पैसा है तो लगाए यहाँ होगा फायदा देखे गवर्मेंट स्कीम - Top.HowFN

पैसा है तो लगाए यहाँ होगा फायदा देखे गवर्मेंट स्कीम

रुपये कैसे कमाए ? क्या आप जानते है पूरे विश्व मे ऐसे बहुत से लोग है जो इंटरनेट से बहुत सा पैसा कमा रहे है। अगर आप चाहे तो आप भी ये पैसा कमा सकते है इसमे कोई विशेष प्रकार की ट्रेनिंग की आवश्यकता नही है। सरल उपाय 
पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम Post Office Savings Schemes

ब्याज दर : 8.4 फीसदी

लॉक इन पीरियड : पांच साल लेकिन डिडक्शन के साथ एक साल बाद कैश ले सकते हैं।

टैक्स लाभ : कोई नहीं

निवेश की सीमा : सिंगल अकाउंट में 1,500 रुपये से 4.5 लाख रुपये और जॉइंट अकाउंट में 9 लाख रुपये।

फायदा : जो लोग एक सुरक्षित मासिक आय चाहते हैं उनके लिए यह स्कीम उपयुक्त है। सीनियर सिटिजंस अपने निवेश का एक हिस्सा इसमें लगा सकते हैं।

नुकसान : लंबा लॉक इन पीरियड। बैंक एफडी की तरह यह सीनियर सिटिजन को प्रीफेरेंशल रेट ऑफ इंटरेस्ट नहीं मलिता है आँखों के नीचे काले घेरे डार्क सर्कल्स 

-> किसान विकास पत्र

ब्याज दर: 8.7 फीसदी

लॉक इन पीरियड: 100 महीना। ढाई साल पैसा निकाला जा सकता है।

टैक्स लाभ: कोई नहीं है

निवेश सीमा: कम से कम 1,000 रुपये और अधिकतम कोई सीमा नहीं। निवेश 1,000 रुपये, 5,000 रुपये, 10,000 रुपये और 50,000 रुपये के मूल्य वर्ग में किया जाना है।

फायदा: आकर्षक एवं सुरक्षित ब्याज दर। ढाई साल बाद कैश लिया जा सकता है। ट्रांसफर करने योग्य है।

नुकसान: अर्जित ब्याज पर टैक्स लगेगा।

जरूर पढे पैसे ही पैसे Ghar Baithe Paisa Kamaye 

-> पब्लिक प्रविडेंट फंड

ब्याज दर: 8.7 फीसदी

लॉक इन पीरियड: 15 साल। सातवें वित्त वर्ष में कुछ पैसा निकालने की अनुमति है। तीसरे वित्त वर्ष से लोन लिया जा सकता है।

टैक्स लाभ: 1.5 लाख तक निवेश पर सेक्शन 80सी के तहत छूट।

फायदा: आकर्षक, गारंटीड और टैक्स फ्री रिटर्न। निवेश, मच्योरिटी पर टैक्स फ्री।

नुकसान: लंबे लॉक इन पीरियड की वजह से जल्दी कैश नहीं किया जा सकता। अल्पकालिक जरूरतों को पूरा नहीं कर सकता।

-> 10 इयर नैशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट

ब्याज दर: 8.8 फीसदी

लॉक इन पीरियड: 10 साल

टैक्स लाभ: सेक्शन 80सी के तहत 1.5 लाख रुपये तक डिडक्शन।

निवेश की सीमा: कम से कम 100 रुपये। कोई अधिकतम सीमा नहीं। निवेश 100 रुपये, 500 रुपये, 1,000 रुपये, 5,000 रुपये और 10,000 रुपये मूल्य वर्गों में किया जाना है।

फायदा: खरीदने और समझने में आसान। टैक्स बेनेफिट के साथ निश्चित रिटर्न।

नुकसान: अर्जित ब्याज मच्योरिटी पर टैक्सेबल हैं। सीनियर सिटिजंस के लिए टैक्स बचाने वाले बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट्स की तरह आकर्षक नहीं।

