कलियुग का समय अंत से जुड़ी बातें kalyug hinduism - Top.HowFN

कलियुग का समय अंत से जुड़ी बातें kalyug hinduism

when is kaliyuga going to end kali yuga start kali yuga kalki avatar songs end of kalyug what will happen kali yuga definition kaliyuga in hindi hindu era
ब्रह्मवैवर्त पुराण में बतलाया है kali yuga start OR end के बारे में हम कुछ अंश बताते हे अभी कलयुग चल रहा है, और द्वापरयुग के समाप्ति के बाद कुल 5000 बर्ष बीते है। अधर्म फेलना स्टार्ट हो गया हे अब इंसान एक दूसरे पर भरोशा करना बंद कर दिया है। तो ग्रंथो पे कैसे करेगा जब खुद पे तो विश्बास नही, कलियुग में ऐसा समय भी आएगा जब इंसान की उम्र बहुत कम रह जाएगी,युवावस्था समाप्त हो जाएगी। आने वाले समय में 20 की उम्र में ही आएगा बुढ़ापा , ग्रंथों में इस सृष्टि के आरंभ से अंत तक के काल को चार युगों यानी सतयुग, त्रैतायुग, द्वापरयुग व कलियुग में बांटा गया है। कलियुग के अंत समय को लेकर अनेक धर्म ग्रंथों मेंं कई रोचक बातें लिखी हैं, आइए जानते हैं इस युग से जुड़ी कुछ ऐसी ही बातों को... ज्योतिष ग्रन्थ सूर्य सिद्धांत में बताया गया है की कलयुग 4,32,000 वर्ष तक रहेगा
देवताओं के इन दिव्य वर्षो के आधार पर चार युगों की मानव सौर वर्षों में अवधि इस तरह है –
  1. सतयुग 4800 (दिव्य वर्ष) 17,28,000 (सौर वर्ष)
  2. त्रेतायुग 3600 (दिव्य वर्ष) 12,96,100 (सौर वर्ष)
  3. द्वापरयुग 2400 (दिव्य वर्ष) 8,64,000 (सौर वर्ष)
  4. कलियुग 1200 (दिव्य वर्ष) 4,32,000 (सौर वर्ष)
16 वर्ष की आयु में ही लोगों के बाल पक जाएंगे और वे 20 वर्ष की आयु में ही वृद्ध हो जाएंगे। युवावस्था समाप्त हो जाएगी। यह बात सच भी प्रतीत होती है,क्योंकि प्राचीन  काल में इंसानों की औसत उम्र करीब 100 वर्ष  रहती थी। उस काल में 100 वर्ष से अधिक जीने वाले लोग भी हुआ करते थे,लेकिन आज के समय में इंसानों की औसत आयु बहुत कम (60-70 वर्ष) हो गई है। भविष्य में भी इंसानों की औसत उम्र में कमी आने की संभावनाएं काफी अधिक हैं,क्योंकि प्राकृतिक वातावरण लगातार बिगड़ रहा है और हमारी
दिनचर्या असंतुलित हो गई है। 

पुराने समय में लंबी उम्र के बाद ही बाल सफेद
होते थे,लेकिन आज के समय में युवा अवस्था
में ही स्त्री और पुरुष दोनों के बाल सफेद हो
जाते हैं। जवानी के दिनों में बुढ़ापे के रोग होने लगते हैं। यहाँ क्लिक कर देखे राम सेतु तैरते पत्थर दुनिया के रहस्यमयी स्थान

