अंगूर की जानकारी - अंगूर सौन्दर्यवर्घक एवं बलवर्घक फल है, अंगूर में एेसे एंटीऑक्सीडेंट पाएं जाते है जो हमारे शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करता है इसमें antioxidants, anti-inflammatory, immunity-boosting vitamin C, और सरल शर्करा होती है जो शारीर में तुरंत ऊर्जा प्रदान करता हैं...

Grapesअंगूर खाना सभी को लाभदेयक होता हैं शरीर को स्वास्थ्य रखने के साथ ही क़ब्ज़, अपचन, थकान, गुर्दे की बीमारियो और आँखों में होने वाले मोतियाबिंद जैसे रोगो की भी रोकथाम करता हैं. अंगूर में विटामिन ए ,सी, बी6, फोलेट के अलावा कई प्रकार के मिनरल्स जैसे पोटैशियम, कैल्शियम, आइरन, फॉस्फरस, मॅग्नीज़ियम और सेलीनीयम भी पाए जाते हैं. 100 ग्राम अंगूर में सिर्फ़ 69 कॅलरी , प्रोटीन/वसा की मात्रा 0.3 ग्राम, मिनरल्स 0.6 ग्राम, कारबोहाइड्रेट 16.5 ग्राम और फिबेर की मात्रा 2.9 ग्राम होती हैं. काले या हारे अंगूर में15 से 25 % तक ग्लूकोस की मात्रा पाई जाती हैं, जो खून में घुलने के साथ काफ़ी समय तक शरीर को भरपूर एनर्जी देती हैं अंगूर में पाये जाने वाला Flavonoids चेहरे की झुर्रियो को कम करते हैं और आपकी त्वचा को जवान बनाता हैं.

Grapes benefits weight loss - अंगूर में 'अपेक्षाकृत कम कैलोरी होने से वजन घटाने व आहार के लिए एक अच्छा स्त्रोत हे जो शारीर को फिट बनाता है।

 Grapes benefits for skin - त्वचा को हेल्दी रखने के लिए अंगूर बहुत ही गुणकारी होता हैं. इसमें मौज़ूद आंटी-ऑक्सिडेंट्स और आंटी-इनफ्लमेटरी तत्व स्किन के लिए ज़रूरी तत्वो की पूर्ति करते हैं.साथ ही किसी भी तरह के फलो की तरह इसमें मौज़ूद विटामिन सी स्किन को प्रोटेक्ट रखती हैं.

Grapes For Skin, Hair,  Health Angur ke fayde in hindi 

1. अस्थमा - अंगूर कई प्रकार के रोगो के उपचार के तौर पर भी इस्तेमाल होता हैं. अस्थमा (दमा) रोगियो के लिए भी बहुत फयदेमंद हैं. इसमे मौजूद पानी की मात्रा से फेफड़ो में भी पानी की कमी पूरी होती हैं, जो अस्थमा की संभावना को काफ़ी कम कर देती हैं.

2. हड्डियो के लिए- अंगूर कॉपर, आइरन और मेगणीज़े का बहुत अक्चा सोर्स होता हैं, जो हड्डियो के निर्माण और उन्हे मजबूत बनाने में बहुत ही ज़रूरी होते हैं. इसके रोजाना सेवन से अस्टईयाप्रोसिस जैसी बीमारी से बचा जा सकता हैं. मेगणीज़े भी हमारे शरीर के लिए एक बहुत ज़रूरी तत्व हैं, जो नर्वस सिस्टम को सही रखता हैं.

3. दिल की बीमारी - अंगूर खून में नाइट्रिक ऑक्साइड के लेवेल को कंट्रोल करता हैं , जिससे ब्लड क्लॉटिंग नही होती हैं. इससे हार्ट अटॅक का ख़तरा काफ़ी कम हो जाता हैं. साथ ही इसमे मौजूद आंटी-ऑक्सिडेंट्स ल्डल कोलेस्टरॉल से बचाव करते हैं. फ्लवॉनाय्श्ड्स की ज़्यादा मात्रा भी अच्छे आंटी-ऑक्सिडेंट्स का काम करती हैं. इससे ब्रेस्ट कॅन्सर नही फैलता हैं. अंगूर में रेसवेरट्रोल और क़ुएरसेटीं दो प्रकार के तत्व शरीर को रॅडिकल्स से बचाकर आर्टरीस को भी सुरक्षित रखने का काम करता हैं. यह ब्लड में प्लेट्लेट्स की कमी नही होने देता.

4. माइग्रएन - पके हुए अंगूर के रस के सेवन से माइग्रएन जैसी समस्या में आराम मिलता हैं. सुबह-सुबह बिना पानी मिलाए 1 ग्लास अंगूर का जूस पीना बहुत ही फयदेमंद होता हैं. रेड वाइन को माइग्रएन की एक वजह मानी जाती हैं, लेकिन अंगूर का जूस और इसके बीज से इस समस्या को डोर किया जा सकता हैं. वैसे तो कम सोना, मौसम में बदलाव, पाचन समस्या में प्रेशानि आदि कई माइग्रएन बीमारी होने का कारण हो सकते हैं. लेकिन आल्कोहॉल के सेवन को इसकी खास वजह माना जाता हैं. अंगूर का रस पीकर इसके ख़तरे को कम किया जा सकता हैं.

