कैदियों के लिए प्राइमरी स्कूल शुरू होगा तिहाड़ जेल में Primary School for Prisoner in Tihar Jail - Top.HowFN.com

कैदियों के लिए प्राइमरी स्कूल शुरू होगा तिहाड़ जेल में Primary School for Prisoner in Tihar Jail

तिहाड़ जेल में आने वाला कोई भी कैदी अनपढ़ न रह जाए, इसके लिए जेल प्रशासन ने कैदियों को पढ़ाने के लिए योजना बनाई है। तिहाड़ जेल के अंदर ही कैदियों के लिए प्राइमरी स्कूल शुरू करने की योजना है। क्लास में कुर्सी मेज होने के साथ ही एक ड्रेस कोड भी होगा ताकि पढ़ते समय कैदियों को स्कूल जैसा माहौल मिले।
Primer school will be run in Tihar Jail for prisoners. It is great step. Prisoners also wants to study in Jail. If this plan got success then schools will run in other jails.
इसके लिए इसी फील्ड में काम करने वाले एक NGO की भी मदद ली जा रही है। सब कुछ योजना के हिसाब से रहा तो यह स्कूल 15 मई से ही शुरू कर दिया जाएगा। फिलहाल जेल नंबर - 5 के कैदियों के लिए यह स्कूल शुरू किया जाएगा।

इसका कारण यह है कि इसी जेल में तिहाड़ के सबसे कम उम्र 18 से 21 साल वाले विचाराधीन कैदी बंद हैं। इनमें से ज्यादा कैदी तो ऐसे हैं, जो समाचार पत्र पढ़ना तो दूर अपना नाम भी नहीं लिख पाते।

जब जेल के वरिष्ठ अधिकारी बहुत से कैदियों से मुलाकात की, तो यह जानने का प्रयास किया गया कि आखिर वे क्यों नहीं पढ़ पाए? कैदियों से पता लगा कि अधिकतर कैदियों के घर के हालात ऐसे नहीं थे जो पढ़ पाते या फिर कुछ को उनके पिता ने छोटी आयु में ही अपराध की दुनिया में धकेल दिया था।

जब अधिकारियों द्वारा कैदियों से पूछा गया कि अगर उन्हें जेल में स्कूल जाने के लिए कहा जाए तो क्या वह स्कूल जाएंगे? तो ज्यादा कैदियों का जवाब हां में मिला तो फिर जेल के अंदर ही स्कूल चलाने की योजना पर कार्य करना शुरू कर दिया।

योजना के तहत अधिकारियों ने अप्रैल से ही कैदियों को पढ़ाना तो शुरू कर दिया था। परंतु अब जेल में उनको रोजाना पढ़ाने के लिए स्कूल शुरू किया जाएगा। इस स्कूल में अन्य स्कूलों की तरह रविवार और छुट्टियों के दिन छुट्टियां ही रहेंगीं।

स्कूल में कैदियों को पहली कक्षा से लेकर दसवीं कक्षा तक की पढ़ाई ही करवाई जाएगी। इस योजना के जेल नंबर 5 में सफल होने के बाद अन्य जेलों में भी इसे अमल में लाया जाएगा।

0 Response to "कैदियों के लिए प्राइमरी स्कूल शुरू होगा तिहाड़ जेल में Primary School for Prisoner in Tihar Jail"

Post a comment

Iklan Atas Artikel

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Iklan Bawah Artikel