बार बार पेशाब आना लगने का कारण व उपचार Too much Urination Problem hindi - Top.HowFN

बार बार पेशाब आना लगने का कारण व उपचार Too much Urination Problem hindi


भारत में तेजी से बढ़ने वाला Rog इसमें इंसान की गुर्दे यानी कि किडनी की समस्या वह जाती है यह ज्यादातर मामलों में कम पानी पीने की वजह या अशुद्ध पानी पीने की वजह से भारत में यह समस्या हो रही है आइए जानते हैं बार बार पेशाब आना urination kya hai लगभग एक करोड़ लोग हर साल इस समस्या से जूझ रहे होते हैं


मूत्राशय(Urinary bladder): के अधिक सक्रिए हो जाने से बार बार यूरीनेशन में इजाफा हो जाता हे, या छोटा मूत्राशय bladder की वजह से हो सकता है जो बच्चों में देखा जाता है।

 बार बार पेशाब आने के कारण हो सकते हैं 


  1. जिन लोगों को प्रमेह या डायबिटीज होती है उन्हें भी अधिक पेशाब आती है
  2. अधिक चाय. कॉफ़ी, शराब और ठंडे पेय पीना।
  3. अत्यधिक यौन गतिविधियों 
  4. छोटे बच्चों को अधिक पेशाब आती है तो उनके पेट में कीड़े हो सकते हैं।
  5. जिन लोगों को डायबिटीज है या होने वाली हो तब भी अधिक पेशाब आती है। 
  6. मौसम के हिसाब से सर्दिओं(ठंड)में शरीर में मूत्र निर्माण में इजाफा हो जाता हे 
  7. मूत्र पथ के संक्रमित हानिकारक बैक्टीरिया के कारण भी  

Bar Bar peshab Aana समस्या का उपचार

  • अधिक चाय, कॉफ़ी, शराब, बीयर और ठंडे पेय पीना बंद कर दें अगर बिलकुल बंद नहीं सकते तो थोड़ी मात्रा में ही पिएं।
  •  दिन में दो बार एक चम्मच अजवाइन को नमक के साथ खाकर पानी पी लें। ऐसा करने से कुछ ही दिनों में अधिक पेशाब का रोग ठीक हो जाएगा। 
  • आंवले का रस का सूखा चूर्ण गुड के साथ मिलाकर लेने से पेशाब खुलकर आता है 
  •  रोजाना नाश्ते में नाश्ता करने के बाद दो पके केले खाएं। कुछ ही दिनों अधिक पेशाब आना बंद हो जाएगा। 
  •  मेथी का साग खाने से अधिक पेशाब आने की समस्या ठीक हो जाती है। मेथी के साग की मात्रा एक कटोरी होनी चाहिए। 
  •  अगर बच्चा अधिक पेशाब करता है तो जायफल घिसकर एक चौथाई चम्मच चटाकर बच्चे को दूध पिला दें। 3 से 4 दिनों में अधिक पेशाब आना बंद हो जाएगा। 
  •  पालक का साग खाने से भी अधिक पेशाब आना सामान्य हो जाता है। रोजाना एक कटोरी पालक का साग खाएं।

गोलियाँ

  Nisaamalaki 2 Tablet 
Powered by Blogger.