गर्भ निरोधक घरेलू उपाय pregnancy hatane ka tarika tablet medicine goli name - Top.HowFN

गर्भ निरोधक घरेलू उपाय pregnancy hatane ka tarika tablet medicine goli name


आज हम आपको pregnancy rokne ke upay hindi me विस्तार से बताएँगे कैसे प्रेग्नेंट होने से बचा जा सकता है सभी घरेलू उपायों का वर्णन करेंगे जो आपको अच्छा लगे उसका प्रयोग से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर ले आपकी सेहत डॉक्टर से अधिक कोई नहीं जान सकता तो चलो शुरू करते है आपको एक एक कर हर विधि को बताएँगे

गर्भ निरोध meaning in hindi -जैसा नाम बैसा ही मतलब गर्भ को रोकना इसका सीधा मतलब हे गर्भनिरोध संभोग (sex) के पहले अथवा बाद में उपयोग की जाने वाली विधियाँ हो सकती है

गर्भपात रोकने के लिए सरकारी कानून है उस कानून के मुताबिक गर्भ को गिरना जुर्म है। और वह डॉक्टर या सलाहकार भी उस जुर्म में बराबर का भागेदारी होगा कुछ विशेष परिस्थितियों में बच्चों में अंतर रखने या बलात्कार से बना भ्रूण(embry) को हटाया जा सकता है

गर्भनिरोधक के लिए मुख्यता 2 प्रकार अपनाए जाते हैं Pregnancy stop medicine name & Methods 


1.  प्राकृतिक(Natural Methods) - प्राकृतिक गर्भनिरोधक तरीका (avoid intercourse on fertile days. There are many variations of natural birth control) प्रयोग करते समय किसी भी तरह की गर्भनिरोधक दवाओं का प्रयोग नहीं किया जाता. इस के खास तरीके में सिर्फ मासिक चक्र को ध्यान में रखते हुए ‘सेफ पीरियड’ में ही सैक्स किया जाता है अथवा withdrawal method से प्रकतिक तरीके से प्रेग्नेंट होने से रोका जा सकता है

A . विदड्राल विधि -जब पुरुष सीमेन स्खलित को स्त्री की वेजाइना से बाहर शुक्र निकाल दे इसके लिए वह क्षण जब लिंग से वीर्य बाहर आने को होता है उससे पहले महिला की योनि से अपना लिंग बाहर निकाल ले और इसे निष्काशन विधि या सहवास विघ्न कोइटस इंटरप्टस भी कहते हैं अगर इस विधि का प्रयोग किया जाए तब -100 में से 28 महिलाएं pregnant हो जाती हैं सही प्रयोग करने पर 100 में 5 महिलाएं गर्भवती हो सकती हैं

2.  कृत्रिम.( Artificial Methods)-प्रैग्नैंसी रोकने की जिम्मेदारी अकसर महिलाओं को ही उठानी पड़ती है. जो अक्सार होता है (The most commonly used method) इसलिए उन्हें इस के लिए इस्तेमाल होने वाले कौंट्रासैप्टिव(contraceptive) की जानकारी होना बेहद जरूरी हे गभनिरोध दवाओं शरीर दुष्प्रभावित होने की प्रबल सम्भाबना होती है

गर्भनिरोधक गोलियां : गर्भनिरोधक गोलियां भी कई प्रकार की होती हैं :
A. साइकिल गर्भनिरोधक गोली pregnancy rokne ki goli name: इस का पूरा कोर्स 21 दिन का होता है. इस की 1 गोली(tablet) माहवारी के पहले दिन से ही रोज ली जाती है. इस के साथ ही 3 हफ्ते तक बिना नागा यह गोली लेनी चाहिए.

फायदा : इस के उपयोग से माहवारी के समय दर्द से भी आराम मिलता है.

नुकसान : आप यदि एक दिन भी गोली खाना भूल गईं तो प्रैग्नैंट हो सकती हैं, साथ ही सिरदर्द, जी मिचलाना, वजन बढ़ना आदि समस्याएं भी हो जाती हैं.

B. कौंट्रासैप्टिव पिल : इसे OCP भी कहा जाता है. इस का भी कोर्स 21 दिनों का होता है, जिस में 7 गोलियां हीमोग्लोबिन की भी होती हैं. इस तरीके से महिलाओं को एनीमिया की शिकायत नहीं होती क्योंकि इस में प्रोजेस्टेरोन और इस्ट्रोजन हार्मोन होते हैं.
C. आपातकालीन गोलियां: असुरक्षित सहवास के बाद अनचाहे गर्भ से बचने के लिए इस का इस्तेमाल किया जाता है.

फायदा : इस गोली का सेवन यौन संबंध बनाने के 72 घंटों के अंदर किया जाता है तो यह 96 फीसदी तक प्रभावशाली होती है.

नुकसान : इस का प्रयोग करना स्वास्थ्य की दृष्टि से ठीक नहीं है.

D. कौपर टी : गर्भनिरोधक के रूप में यह विश्व में सब से ज्यादा इस्तेमाल होती है. यह अंगरेजी के टी (ञ्ज) अक्षर के शेप की होती है और इस में पतला सा तार लगा होता है. इसे गर्भाशय के भीतर लगाया जाता है. इस से गर्भ नहीं ठहर पाता. जब भी बच्चे की चाहत हो इसे निकलवाया जा सकता है.

फायदा : इस में 99 फीसदी तक फायदा है. एक बार बच्चा होने के बाद दूसरा बच्चा होने के समय में गैप के लिए कौपर टी एक अच्छा जरिया है.

नुकसान : कौपर टी लगाने के बाद 2-3 महीने तक माहवारी ज्यादा आती है, लेकिन बाद में ठीक हो जाती है. इसे डाक्टर के द्वारा ही लगाया और निकलवाया जाता है.

E. गर्भनिरोधक इंजैक्शन : यह इस्ट्रोजन व प्रोजेस्टेरौन का इंजैक्शन है. यह 2 महीने या 3 महीने में लगाया जाता है. यह ओव्यूलेशन रोकता है, जिस से गर्भ नहीं ठहरता
फायदा : इस का 99 फीसदी फायदा होता है. माहवारी भी कम दिनों तक होती है और माहवारी में दर्द नहीं होता.

नुकसान : इस से वजन बढ़ जाता है. इस इंजैक्शन के बाद नियमित व्यायाम और खानपान में संतुलित आहार जरूरी है.
Powered by Blogger.