दिल्ली पुलिस के तीन सिपाहियों को आज अवैध वसूली करने के संगीन आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया. ये तीनों मिलकर एक व्यापारी से बीस लाख रुपये की मांग कर रहे थे

मामला साउथ द्वारका थाने का है. जहां इस वक़्त हवालात में एक सिक्युरिटी ब्रांच, दूसरा बटालियन 4 और तीसरा स्पेशल ब्रांच का सिपाही बंद है. पुलिस ने इन जवानों के सर्विस रिवाल्वर भी ज़ब्त कर लिए हैं.

द्वारका में संदीप, प्रशांत और दिनेश नामक तीन सिपाही एक योजना के तहत सेक्टर 10 के फ्लैट संख्या 45 में जा घुसे. वहां घर के मालिक को फ्लैट में अवैध गतिविधि का हवाला देकर तलाशी शुरू कर दी. जब वहां कुछ नहीं मिला तो तीनों ने मकान मालिक नमन को पिस्तौल की नोक पर धमकाकर 20 लाख रुपये की मांग कर डाली.

तीनों पुलिसवालों ने पैसा न मिलने पर नमन को झूठे मुकदमे में फंसाने की धमकी दे डाली. नमन ने घबराने के बाद भी समझदारी से काम लिया. और किसी तरह से अपने एक दोस्त के ज़रिये पीसीआर कॉल की.

कुछ ही देर में पुलिस मौके पर पहुंच गई. थाने आए पुलिसकर्मियों ने जांच में पाया कि पुलिस के तीनों जवान जबरन घर में घुसकर अवैध उगाही करने के लिए आए थे. लिहाजा सीनियर अफसरों के दखल के बाद तीनों आरोपी सिपाहियों को गिरफ्तार कर लिया गया.

इस तरह की घटनाएं आम हैं. स्पेशल ब्रांच, क्राइम ब्रांच या खुफिया विभाग में तैनात पुलिस वाले अक्सर अपराधियों की तरह आम लोगों को डरा धमका कर इस तरह की वारदातों को अंजाम देते रहते हैं. लेकिन पुलिसवालों के डर की वजह से लोग शिकायत नहीं करते. ऐसे लोगों की वजह से ही पुलिस विभाग बदनाम होता है.

Que.Ans

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..