यह माना जाता हे की जिसने कम्पनी बनाई हे या जो फाउंडर हे, उसे कौन हटा सकता हे. लेकिन हाल ही में ऐसे कई उदहारण सामने आये हे. तजा मामला उबर के CEO का हे, जिन्हें कम्पनी बोर्ड ने हटाया. ऐसे कई भारतीय और विदेशी हे जो कम्पनी के मालिक होते हुए भी अपने पद से हटाये गए. आखिर इसके पीछे क्या वजह थी, आईये जानते हे.
Why Remove This CEO From Own Company

1. ट्रेविस कैलेनिक (CEO, उबर)
कैलेनिक पर यौन उत्पीड़न, भेदभाव, दुर्व्यवहार के मामलों को नजरअंदाज करने का आरोप लगा था. कैलेनिक के छुटी पर जाने के बाद कम्पनी के निवेशकों ने कैलेनिक के तुरंत इस्तीफे की मांग की थी. इसके बाद से उन्हें इस्तीफा देना पड़ा था.

2. संदीप अग्रवाल (CEO, शॉपक्लूज)
संदीप अग्रवाल ने 2011 में शॉपक्लूज शुरू किया. कैलिफोर्निया में एक मित्र और पत्नी की मदद से बनाई गई कम्पनी में 12 हजार मर्चेन्ट और 2 लाख से अधिक प्रोडक्ट हे. देश में कम्पनी 9500 स्थानों पर काम करती हे. संदीप का आरोप हे की इनसाइड ट्रेडिंग के मामले में वे अमेरिका में उलझे, इधर पत्नी ने मित्र के साथ मिलकर उन्हें कम्पनी से बाहर कर दिया. 

यह भी पढ़े अब यह 6 काम नहीं हो सकते बिना आधार कार्ड के

3. राहुल यादव (CEO, हाउसिंग.कॉम)राहुल यादव को हटाने का कारण एक मेल का लीक होना था, जिसमे कहा गया था की क्विकर हाउसिंग.कॉम को खरीद सकता हे. इस मेल के लीक होने का आरोपी राहुल को माना गया और इसलिए उन्हें कम्पनी से बाहर कर दिया गया. हालाँकि बाद में वे कम्पनी में फिर से वापिस आ गए.

शिन क्युक हो (CEO, लोटे)
दुनियाभर में शोपिंग काम्प्लेक्स और एम्ज्युमेंट पार्क बनाने वाली जापान की कम्पनी लोटे के CEO और संस्थापक शिन को बोर्ड ने रिश्वत के आरोप में कम्पनी से हटा दिया.

check que?.ans

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..