प्लास्टिक चावल तो नहीं खा रहे इससे कैंसर हो सकता है Plastic Rice - Top.HowFN.com

प्लास्टिक चावल तो नहीं खा रहे इससे कैंसर हो सकता है Plastic Rice

इन दिनों इन्टरनेट पर प्लास्टिक चावल की खूब चर्चा हो रही है। चावल एक फूड प्रॉडक्ट है और पूरे देश में इस खाया जाता है, किंतु चौंकाने वाली बात यह है कि चीन से आ रहा प्लास्टिक से बना चावल नैचरल चावल से बिल्कुल डिफरेंट होता है।
Read here how to identify natural rice and plastic rice. Today plastic rice is selling through mixing with natural rice in the market. Their identification is very difficult.
डॉक्टर्स का कहना है कि इस चावल को एक दो बार खाने से जहां नॉजिया, वोमेटिंग, पेट दर्द हो सकता है, वहीं लंबे समय तक खाने से लीवर का कैंसर तक हो सकता है। मार्किट में प्लास्टिक चावल को नैचरल चावल में मिलाकर बेचा जा रहा है। प्लास्टिक चावल का आकार व रंग-रूप एकदम नैचरल चावल जैसा ही होता है। इसलिए इसकी पहचान करना कठिन है।

अगर प्लास्टिक चावल को नेचुरल चावल के साथ बिना मिलाये बेचा जाएगा तो उसकी पहचान हो सकती है। आलू, शलगम और प्लास्टिक को मिला कर इस तरह का चावल बनाया जाता है। इसमें रेजिन भी मिलाई जाती है। रेजिन पेड़ से निकलने वाला एक तरह का हाइड्रोकार्बन द्रव्य है, जिसका इस्तेमाल गुब्बारे और प्लास्टिक की दूसरी चीजें बनाने में किया जाता है। इन सभी चीजों को मिलाकर चावल बना दिया जाता है।

डॉक्टरो के मुताबिक, प्लास्टिक ऐसा प्रॉडक्ट है जो न तो गलता है और न ही सड़ता है। अक्सर जब शरीर के अंदर खाने का सामान जाता है तो शरीर उस खाने पचाने के लिए एंजाइम छोड़ता है, किंतु उन एंजाइम का प्लास्टिक पर तो कोई असर नहीं होगा। जब कोई लगातार प्लास्टिक के चावल खाएगा तो वह शरीर में जमा होता रहेगा और उससे इंटेस्टाइन ब्लॉक हो सकती है।

यदि कोई व्यक्ति लंबे समय तक ऐसे चावल खाता है तो इसके कारण उसका इंडोक्राइन और हार्मोनल सिस्टम तक पर प्रभाव पड़ सकता है, यहां तक की लीवर कैंसर होने का भी खतरा है।

प्लास्टिक चावल को ऐसे पहचाने
  • असली चावल जल्दी टूट जाता है, किंतु प्लास्टिक चावल नहीं टूटता।
  • चावल की खूशबू से असली और नकली में पहचान की जा सकती है। लेकिन ऐसा हर बार संभव नहीं है। कई बार असेंस की मिलावट भी होती है, तो पहचान करनी मुश्किल हो जाती है।
  • पका हुआ चावल दबाने पर असली चावल दब जाएगा, जबकि प्लास्टिक वाला चावल नहीं दबेगा।
  • प्लास्टिक चावल में कोई खूशबू नहीं होती है, अगर मिलावट अधिक होगी तो पकने पर प्लास्टिक जैसी गंध आएगी।
  • चावल को थोड़ा उबालकर फैला कर रखने पर पता चल सकता है।

0 Response to "प्लास्टिक चावल तो नहीं खा रहे इससे कैंसर हो सकता है Plastic Rice"

Post a comment

Iklan Atas Artikel

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Iklan Bawah Artikel