केंद्र सरकार ने स्मार्टफोन बनाने वाली 21 कम्पनियों को नोटिस जारी कर पूछा हे की उनके मोबाइल फोन में डाटा कितना सुरक्षित हे. सरकार ने 6 महीने की जांच के बाद यह कदम उठाया हे. कम्पनियों को 26 अगस्त तक बताना होगा की डाटा सुरक्षा के लिए उनके फोन में क्या-क्या इंतजाम किये गए हे. इलेक्ट्रोनिक्स और सुचना मंत्रालय ने जिन कम्पनियों को नोटिस भेजा हे उनमे एप्पल, सैमसंग, माइक्रोमैक्स, विवो, ओप्पो, जियोनी, श्योमी भी हे. इनमे ज्यादातर कम्पनिया चीनी हे. अगर कोई कम्पनी नियमों का उल्लंघन करते हुए मिली तो उन पर जुर्माना लगाया जायेगा. भारत में करीब 30 करोड़ लोग स्मार्टफोन का ईस्तेमाल करते हे.
यह चार जानकारियाँ हो रही हे चोरी

1. कांटेक्ट लिस्ट:- यह डाटा टेलीकॉलर्स या विज्ञापन कम्पनियों को बेचा जाता हे. ब्लैकमेलिंग के लिए भी इसका इस्तेमाल हो सकता हे.

2. लोकेशन:- आपकी रोज की गतिविधियों पर नजर रखी जारी हे. यह सुरक्षा के लिए बेहद खतरनाक हे. आपराधिक तत्व अगर यह सुचना हथिया ले तो किडनेपिंग या जीवन के जोखिम का खतरा बन सकता हे.

3. मैसेज:- whatsapp जे मेसेजिंग एप्प यूजर की सारी जानकारियाँ इकट्ठी करते हे. डेटा लीक होने पर हैकर्स इनका गलत इस्तेमाल कर सकते हे.

4. फोटो:- आपके निजी फोटो का दुरूपयोग हो सकता हे. आप ब्लैकमेलिंग का बड़ा जरिया बन सकते हे.

नोट:- एंटीवायरस बनाने वाली कंपनी सिमेंटिक के मुताबिक 36% से ज्यादा एप में कोई ना कोई वायरस होता हे.

check que?.ans

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..