New delhi : अपनी आने वाली फिल्म ‘मदारी’ के प्रमोशनल इवेंट में ईद-उल-जुहा को लेकर इरफान खान ने कहा है कि कुर्बानी का मतलब अपनी कोई अजीज चीज कुर्बान करना होता है। ये नहीं कि बाजार से आप कोई दो बकरे खरीद लाए और उनको कुर्बान कर दिया।
image
 इरफान इतने पर ही नहीं रुके। उन्होंने आगे कहा कि आपको उन बकरों से कोई लेना-देना नहीं है तो वो कुर्बानी कहां से हुई? इससे कौन-सी दुआ कुबूल होती है? हर आदमी अपने दिल से पूछे कि किसी और की जान लेने से उसको कैसे पुण्य मिल जाएगा? बुधवार को इरफान ने यह भी कहा कि हमारे जो भी त्योहार हैं, उनका मतलब हमें वापस से समझना चाहिए कि वे किसलिए बनाए गए हैं।

सौभाग्य है कि एेसे देश में रह रहा हूं जहां हर धर्म का सम्मान होता है। इरफान ने कहा कि अपना हीरो उन्हें बनाएं जो बिना स्वार्थ के कुर्बानी देकर लोगों की मदद करे। वहीँ सोशल मीडिया पर मुस्लिम लोग भड़क गए है स्टेटस और कमेंट की बाढ़ आ गयी है इरफ़ान खान को खूब बुरा भला कहा जा रहा है कोई उन्हें काफ़िर कह रहा है तो कोई उन्हें कुरान पढ़ने की नसीहत दे रहा है।

check que?.ans

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..