स्टार्टअप क्या है startup india kya hai meaning hindi

24 September 2018

स्टार्टअप क्या है startup india kya hai meaning hindi

  HOWFN       24 September 2018
स्टार्ट अप इंडिया Startup india government Meaning - एक योजना है जिसको नरेंद्र मोदी सरकार ले कर आई हे जिसका सीधा लाभ देश के करोडो लोगो को मिलेगा। नए आइडिया के साथ आप ऐसे काम की शुरुआत करें जो आपको भी आगे बढ़ाए और देश को भी पिछले एक दशक में भारत में तेज़ी से लोग इंटरनेट से जुड़ रहे हैं। 
ऑनलाइन शॉपिंग हो, या फिर बिल पेमेंट या मोबईल वॉलेट, पेमेंट सर्विसेस देश में ऑनलाइन पेमेंट का कारोबार लगभग 2 लाख करोड़ का है। जो 25 से 30 फीसदी की दर से हर साल बढ़ रहा है। पेटीएम, पेयू और ऑक्सिजन जैसे स्टार्टअप बायर प्रोटेक्शन और आपके अकाउंट को मॉनीटर करने की सारी सुविधाओं पर भी जोर दे रही हैं ताकी वो लोगों का विश्वास जीत सकें।

आज लगभग 8.5 करोड़ लोग पे टीऍम वॉलेट इस्तेमाल करते हैं। पे-यू, जो कि एक चेकआउट और वॉलेट सर्विस है, 40 लाख से ज्यादा यूसर्स को ट्रांजेक्शन करने में मदद करती है। और ऑक्सिजन अपने प्लैटफॉर्म के जरिए हर महीने 5 करोड़ ट्रांजेक्शन संभव बनाता है। 

स्टार्टअप की शुरूआत करने के लिए आपको क्या-क्या चाहिए 

आइये इस पर डालते हैं एक नजर। स्टार्टअप के लिए सबसे पहली जरूरत है आइडिया। ये आइडिया किसी ऐसे प्रोडक्ट या सर्विस का होना चाहिए, जो लोगों की किसी समस्या का हल करे। आपका आईडिया किसी प्रोडक्ट या सर्विस का हो सकता है। लेकिन आपको परखना ये है की आपकी ये सर्विस या आपका प्रोडक्ट कितना अलग है, इससे कितने लोंगों की कौन सी समस्या का समाधान होता है (यहाँ क्लिक से करोड़पति बिजनेस तरीके New Business ideas)

स्टार्टअप के लिए दूसरी जरूरत है बाजार। आपके प्रोडक्ट या सर्विस किसके लिए हैं और क्या ऐसा कुछ पहले से ही मार्केट में है, ये ध्यान दें। ये भी ध्यान दें कि क्या बाजार में पहले से ही आपके प्रोडक्ट जैसे दूसरे प्रोडक्टस मौजूद हैं। अगर हां तो आप अपने प्रोडक्ट के साथ क्या अलग कर सकते हैं जो पहले नहीं हुआ। याद ये रखना होगा की लोग जरूरत खरीदते हैं और आपके प्रोडक्ट या सर्विस को उनकी वो जरूरत पूरी करनी होगी। अब जब आईडिया और कंज्यूमर साफ हो गए दिमाग में तो बात है कार्यान्वयन की। 

यानी प्लान क्या है? शुरूआत कहां से होगी और आगे कैसे बढ़ेंगें उसका एक ब्लूप्रिंट तैयार करना होगा। इसके अलावा स्टार्ट अप काम कैसे करेगी, किस तरह के प्रोसेस होंगे, इंफ्रासट्रचर और फाईनैंस सभी कुछ एक पेपर पर साफ साफ लिखना होगा। और तो और अगले कम से कम 3 साल की प्रोजेक्टेड बैलेंसशीट बनानी होगी। अब बारी आती है टीम की। शुरूआत में एक या दो लोगों से काम चलता है, लेकिन जैसे जैसे आप असल में बिजनेस करना शुरू करेंगे आपको जरूरत पड़ेगी एक टीम की। अच्छी टीम से सफल स्टार्ट-अप बनता है। फाउंडर अपने विजन और ड्रीम से स्टार्ट को लीड करता है और यही विजन कंपनी का हिस्सा बन रहे हर नए व्यक्ति का भी मिशन होना चाहिए। टीम को प्रोडक्ट और मार्केटिंग की जरूरत को माप-तोल के ही बनाना चाहिए। आखिर में मगर सबसे जरूरी बात ये है कि किसी भी Startup ideas से आगे बढ़ कर बाजार में सफलता पाने के लिए जरूरत होती है कैपिटल यानी पैसे की। ये पैसा क्या आपके पास है? नहीं तो क्या आपनी सेविंग्‌स को इसमें लगाना चाहते हैं? क्या आपके को-फाउंडर भी आपके आइडिया में पैसा लगाने को तैयार हैं। कहते हैं स्टार्ट अप में पैसा लगाने के लिए जरूरत होती है फेमिली, फ्रेंड्स और कुछ सनकी लोगों की
logoblog

Thanks for reading, Please share Facebook | Whatsapp