Bank Loan jankari आसानी से मिल जाता है, क्‍योंकि यह कंज्‍यूमर ड्रिवेन वर्ल्‍ड है, यानी उपभोक्‍ताओं की ही यहां चलती है. जबकि सच्‍चाई यह भी है कि बड़ी संख्‍या में लोगों को अलग-अलग कारणों से बैंक लोन देने से मना कर देते हैं.

आज हम बता रहे हैं कि अगर आपके साथ भी ऐसा हुआ है तो आप क्‍या करें-

सबसे पहले वजह जानें 
बैंक द्वारा लोन के लिए मना करने पर सबसे पहले जानें कि इसकी वजह क्‍या है. बैड क्रेडिट रेटिंग से लेकर कम आय जैसी इसकी कई वजहें हो सकती हैं. वजह जानने से इसका हल निकालना आपके लिए आसान हो सकता है.

कम आय
गांवों और छोटे शहरों में इस तरह के मामले अधिक सामने आते हैं. इन जगहों पर कम आय की वजह से बैंक या अन्‍य वित्‍तीय संगठन लोगों को लोन देने से इंकार कर देते हैं. बैंक को जब लगता है कि आप उनका लोन चुकाने में सक्षम हैं, तब ही वह आपको लोन देता है.

खराब क्रेडिट रेटिंग
खराब क्रेडिट रेटिंग की वजह से भी अक्‍सर बैंक लोन देने से इंकार कर देते हैं. आपका सिबिल स्‍कोर 300 से लेकर 900 के बीच हो सकता है. वैसे 750 के आसपास का सिबिल स्‍कोर अच्‍छा माना जाता है और 79 फीसदी लोन 750 से अधिक सिबिल स्‍कोर वालों को ही दिया जाता है. इसी तरह कंपनियों के मामले में कंपनीज क्रेडिट रिपोर्ट (सीसीआर) देखा जाता है. इसके तहत 1 से 10 के बीच रैंक दिया जाता है. 1 जहां सर्वोच्‍च होता है, वहीं 10 सबसे खराब. जिन कंपनियों को 4 या उससे अधिक रैंक मिलता है, उन्‍हें लोन आसानी से मिल जाता है. ऐसे में क्रेडिट रेटिंग एजेंसियों से अपनी रेटिंग जरूरत चेक करवा लें.

क्रेडिट रेटिंग के लिए लगते हैं 550 रुपए
क्रेडिट रेटिंग के लिए एक व्‍यक्ति को अमूमन 550 रुपए और कंपनी को 3000 रुपए देने होते हैं. इसकी ठीक से पड़ताल करने और खामियों को दूर करने से आपको लोन मिल सकता है. उदाहरण के लिए, हो सकता है कोई लोन आपने चुका दिया हो, लेकिन अभी भी यह बकाया दिखाया गया हो.

विकल्‍प की तलाश करें
हर बैंक के पैमाने अलग-अलग होते हैं. इसलिए जरूरी नहीं है कि अगर एक बैंक ने लोन देने से इंकार कर दिया हो तो दूसरा बैंक भी आपको लोन नहीं देगा. उदाहरण के लिए, रीजनल कॉपरेटिव बैंक या ग्रामीण बैंक कई दफा आसानी से लोन दे देते हैं.

गारंटर खोज लें
अगर लोन के लिए आपकी इनकम पर्याप्‍त नहीं है तो आप एक गारंटर खोज लें, जो आपके लिए गारंटी दे सके. गारंटर आपके परिवार का कोई सदस्‍य या फिर मित्र हो सकता है.
दे सकते हैं कॉलैटरल 
बैंक अलग लोन नहीं दे तो उसे आप कॉलैटरल दे सकते हैं. कॉलैटरल के रूप में आप घर या कोई और चीज दे सकते हैं. इससे बैंक लोन के प्रति आश्‍वस्‍त हो सकते हैं.

बार-बार नहीं करें लोन के लिए आवेदन
लोन रिजेक्‍ट होने के बाद बार-बार इसके लिए आवेदन नहीं करें, क्‍योंकि बार-बार आवेदन करने से आपकी स्थिति और कमजोर हो जाती है.

check que?.ans

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..