आई फ्लू (आँख दुखना)के कारन, लक्षण और बचाव के उपाय..Eye Flew Se Kaise Bache in Hindi - Top.HowFN.com

आई फ्लू (आँख दुखना)के कारन, लक्षण और बचाव के उपाय..Eye Flew Se Kaise Bache in Hindi

आजकल छोटे छोटे बच्चों के भी चश्मे लग रहे हे. आँखों की बीमारियाँ तो आज हर घर में हे. हमारे शरीर का सबसे मुख्य अंग होता हे आँखे. ऐसी ही आँखों की एक बीमारी हे आई फ्लू. आज की इस पोस्ट में, में आई फ्लू के लक्षण, कारन और चिकित्सा के बारे में बताऊंगा.\

कारण
तेज़ धूप, ठण्डी वायु, तेज़ रोशनी, धुआँ चेचक के बाद आँखें दुखने लगती है. वर्षा कम होकर ग़र्मी या ठण्ड अधिक होने से आँखें दुखने लगती है. कभी-कभी संक्रामक रूप से भी आँखें दुखने लगती है.

लक्षण
आँखें दुखने या आँखें आ जाने पर नेत्र का सफ़ेद भाग लाल हो जाता है. आँखों से पानी, गीड, कीचड़ सा निकलना है. पलके चिपक जाती है, काँटा चुभने जैसा दर्द होता है.

विटामिन की कमी कितनी घातक हो सकती हे

चिकित्सा
1. दो रत्ती (चार ग़्रेन) फिटक़री बारीक पीसकर तीस ग्राम गुलाब जल में घोलकर रख ले. ड्रापर द्वारा इस लोशन की दो-दो बूँद दिन में दो-तीन बार आँख में टपकाने से आँख का दर्द, लाली दूर होगी.

2. एक चाय की 1/4 चम्मच, हल्दी पिसी हुयी, 100 ग्राम पानी में इतनी उबाले की चोथाई पानी रह जायें. फिर उसे बारीक कपड़े से छानकर सूबह शाम आँखों में डालने से लाभ होता है.

3. आँखें दुखने पर सफ़ाई रखे. ग़र्म पानी में बोरिक एसिड मिलाकर सूबह शाम धोये. पेट साफ़ रखे.

4. आँखें दुखने पर नमक कम खाये. एक कप पानी में चुटकी भर ज़रा सा नमक मिलाकर रुई भिगोकर बार-बार आँखों पर रखे इससे दुखती हुई आँखो में आराम मिलता है.

5. एक चम्मच भुना हुआ ज़ीरा पीस कर शहद के साथ खाना खाने के बाद रोज़ चाटने से आँखें दुखने में आराम मिलता है.

इसके अलावा आप घास पर नंगे पैर चले इससे भी फायदा होगा और डॉक्टर को एक बार जरुर दिखाएँ, क्योकि वंहा मशीनों से सही जांच होती हे जिससे इसका स्पष्ट कारण पता चला जाता हे.

0 Response to "आई फ्लू (आँख दुखना)के कारन, लक्षण और बचाव के उपाय..Eye Flew Se Kaise Bache in Hindi"

Post a comment

Iklan Atas Artikel

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Iklan Bawah Artikel