News Police alert during Deepavali 2017 दिवाली के त्यौहारी सीजन को देखते हुए मध्य प्रदेश की साइबर पुलिस ने ऑनलाइन शॉपिंग को लेकर अलर्ट है. सायबर पुलिस ने आम जनता से खरीदी के समय सतर्कता बरतने की अपील की है.

दरअसल, ऑनलाइन शॉपिंग के जरिए अक्टूबर में सबसे ज्यादा खरीदी होती है. दिवाली की खरीदी से एक ओर जहां बाजारों में रौनक है, वहीं ऑनलाइन बाजार भी बंपर ऑफर देकर लोगों को लुभा रहा है. ऑनलाइन शॉपिंग का आंकड़ा अरबों रुपए तक पहुंच सकता है.

पुलिस अधिकारियों का कहना है कि ऑनलाइन शॉपिंग की आड़ में कुछ फर्जी वेबसाइट भी लोगों को ठगने की फिराक में हैं. त्योहारों के इस मौसम में खरीदारी के मूड को भांपते हुए अपराधी भी सक्रिय हो गए हैं. अनेक तरह के स्पैम मैसेजेस लोगों को मिल रहे हैं.

साइबर  पुलिस ने अपील की है कि मैसेजेस में अपनी व्यक्तिगत और फाइनेंशियल इनफार्मेशन किसी को न दें. ऑनलाइन शॉपिंग सभी आवश्यक सावधानियों के साथ फैमिलियर साइट्स से ही करें. अपराधियों के झांसे में न आएं, लालच न करें और छल कपट का शिकार होने से बचें.

पुलिस ने ये सावधानियां जारी कीं... 
  1. -प्रतिष्ठित वेबसाइट से खरीदें
  2. -सस्ते सामान और ऑफर के चक्कर में न आएं
  3. -अनजान व्यक्ति को घर में न आने दें, लालच में न आएं
  4. -एटीएम कार्ड किसी अन्य व्यक्ति के हाथ में न दें
  5. -संदिग्ध साइटों पर व्यक्तिगत जानकारी डालने से बचें
  6. -केवल सुरक्षित कनेक्शन पर जानकारी भेजें
  7. -सार्वजनिक कंप्यूटर पर वित्तीय लेनदेन करने से बचें
  8. -देखें कि एटीएम में कोई चिपचिपा पदार्थ तो नहीं लगा
  9. -एटीएम पैड पर आलपिन या माचिस की तीली तो नहीं फंसी है
  10. -किसी के कहने पर बाजार में जेवर न उतारें
  11. -पुराने बर्तन चमकाने के बहाने हो सकती ठगी
  12. -रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड पर रहें सतर्क
इसके अलावा बाजारों में भी बदमाश ठगी के लिए नए-नए तरीके अपना सकते हैं. ऑनलाइन ठगी से बचने के अलावा त्योहार पर जेबकतरे, ठग और नक्कालों से भी सावधान रहने की जरूरत है. प्रतिष्ठित वेबसाइट पर ही जाएं. गूगल उपभोक्ताओं की कई तरीकों से उत्पाद ढूंढने में सहायता करता है. लेकिन गूगल मौजूदा सामग्री को लेकर नियंत्रण नहीं करता है.
इसी साल भोपाल शहर के कई लोगों को ऑनलाइन शॉपिंग में अच्छी-खासी चपत लगा चुकी है. कंपनियों द्वारा कोई सुनवाई न करने पर 8 उपभोक्ताओं ने फोरम की शिकायत की है. पिछले नौ माह में ऐसी शिकायतें ज्यादा हुई हैं. ठगे जाने के बाद उपभोक्ता कंपनी को फोन करते हैं. कई बार कंपनी रिस्पांस करती है, तो कई बार उपभोक्ता फोन लगाकर लगाकर परेशान हो जाता है.

ऑनलाइन ठगी के मामलों में साइबर पुलिस घटना होने के बाद जांच करती है. जब तक पुलिस की जांच शुरू होती है, तब तक शातिर ठग वारदात को अंजाम देकर आसानी से भाग निकलते हैं. ऐसे में ऑनलाइन ठगी से बचने के लिए सावधानी बरतना जरूरी है.

Que.Ans

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..