हर इंसान की जिंदगी में कुछ लोग ऐसे होते हे जो उनके माता-पिता के समान होते हे, जिनका कभी भी अपमान नहीं करना चाहिए. ऐसे लोग हर सुख-दुःख में हमारे साथ होते हे. आईये जानते हे चाणक्य नीति के अनुसार हमारे 6 माता-पिता के बारे में.
6 Mother-Father For Every Person
1. जन्म देने वाले जन्म देने वाले माता-पिता का कभी अपमान नहीं करना चाहिए. वे देवता समान होते हे और आप उनके एक अंश मात्र हे.

2. संस्कार देने वाले
कोई भी व्यक्ति चाहे वो घर का हो या बाहर का जिसे आपको संस्कार दिए हे उसका कभी अपमान नहीं करना चाहिए.

3. ज्ञान देने वाले वे इंसान जिन्होंने आपको शिक्षित किया हे और आपको विधा दी हे उनका कभी भी अपमान नहीं करना चाहिए. ज्ञान हमारे लिए उतना ही जरूरी हे जितना शरीर के लिए भोजन.

4. बुरे टाइम में साथ देने वाला वैसे भी इस दुनिया में साथ देने वाले लोग बहुत कम हे. अगर कोई इंसान बुरे टाइम में आपका साथ दे तो उसे कभी भी अपमानित ना करें. वो आपके पिता के समान हे. 

यह भी पढ़े याददाश्त बढाने के तरीके

5. भोजन देने वाला वो इंसान जिसकी वजह से आपको रोटी मिली हे वो इंसान भी आपके पिता के समान हे, इसलिए उसका कभी अपमान नहीं करना चाहिए.

6. पालन-पोषण करने वाली महिला जिस तरह कृष्ण को जन्म देवकी ने दिया पर उसका पालन-पोषण यशोदा ने किया उसी तरह हर इंसान के जीवन में एक महिला ऐसी होती हे जो उसके पालन-पोषण में अहम किरदार निभाती हे. ऐसी महिला माता के समान हे इसलिए उसका कभी भी अपमान नहीं करना चाहिए.

Que.Ans

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..