income tax rules in hindi pdf - आयकर अधिकारी किसी भी करदाता को धमकी, चेतावनी या कारण बताओ नोटिस नहीं देंगे। वे वेरिफिकेशन के लिए न तो किसी को आयकर दफ्तर बुला सकते हैं और न ही फोन कर सकते हैं। सीबीडीटी ने इस बारे में दिशा-निर्देश जारी किए हैं। इसके मुताबिक 'ऑपरेशन क्लीन मनी' के तहत करदाताओं से एसएमएस या ई-मेल संवाद में भी भाषा विनम्रता वाली होनी चाहिए। अधिकारियों से कहा गया कि वेरिफिकेशन के सवालों की संख्या कम रखें

असेसिंग अफसरों को सीनियर्स को लूप में रखना होगा 

असेसिंग अफसर थर्ड पार्टी वेरिफिकेशन या स्वतंत्र इन्क्वायरी नहीं करा सकते। उन्हें जो भी जानकारी चाहिए, ऑनलाइन लेनी पड़ेगी। जवाब से संतुष्ट होने पर केस इलेक्ट्रॉनिक तरीके से बंद करना पड़ेगा। वेरिफिकेशन जल्द पूरा करने को कहा गया है, ताकि जो करदाता चाहें वे 31 मार्च 2017 तक गरीब कल्याण योजना का लाभ उठा सकें। किसी के पैसे को कालाधन मानने से पहले उसके परिवार का आकार, पृष्ठभूमि और फाइनेंशियल स्टेटस देखना होगा।

कालेधन का पता चलता है तो असेसिंग अफसर अपने सीनियर की इजाजत से ही कागजात मंगवाएगा और सर्वे करेगा। जरूरी हुआ तो बैंक के कैश काउंटर का सीसीटीवी फुटेज भी देखा जा सकता है। संदेह हुआ तो छोटी रकम की भी जांच संभव- कालेधन को सफेद बनाने या शेल कंपनी का कामकाज छिपाने के मकसद से किसी खाते में छोटी रकम जमा की गई तो उसकी जांच हो सकती है। पहले कहा गया था कि 2.5 लाख रुपए तक जमा के लिए वेरिफिकेशन की जरूरत नहीं है। अब सीबीडीटी ने कहा है, अगर ऐसी सूचना या संदेह है कि किसी खाते का दुरुपयोग हुआ है तो उसे जांच से छूट नहीं मिल सकती।

check que?.ans

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..