शादी में 7 फेरों के साथ 7 वचन भी लिए जाते हे. शादी एक बड़ा बंधन हे. जो की महिला और पुरुष दोनों को बदल देता हे. हर फेरे के साथ वर-वधु वचन लेते हे. यह 7 वचन ही 7 जन्मो के साथी होते हे. यह वचन महिलाओं के हक में दिए गए हे. आईये जानते हे इन वचनों का मतलब.
Seven Pheras Of Seven Vows in Indian Marriage

1. पत्नी के बिना हर कार्य अधुरा

पहला वचन कहता हे की हर काम में अपनी पत्नी को शामिल करना. तीर्थयात्रा, व्रत-उपवास हो या कोई भी कार्य सब में पत्नी को शामिल करना. इसलिए पंडित भी जोड़े का कहते हे. जिस कार्य में पति-पत्नी शामिल होते हे उसका ज्यादा फल मिलता हे.

2. पत्नी के साथ उसके माँ –बाप का भी सम्मान करना
पत्नी अपने लिए ही नहीं अपने माँ-बाप के लिए भी सम्मान की मांग करती हे. शादी का दूसरा वचन यह बताता हे की पत्नी के साथ उसके माँ-बाप का भी सम्मान करें.

3. उम्र के हर पड़ाव में उसका साथ निभाएं

तीसरा वचन यह बताता हे की पत्नी कहती हे की अगर आप युवावस्था, प्रोढ़वस्था और बुढ़ापे में उसका साथ देंगे तो वो आपके साथ आएगी. इससे यह समझ में आता हे की पति-पत्नी लम्बी आयु तक साथ रहेंगे.

4. आत्मनिर्भर होकर शादी करें
इस वचन में पत्नी यह कहती हे की अगर आप पूर्ण रूप से आत्मनिर्भर होकर आर्थिक रूप से पारिवारिक जरूरतों की पूर्ति में सक्षम हे तो ही वह आपसे शादी के लिए तैयार हे. इसलिए लडको को तब ही शादी करनी चाहिए जब वह अच्छा कमाने लगे और जिम्मेदारी लेने के काबिल हो जाएँ.

5. पत्नी की सलाह लेना जरुरी
शादी का यह वचन कहता हे की घर के कार्यों, लेन-देन और अन्य कार्यों में पत्नी की सलाह ले. यह वचन पत्नी के अधिकारों को बताता हे. अगर आप यह बात मानते हे तो वो आपसे शादी करेगी. 

यह भी पढ़े वेबसाइट कैसे बनायें, बनाने की प्रक्रिया आधार

6. भरी सभा में ना करें अपनी पत्नी का अपमान
हर पत्नी चाहती हे की उसका पति सबके सामने उसका अपमान ना करें. इसलिए शादी के समय उसे इज्जत रखने का वचन लेती हे.

7. पराई स्त्री पर नजर ना डालें
लास्ट वचन में पत्नी, पति से कहती हे की वो अन्य स्त्री को अपनी माता के समान मानेंगे तो वो आपसे शादी करेगी और इससे एक-दुसरे के प्रति प्रेम भी बढ़ेगा.

Que.Ans

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..