Law day date in india 26 November देश में शासन व्यवस्था बनाए रखने के लिए संविधान की बेहद जरूरत होती है एक तरह से देश का संविधान उस देश की नींव होता है किसी भी देश का संविधान उसके लिए एक ऐसा रास्ता होता है, जिसपर चल कर कोई भी देश सुख-समृद्धि और विकास की ओर अग्रसर होता है.

आज हम बात कर रहे हैं भारतीय संविधान के बारे में. हमारा देश भारत 15 अगस्त 1947 को आजाद हुआ और इसी के बाद से ही देश में कानून और व्यवस्था बनाए रखने के लिए संविधान की जरूरत महसूस हुई. इस काम का जिम्मा दिया गया डॉ. भीमराव अम्बेडकर को. पूरे 2 साल, 11 महीने और 18 दिन बाद 26 नवंबर 1949 को भारतीय संविधान बन कर तैयार हुआ.

 Indian constitution day Facts


1. पूरी दुनिया में भारत का संविधान सबसे बड़ा है इसमें 448 अनुच्छेद, 12 अनुसूचियां और 94 संसोधन शामिल हैं.

2. उद्देश्य संकल्प 13 दिसंबर 1946 को पण्डित जवाहर लाल नेहरू द्वारा लाया गया था. इसने संविधान के लिए एक रूपरेखा के रूप में कार्य किया.

3. संविधान का मसौदा तैयार करने के लिए 29 अगस्त 1947 को एक समिति का गठन हुआ था

4. संविधान समिति के अध्यक्ष के रूप में डॉ भीमराव अम्बेडकर को नियुक्त किया गया.

5. संविधान के अनुसार भारत का कोई आधिकारिक धर्म नहीं है यह ना तो किसी धर्म को बढ़ावा देता है, ना ही किसी से भेदभाव करता है.

6. 24 जनवरी 1950 को संविधान सभा में रविन्द्र नाथ टैगोर द्वारा रचित जन-गन-मन को भारत के राष्ट्रगान के रूप में स्वीकार किया गया था.
भारतीय संविधान
7. संविधान सभा ने राष्ट्र ध्वज तिरंगा का प्रारूप 22 जुलाई 1947 को अपनाया था.

8. संविधान के कुछ बिंदुओं को दूसरे देश के संविधानों से लिया गया है, जैसे की स्वतंत्रता का सिद्धांत, समानता और भाईचारा फ्रांसीसी संविधान से लिया गया है.

9. संविधान सभा के 284 सदस्यों ने 24 जनवरी 1950 को दस्तावेज पर हस्ताक्षर किए. 2 दिन बाद इसे प्रभाव में लाया गया.

10. भारतीय संविधान को दुनिया के सबसे अच्छे संविधानों में से एक माना जाता है.

check que?.ans

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..