कहते हे ना की मोत का कोई टाइम नहीं होता, यह कभी भी आ सकती हे. यह कोई उम्र नहीं देखती. शरीर से प्राण निकलने के कई कारण हो सकते हे. आज की इस पोस्ट में, में आपको मोत से जुडी कुछ ऐसी बातें बता रहा हु जिसके बारे में आपने आज तक नहीं सुना होगा.


हमारे शरीर से तीन तरह से प्राण निकलते हे मतलब मोत तीन प्रकार की होती हे भोतिक, मानसिक और आध्यात्मिक.  
किसी दुर्घटना या बीमारी से मोत होना भोतिक कारण की श्रेणी में आता हे. इस टाइम भोतिक तरंग मानसिक तरंग का साथ छोड़ देती हे और शरीर प्राण निकल जाते हे. यह भी पढ़े वाटर रिटेंशन इसके लक्षण, कारण और सावधानियां

जब ऐसी घटना या दुर्घटना के बारे में सुनते हे, जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती, ऐसे में अगर मोत होती हे तो भोतिक तरंगे मानसिक तरंगो से अलग हो जाती हे. यह मृत्यु का मानसिक कारण हे.

तीसरा कारण हे आध्यात्मिक साधना. इसमें मानसिक तरंग का प्रवाह आध्यात्मिक प्रवाह में समा जाता हे, तब व्यक्ति की मोत हो जाती हे.

Que.Ans

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..