Money transfer online यदि आप एक ही रात में 99 करोड़ रुपए के मालिक बन जाएं तो आप कैसा महसूस करेंगे. शायद इस खुशी को बयां करने के लिए आपके पास शब्द नहीं हो. ऐसा ही हुआ बिहारशरीफ के शेखपुरा के घाटकुसुंभा में. यहां तैनात एक राजस्व कर्मचारी विष्णुदेव यादव एक ही रात में लखपति से अरबपति बनए गए. विष्णुदेव की लखपति से अरबपति बनने की कहानी भी काफी रोचक है.

जमुई के सिकंदरा की एसबीआई ब्रांच में विष्णुदेव का खाता है उनके खाते में 99 करोड़ 95 लाख 67 हजार 70 रुपये जमा हो गए. इस बारे में उन्हें फोन पर आए मैसेज से जानकारी मिली. इस मैसेज के बाद एक तरफ उन्हें खुशी हो रही थी तो दूसरी तरफ कानूनी पचड़ें में फंसने का भय सता रहा था. इसके बाद विष्णुदेव ने ईमानदारी पूर्वक सिकंदरा एसबीआई ब्रांच मैनेजर को पूरे मामले की जानकारी दी और उनके खाते में इनती बड़ी रकम जमा करने वाले पर कार्रवाई की गुहार लगाई.

पहले तो विष्णुदेव को मोबाइल पर आए मैसेज को देखकर कुछ देर के लिए यकीन नहीं हुआ. लेकिन बाद में उन्होंने एटीएम में जाकर मिनी स्टेटमेंट निकाला और खाते का बैलेंस देखते ही हक्का- बक्का रह गए. उनके खाते में यह रुपये 16 नवंबर को जमा हुए थे. एक प्रतिष्ठित अखबार में प्रकाशित खबर के मुताबिक संबंधित एसबीआई के शाखा प्रबंधक संजीत ने कर्मचारी विष्णुदेव यादव के खाते में 99 करोड़ 95 लाख रुपये जमा होने की बात को गलत करार दिया.ghar baithe job karo ghar baithe typing job ghar baithe mobile sms job ghar baithe paisa kamao job ghar baithe business in hindi ghar baithe job data entry ghar baithe paisa kamao free ghar par kaam
बैंक प्रबंधक ने कहा कि मैनेजर खाते की जांच की गई है, लेकिन इस खाते में इतनी राशि का ट्रांजेक्शन होने का कोई प्रमाण नहीं मिला है. एटीएम के स्टेटमेंट में 99 करोड़ 95 लाख रुपये जमा होने के प्रमाण पर मैनेजर ने कहा कि नेटवर्क में प्रोब्लम के कारण कई बार इस तरह की दिक्कत हो जाती है. वैसे संबंधित खाते की जांच की जा रही है.

विष्णुदेव का कहना है कि उनके एसबीआई के अकाउंट से एक नवंबर को 10 हजार और पांच व आठ नवंबर को 20-20 हजार रुपये अवैध तरीके से निकाल लिए गए थे. इसकी शिकायत कराने पर मैनेजर ने कहा था कि इस संबंध में जांच चल रही है, जल्द ही यह राशि उनके खाते में जमा हो जाएगी. विष्णुदेव का कहना है कि पहले खाता से 50 हजार रुपये की अवैध निकासी और अब इतनी बड़ी रकम जमा होने में ब्रांच मैनेजर की भूमिका संदिग्ध लग रही है. उन्होंने मामले की जांच की मांग की है.

check que?.ans

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..