-> सीनियर सिटिजंस सेविंग्स स्कीम

ब्याज दर: 9.3 फीसदी

लॉक इन पीरियड: पांच साल। एक साल और दो साल पर क्रमश: 1.5 फीसदी और 1 फीसदी डिडक्शन के साथ प्रीमच्योर क्लोजर संभव। हर क्वॉर्टर में ब्याज का भुगतान किया जाता है जिससे लॉक इन पीरियड में लिक्विडिटी बनी रहती है।

टैक्स लाभ: 1.5 लाख रुपये तक निवेश पर 80 सी के तहत डिडक्शन।

निवेश की सीमा: 1,000 रुपये से 15 लाख रुपये तक।

फायदा: आंशिक लिक्विडिटी के साथ काफी ज्यादा और सुरक्षित रिटर्न।

नुकसान : लंबी राशि लॉक करके रखने से वरिष्ठ नागरिकों को चिकित्सा एवं अन्य इमर्जेंसी आवश्यकताओं के लिए फंड की कमी पड़ सकती है।

-> 5 इयर नैशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट

ब्याज दर: 8.5 फीसदी

लॉक इन पीरियड्स: पांच साल

टैक्स बेनेफिट: 80 सी के तहत 1.5 लाख रुपये तक पर डिडक्शन।

निवेश की सीमा: कम से कम 100 रुपये। कोई अधिकतम सीमा नहीं। निवेश 100 रुपये, 500 रुपये, 1,000 रुपये, 5,000 रुपये और 10,000 रुपये मूल्य वर्गों में किया जाना है।

फायदा: खरीदने और समझने में आसान। टैक्स बेनेफिट के साथ निश्चित रिटर्न

नुकसान: अर्जित ब्याज मच्योरिटी पर टैक्सेबल हैं। सीनियर सिटिजंस के लिए टैक्स बचाने वाले बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट्स की तरह आकर्षक नहीं।

-> सुकन्या समृद्धि योजना

ब्याज दर: 9.2 फीसदी

लॉक इन पीरियड: जब तक लड़की 21 साल की न हो जाए। लड़की की उम्र 18 साल होने के बाद बैलेंस का 50 फीसदी तक निकाला जा सकता है। 18 साल के बाद लड़की की शादी होने पर मच्योरिटी से पहले पूरा पैसा निकाला जा सकता है।

टैक्स लाभ: 1.5 लाख तक निवेश के लिए 80सी के तहत डिडक्शन।

निवेश की सीमा: 1,000 रुपये से 1.5 लाख रुपये तक।

फायदा: काफी ज्यादा, टैक्स फ्री और गारंटीड रिटर्न। अपनी 10 साल की उम्र तक की बच्ची के लिए शिक्षा का फंड बनाने की चाहत रखने वाले अभिभावकों के लिए आदर्श स्कीम।

नुकसान: काफी लंबा लॉक इन पीरियड। पीपीएफ की तुलना में इसकी लिक्विडिटी बहुत ही कम है।

-> 5 इयर पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट्स

ब्याज दर: पांच साल

टैक्स लाभ: 80सी के तहत 1.5 लाख रुपये तक डिडक्शन।

निवेश की सीमा: कम से कम 200 रुपये तक। अधिकतम कोई सीमा नहीं। आगे 200 के मल्टिपल्स यानी जैसे 200 रुपये, 400 रुपये, 600 रुपये आदि में निवेश करना है।

फायदा: समझने, ऑपरेट करने और निवेश करने में आसान। टैक्स की छूट।

नुकसान: अर्जित रिटर्न पर टैक्स लगेगा। सीनियर सिटिजन के लिए तो कोई फायदा नहीं क्योंकि वे टैक्स बचाने वाले अन्य एफडी में निवेश करके 9-9.25 फीसदी रिटर्न कमा सकते हैं।

No comments

इस कमेंट्स बॉक्स में ✓ Notify me क्लिक करले हम अगले 48 घंटे में आपकी Information इसी साइट पर देने का प्रयास करेगे...विज्ञापन कमैंट्स ना करे अन्यथा 1 घंटे के अंदर हटा दी जाएगी विज्ञापन चार्ज पे कर अपना ads दिखाए Top.HOWFN साइट पर

Powered by Blogger.