बैटरी से चलने वाली इलेक्ट्रिक कार इन इंडिया 2018 से new upcoming electric cars - Top.HowFN

बैटरी से चलने वाली इलेक्ट्रिक कार इन इंडिया 2018 से new upcoming electric cars


Tata motors - देश की प्रमुख वाहन निर्माता टाटा मोटर्स अपनी महत्वाकांक्षी छोटी कार 'नैनो' का उत्पादन बंद नहीं करेगी। बल्कि इसके लिए वह वैकल्पिक योजनाओं पर विचार कर रही है। इसमें नैनो का इलेक्ट्रिक वर्जन लाना भी शामिल है।

कंपनी के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर (सीओओ) सतीश बोरवणकर ने यह साफ किया। उन्होंने कहा, 'इस मॉडल से कंपनी का भावनात्मक जुड़ाव है। इस कारण नैनो का उत्पादन बंद करने की कोई योजना नहीं है। शेयरधारक भी चाहते हैं कि इसका उत्पादन जारी रखा जाए।'

 Upcoming electric cars in india 

नैनो की बिक्री गिर जाने से इसका उत्पादन फायदेमंद नहीं रह गया है। नैनो के भविष्य के बारे में पूछे जाने पर बोरवणकर ने यह जानकारी दी। वे यहां उद्योग संगठन सीआईआई से इतर मीडिया से चर्चा कर रहे थे। उन्होंने कहा, 'फिलहाल हर महीने करीब 1,000 नैनो कारें बेची जा रही हैं।' कंपनी ने पश्चिम बंगाल के सिंगुर में अपना प्लांट बंद करने के बाद नैनो का उत्पादन गुजरात के साणंद स्थित प्लांट में ट्रांसफर कर दिया था। इस प्लांट में नैनो के अलावा दो अन्य पैसेंजर व्हीकल्स (पीवी) टिएगो और टिगोर का उत्पादन होता है।

उन्होंने कहा, 'टिएगो और टिगोर का उत्पादन नैनो के कम उत्पादन के मुकाबले काफी अधिक है।'
मांग बढ़ने के बाद सीवी सेगमेंट में उत्पादन बढ़ा रही कंपनी :
पैसेंजर व्हीकल्स के साथ-साथ कमर्शियल व्हीकल्स (सीवी) की भी बिक्री घटने के बारे में बोरवणकर ने कहा, 'ग्राहकों से जुड़ने संबंधी दिक्कतें हैं जिन्हें ठीक किया जा रहा है। हम डीलरों के यहां जाकर उनकी जरूरतों और उनके मुद्दों को समझ रहे हैं। जून, जुलाई और अगस्त में बिक्री फिर बढ़ी है। एक और समस्या मांग में कमी के कारण सहयोगी कंपनियों को सप्लाई में पेश आ रही थीं। लेकिन मांग बढ़ने के बाद अब वे सप्लाई बढ़ाने पर काम कर रहे हैं।'

दिवाली से नई एसयूवी पेश करने की तैयारी में कंपनी : 
बोरवणकर ने बताया, 'टाटा मोटर्स एक कॉम्पैक्ट स्पोर्ट्स यूटिलिटी व्हीकल (एसयूवी) पेश करने की तैयारी में है। इसका उत्पादन पुणे के रांजणगांव स्थित संयंत्र में हो रहा है। यह एसयूवी दिवाली से पहले पेश की जाएगी।' उन्होंने कहा कि कमर्शियल व्हीकल्स बनाने वाले प्लांट्स का दोहन बढ़कर 75% तक पहुंच गया है। जबकि पैसेंजर व्हीकल्स बना रहे प्लांट अपनी पूरी क्षमता से उत्पादन कर रहे हैं। 

No comments

Powered by Blogger.