water retention meaning - जब पानी शरीर की कोशिकाओं से नहीं निकल पाता हे और शरीर में ही जमा होने लगता हे तो उसे वाटर रिटेंशन कहते हे. वाटर रिटेंशन पुरे शरीर में भी हो सकता हे और किसी एक अंग में भी हो सकता हे. जब रक्त धमनियों के अंदर के दबाव में बदलाव होता हे तो वाटर रिटेंशन की समस्या सामने आती हे. वाटर रिटेंशन से शरीर में सुजन आने का खतरा रहता हे. आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की वाटर रिटेंशन के लक्षण, कारण क्या हे और इसमें क्या क्या सावधानियां रखनी चाहिए.
वाटर रिटेंशन के लक्षण water retention symptoms
1. शरीर के कई अंगो जैसे पैर, एड़ियो और हाथों में सुजन आना.(edema)
2. पेट में भारीपन महसूस होना.
3. वजन का अचानक बढना और घटना.
4. त्वचा पर निशान बनना.
5. खाने-पिने की चीजों से एलर्जी होना.
6. भोजन करने की इच्छा ना होना.

वाटर रिटेंशन के कारण Causes water retention hindi
1. ज्यादा समय तक एक ही स्थिति में खड़े रहना.
2. ज्यादा नमक और शर्करा का सेवन करना.
3. मासिक स्त्राव के दोरान हार्मोन्स में होने वाले बदलाव.
4. खून की कमी या एनीमिया की शिकायत होने पर.

वाटर रिटेंशन में रखी जाने वाली सावधानियां
1. नमक और शक्कर का सेवन कम से कम करे.
2. बेकिंग पाउडर का इस्तेमाल कम करे.
3. वजन को नियंत्रित करने का प्रयास करें.
4. बहुत समय तक खड़े रहने से बचे.
5. डाइट में प्रोटीन की मात्रा बडाये.
6. शारीरिक गतिविधियाँ बढाने का प्रयास करे.
7. ज्यादा गर्म पानी से स्नान ना करे और हॉट बाथ लेने से परहेज करे.

check que?.ans

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..