमानदारी बची है अब जल्द रिहा करे कुलभूषण जाधव को वियना संधि का उल्लंघन किया गया पाकिस्तान ने 

0 Response to "कुलभूषण जाधव कौन है केस इंटरनेशनल कोर्ट भारत को जीत kulbhushan jadhav"

Post a comment

Iklan Atas Artikel

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Iklan Bawah Artikel