पुरुष होंगे स्त्रियों के अधीन
.
भगवान नारायण ने स्वयं नारद को बताया है कि कलियुग में एक समय ऐसा आएगा जब सभी
पुरुष स्त्रियों के अधीन होकर जीवन व्यतीत करेंगे।
हर घर में पत्नी ही पति पर राज करेगी।
पतियों को डाट-डपट सुनना पड़ेगी,पुरुषों की
हालत नौकरों के समान हो जाएगी।
.
गंगा भी लौट जाएगी वैकुंठ धाम !
.
कलियुग के पांच हजार साल बाद गंगा नदी सूख जाएगी और पुन: वैकुण्ठ धाम लौट जाएगी।
जब कलियुग के दस हजार वर्ष हो जाएंगे तब
सभी देवी-देवता पृथ्वी छोड़कर अपने धाम लौट जाएंगे।
इंसान पूजन-कर्म,व्रत-उपवास और सभी धार्मिक काम करना बंद कर देंगे।
.
अन्न और फल नहीं मिलेगा !
.े
एक समय ऐसा आएगा,जब जमीन से अन्न उपजना बंद हो जाएगा। पेड़ों पर फल नहीं लगेंगे।
धीरे-धीरे ये सारी चीजें विलुप्त हो जाएंगी।
गाय दूध देना बंद कर देगी
.
समाज हिसंक हो जाएगा
.
कलियुग में समाज हिंसक हो जाएगा।
जो लोग बलवान होंगे उनका ही राज चलेगा। मानवता नष्ट हो जाएगी।
रिश्ते खत्म हो जाएंगे।
एक भाई दूसरे भाई का ही शत्रु हो जाएगा।
.
लोग देखने-सुनने और पढऩे लगेंगे
अनैतिक चीजें !
कलियुग में लोग शास्त्रों से विमुख हो जाएंगे। अनैतिक साहित्य ही लोगों की पसंद हो जाएगा।
बुरी बातें और बुरे शब्दों का ही व्यवहार किया जाएगा।
.
स्त्री और पुरुष, दोनों हो जाएंगे अधर्मी !
.
कलियुग में ऐसा समय आएगा जब स्त्री और पुरुष, दोनों ही अधर्मी हो जाएंगी।
स्त्रियां पतिव्रत धर्म का पालन करना बंद कर देगी और पुरुष भी ऐसा ही करेंगे।
स्त्री और पुरुषों से संबंधित सभी वैदिक नियम विलुप्त हो जाएंगे।
.
चोर और अपराधियों की संख्या बहुत
अधिक हो जाएगी !
.
इस काल में चोर और अपराधियों की संख्या इतनी अधिक बढ़ जाएगी कि आम इंसान ठीक से जीवन जी नहीं पाएगा।
लोग एक- दूसरे के प्रति हिंसक हो जाएंगे और
सभी के मन में पाप प्रवेश कर जाएगा।
.
कल्कि अवतार करेगा अधर्मियों का विनाश !
.
कलियुग के अंतिम काल में भगवान विष्णु का
कल्कि अवतार होगा।
यह अवतार विष्णुयशा नामक ब्राह्मण के घर
जन्म लेगा।
भगवान कल्कि सभी अधर्मियों का नाश करेंगे।
भगवान कल्कि केवल तीन दिनों में पृथ्वी से समस्त
अधर्मियों का नाश कर देंगे और बहुत सालों तक विश्व पर शासन कर धर्म की स्थापना करेंगे।
.
युग के अंत में ऐसे आएगा प्रलय
.
कलियुग में अंतिम समय में बहुत मोटी धारा से लगातार वर्षा होगी,जिससे चारों ओर पानी ही
पानी हो जाएगा।
समस्त पृथ्वी पर जल हो जाएगा और प्राणियों
का अंत हो जाएगा।
इसके बाद 1,70,000 वर्षों का संधिकाल (एक युग के अंत और दूसरे युग के प्रारंभ के बीच के समय को संधिकाल कहते हैं)।
संधिकाल के अंतिम चरण में एक साथ बारह सूर्य उदय होंगे और उनके तेज से पृथ्वी सूख जाएगी
और पुनः सत्ययुग का प्रारंभ होगा।
=============
यह पुराण कहता है कि इस ब्रह्माण्ड में असंख्य
विश्व विद्यमान हैं।
प्रत्येक विश्व के अपने-अपने विष्णु, ब्रह्मा और
महेश हैं।
इन सभी विश्वों से ऊपर गोलोक में भगवान
श्रीकृष्ण निवास करते हैं।
इस पुराण के चार खण्ड हैं- ब्रह्म खण्ड,
प्रकृति खण्ड,गणपति खण्ड और श्रीकृष्ण
जन्म खण्ड।
इन चारों में दो सौ अठारह अध्याय हैं।
जब-जब धर्म की हानि होती है, ईश्वर अवतार लेकर अधर्म का अंत करते हैं। हिन्दू धर्म में इस संदेश के साथ अलग-अलग युगों में जगत को दु:ख और भय से मुक्त करने वाले ईश्वर के कई अवतारों के पौराणिक प्रसंग हैं। दरअसल, इनमें सच्चाई और अच्छे कामों को अपनाने के भी कई सबक हैं। साथ ही इनके जरिए युग के बदलाव के साथ प्राणियों के कर्म, विचार व व्यवहार में अधर्म और पापकर्मों के बढ़ने के भी संकेत दिए गए हैं।

5 comments:

  1. इस भ्रमांड में और भी विश्व है क्या?? मतलब हम जैसे कई लोग है क्या ?? इस पृत्वि के तरह और भी पृथ्वी है क्या??? इस ब्रम्हांड में???

    ReplyDelete
    Replies
    1. iss bharmand me vish wah hai jaise dharti maa ki jameen par jo meetti ke chote chote karn hai waise bhammand me bhi vish chupa hua hai....koi ise apni nazar se bhut chota sa samajhta hai or toh koi isse aasankh manta hai.....hey purush jaise baalo ki ginti nhi ki ja sakti hai waise prathvi ke uppar jitne gharaye hai unki bhi tulna nhi ki jaa sakti hai bus yeh man liya jata hai ki bhammand bhi anginat hai....jaise kaha jata hai ki hamare devtao ki sankhiya 36,00,00,000 hai magar unke naam lene me kisko itni shakti prapt hui hai...

      Delete
  2. agar barmaand ko wo bhagwan ke dwaara banaya gaya hai to ek sawal or mere man me aata hai ki bhagwan ko kisne banaya hai, matlab unka janam kaise huaa

    ReplyDelete
  3. Is page me jo puran ka ullekh hai aap us puran ka name bataye asi prathna hai

    ReplyDelete
  4. (agar barmaand)..... mujhe nhi malum ki kon si puran he?
    me 21 saal ka hu.. bachpan se hi meri rochi Science me thi, discovery channel dekhta aa raha hu, samay or bramaand ke baare me samjata aaya hu.. aaj se kuch samay pahle tak me god he is par yakin nhi tha. mene kisi dharm ki book ko nhi pada he.. Lekin me yah jaan chuka hu ki ye jahan god ne hi banaya he apne aap nhi bana. 100% proved he. en sawaalo ke jawab mil chuke he mujhe. lekin bas iska uttar nhi malum he ki god ko kisne banaya he.
    aap mere sawal ka utar denge aisi aasa karta hu

    ReplyDelete

मोबाइल नो. ना डाले नेट पर सभी को देखेगा सिर्फ अपने विचार दे कमेंट्स बॉक्स में ✓ Notify me क्लिक करले अगले 48 घंटे में जवाव देने का प्रयास करेगे, विज्ञापन कमैंट्स ना करे 1 घंटे के अंदर हटा दी जाएगी विज्ञापन चार्ज पे कर Ads दिखाए

Powered by Blogger.