Dhara 144 kya hai hindi mai section rules ACT meaning hindi - Top.HowFN

Dhara 144 kya hai hindi mai section rules ACT meaning hindi


dhara 144 kya hai hindi mai, dhara 144 kya hai in hindi, dhara 144 kya hai , dhara 144 kya hai hindi me , dhara 144 kya h, act 144 kya hai, dhara 144 kya hoti hai, dhara 144 kya hota hai, article 144 kya hai in hindi, what is sec 144 what is dhara 144 in hindi which of the following platforms does not support roblox? what is section 144 in hindi what is act 144

 9 नवम्वर 2019 को अयोध्या का फैसला आ रहा है इसलिए देश के कई हिस्सों में १४४ धारा लगाई गयी है आइये जानते है धारा 144 का मतलब और क्यों लगाए जाती है #अयोध्या विवाद मामले में फैसला आने के मद्देनजर हर साल 25 नवंबर से 5 दिसंबर तक आयोजित होने वाला वार्षिक #लखनऊ महोत्सव जनवरी के तीसरे सप्ताह तक के लिए टाल दिया गया है।

dhara 144 kya hoti hai? 


धारा 144 शांति कायम करने के लिए उस स्थिति में लगाई जाती है जब किसी तरह के सुरक्षा संबंधित खतरे या दंगे की आशंका हो। धारा-144 जहां लगती है, , उस इलाके में पांच या उससे ज्यादा आदमी एक साथ जमा नहीं हो सकते हैं। धारा लागू करने के लिए इलाके के जिलाधिकारी द्वारा एक नोटिफिकेशन जारी किया जाता है।

धारा 144 लागू होने के बाद इंटरनेट सेवाओं को भी आम पहुंच से ठप किया जा सकता है। यह धारा लागू होने के बाद उस इलाके में हथियारों के ले जाने पर भी पाबंदी होती है।

आज #अयोध्या पर आने वाला फैसला शांति और प्यार फैलाये, "श्री राम" ने जीवन भर दुष्टों और नफरत करने वालो का संहार किया, आप भी कृपया नफरत न फैलाए।

सजा का प्रावधान 

गैर कानूनी तरीके से जमा होने वाले किसी भी व्यक्ति के खिलाफ दंगे में शामिल होने के लिए मामला दर्ज किया जा सकता है। इसके लिए अधिकतम तीन साल कैद की सजा हो सकती है।

कब तक लग सकती है धारा-144? 

धारा-144 को 2 महीने से ज्यादा समय तक नहीं लगाया जा सकता है। अगर राज्य सरकार को लगता है कि इंसानी जीवन को खतरा टालने या फिर किसी दंगे को टालने के लिए इसकी जरूरत है तो इसकी अवधि को बढ़ाया जा सकता है। लेकिन इस स्थिति में भी धारा-144 लगने की शुरुआती तारीख से छह महीने से ज्यादा समय तक इसे नहीं लगाया जा सकता है।

धारा-144 और कर्फ्यू के बीच फर्क 

ध्यान रहे कि सेक्शन 144 और कर्फ्यू एक चीज नहीं है। कर्फ्यू बहुत ही खराब हालत में लगाया जाता है। उस स्थिति में लोगों को एक खास समय या अवधि तक अपने घरों के अंदर रहने का निर्देश दिया जाता है। मार्केट, स्कूल, कॉलेज आधि को बंद करने का आदेश दिया जाता है।

 सिर्फ आवश्यक सेवाओं को ही चालू रखने की अनुमति दी जाती है। इस दौरान ट्रैफिक पर भी पूरी तरह से पाबंदी रहती है।

No comments

Powered by Blogger.