दुनिया में इनका नाम जो पढ़ाई में हमेशा रहे फ़दड़ success story of student in hindi - Top.HowFN.com

दुनिया में इनका नाम जो पढ़ाई में हमेशा रहे फ़दड़ success story of student in hindi

Success story of student in hindi - दोस्तो, अगर आप पढ़ाई में कुछ पिछड़ गए हैं और अच्छे ग्रेड्स नहीं आएं हैं तो आगे और भी अवसर हैं कुछ कर दिखाने के, फिर चाहे पढ़ाई हो या फिर कोई अन्य क्षेत्र। जानते हैं, ऐसी शख्सियतों के बारे में, जिन्होंने बहुत नाम कमाया और वो भी बिना पढ़ाई में अच्छी परफॉर्मेंस के-
persons who didn't get good grades still got great success. here are some example who didn't get good grades and they are famous around the world.

सचिन तेंडुलकर 
मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंडुलकर को सभी जानते हैं। परंतु क्या आप जानते हैं कि स्कूल के दिनों में उन्हें अच्छे ग्रेड्स नहीं मिलते थे। पढ़ाई को लेकर सचिन में कभी क्रेज नहीं रहा और उन्होंने 10वीं पास करने के बाद स्कूल छोड़ दिया। पढाई के बिना ही उन्होंने क्रिकेट में God का दर्जा पाया।

थॉमस एडिसन
ग्रैविटी, बल्ब, टेलिफोन जैसी कई अहम खोज करने वाले विश्व प्रसिद्ध वैज्ञानिक थॉमस अल्वा एडिसन ने तो फॉर्मल पढ़ाई ही बहुत कम दिनों की की। वे कुछ महीने ही स्कूल गए। उनको सुनने में दिक्कत थी और हेल्थ प्रॉबल्म की वजह से थॉमस की मां ने उन्हें स्कूल भेजने के बजाय घर पर ही पढ़ाया। इसके बावजूद एडिसन इतने बड़े साइंटिस्ट बने।

मैरी कॉम
बॉक्सिंग में इंडिया के लिए ओलिंपिक मेडल लाने वाली मैरी कॉम ने भी स्कूली पढ़ाई से अधिक तवज्जो अपने बॉक्सिंग प्रेम को दी। स्कूल बीच में छोड़कर उन्होंने जो बॉक्सिंग का दामन थामा,  पीछे मुड़कर कभी नहीं देखा। आज उनकी गिनती दुनिया भर की टॉप महिला बॉक्सरों में होती है।

डेनियल रैडक्लिफ
मूवीज़ में हैरी पॉटर का रोल निभाने वाले क्यूज डेनियल रैडक्लिफ को स्कूली दिनों में ही अंदाजा हो गया था कि पढ़ाई उनके लिए नहीं बनी है। शायद इसीलिए कॉलेज को कौन पूछे,  उन्होंने स्कूल की पढ़ाई ही बीच में ही छोड़ दी। मजेदार यह है कि उन्होंने ऐसा हैरी पॉटर का रोल निभाने के लिए किया।

आमिर खान
थ्री इडियटस में पसंद का विषय पढ़ने की हिमायत करने वाले रणछोड़ दास चांचड़ यानी आमिर खान को शुरू से ही एक्टिंग से इतना प्यार था कि उन्होंने पढ़ाई में वक्त बर्बाद न करने का निर्णय किया। उन्होंने 12वीं के बाद ही पढ़ाई पर विराम लगा दिया और फिल्मों की ओर रुख कर लिया।

रितेश अग्रवाल 
OYO Rooms के जरिए बिजनेस की दुनिया में क्रांति लाने वाले रितेश अग्रवाल ने स्कूल के बाद कॉलेज में एडमिशन जरूर लिया लेकिन बीच में ही पढ़ाई छोड़ दी ताकि अपना खुद का बिजनेस शुरू कर सकें। आज OYO Rooms भारत में होटल रूम्स मुहैया कराने वाला सबसे बड़ा प्लैटफॉर्म है। इसके पास 160 शहरों में 40,000 कमरे हैं।

सार यह है कि अगर आपका पढाई में interest नही है तो किसी और क्षेत्र में हाथ आजमाएं। और अगर पढाई में रूचि है तो पढाई को तवज्जो दे। ग्रेडस कम आने का यह अर्थ नही है कि आप असफल हो गये।

0 Response to "दुनिया में इनका नाम जो पढ़ाई में हमेशा रहे फ़दड़ success story of student in hindi"

Post a comment

Iklan Atas Artikel

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Iklan Bawah Artikel