5. क़ब्ज़- अंगूर क़ब्ज़ जैसी समस्या से भी रहट दिलाता हैं. क्योंकि इसमें मौज़ूद ऑर्गॅनिक आसिड , शुगर और सेल्युलोस की मात्रा पाचन क्रिया को दुरुस्त रखती हैं. इसमे भोजन को आसानी से पचाने वेल रेशे पाए जाते हैं जो ना सिर्फ़ आँतो को सॉफ रखते हैं, बल्कि पेट की भी आक्ची तरह से सफाई करते हैं. अकचे नतीज़े के लिए रोजाना कम से कम 350 ग्राम अंगूर का सेवन करना चाहिए. यह दस्त की बीमारी से भी च्छुतकारा दिलाता हैं.

6. थकान- रोजाना अंगूर का जूस पीने से शरीर में आइरन और मिनरल्स की मात्रा बराबर बनी रहती हैं, जो थकान जैसी समस्या को कोसो डोर रखती हैं. वैसे तो अनेमिया आम समस्या हैं , लेकिन महिलाओं में सबसे ज़्यादा पाई जाती हैं. ऐसे में अगर अनेमिया से च्छुतकारा पाना हैं, तो अंगूर का जूस भरपूर मात्रा में पिए. इससे आइरन की मात्रा आपके शरीर में एनर्जी का लेवेल को बनाए रखेगी जो थकान और अलसपान को डोर रखती हैं. ज़िंक, सेलएनीूम, कारबोहाइड्रेट और पॉलयफएनोल्स की मात्रा ब्रायन को आक्टिव रखती हैं. अंगूर के जूस में 2 चम्मच शहद मिला कर पीने से खून की कमी पूरी हो जाती हैं.

7. आल्झाइमर बीमारी में - रेसवेरट्रोल अंगूर में पाए जाने वाला एक बहुत ही फयदेमंद पॉलयफएनोल हैं जो आल्झाइमर के मरीज़ो में आमाइलाय्ड बेटा डिनोट्स पेपटाइड्स के लेवेल को कम करता हैं. कई रिसर्च में यह पाया गया हैं की अंगूर खाने से दिमाग़ हेल्ती रहता हैं. ब्रिटन के साइंटिस्ट्स के अनुसार काले अंगूर में पाए जाने वेल फ्लवॉनाय्श्ड्स का सीधा संबंध नेरव सेल्स से होता हैं जो यादडस्त सुधारने में मदद करता हैं.

8. डाइयबिटीस - डाइयबिटीस के रोगियो के लिए अंगूर का सेवन बहुत ही फयदेमंद होता हैं. यह शुगर की मात्रा को कम करता हैं. खून में मौज़ूद शुगर को कंट्रोल करने में अंगूर माहत्ावपूर्ण भूमिका निभाता हैं.

9. दांतो के लिए - हाल में हुई एक रिसर्च के अनुसार अंगूर के बीज और रेड वाइन के सेवन से कॅविटी और मासूड़ो की समस्या कई पर्सेंट तक कम हो जाती हैं. यह मूँह की बीमारियो से भी बचाता हैं.

10. रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ता हैं.- विटामिन आ, सी और क का ख़ज़ाना समेटे अंगूर शरीर को हेल्ती बनाए रखता हैं. यह खास तौर पर इम्यूनिटी को बढ़ता हैं. इससे सर्दी, जुकाम जैसे इन्फेक्षन वाली बीमारिया शरीर को जल्दी नही लगती हैं.

11. मोतियाबिंद - फ्लवॉनाय्श्ड्स में मौज़ूद आंटी-ऑक्सिडेंट्स सिर्फ़ स्किन के लिए नही , बल्कि आँखों के लिए भी बहुत फयदेमंद होते हैं. यह MओतियBइन्द जैसी बीमारी से भी बचाते हैं.

12. किड्नी के लाभकारी- अंगूर के रस में पानी और पटासीयम की भरपूर मात्रा होती हैं और अल्ब्यूमिन और सोडियम क्लॉराइड की मात्रा काफ़ी कम होती हैं जो किड्नी से ज़हरीले तत्वो को बाहर निकल कर उसे हेल्ती बनती हैं.

13. गठिया रोग - अंगूर खाने या इसका जूस पीकर गठिया रोग होने की संभावना को काफ़ी कम किया जा सकता हैं, क्योंकि यह शरीर से ज़हरीले तत्वो को बाहर निकलता हैं, जो गठिया रोग होने का कारण होते हैं.

14. स्किन के लिए - अंगूर में विटामिने आ पाया जाता हैं, जो स्किन के लिए बहुत ही फयदेमंद हैं. रोजाना अंगूर के सेवन से चेहरे पर निखार आ जाता हैं. साथ ही झुर्रिया भी ख़त्म हो जाती हैं. आँखों के नीचे काले घेरो पर अंगूर लगाकर उसे कुछ ही दीनो में ही डोर किया जा सकता हैं.

15. मूँह के छाले - अंगूर मूँह के छाले से भी रहट दिलवाता हैं. इसके रस से कुल्ला करने से मूँह में होने वेल च्चाले डोर होते हैं.

16. सूरज की रोशिनी से बचाता हैं - अंगूर के बीजो और गूदे में प्रोआंतोसयनिदिंस और रेसवेरट्रोल बहुत की प्रभावकारी आंटी-ऑक्सिडेंट्स होते हैं. यह सूरज की हानिकारक अल्ट्रा वाय्लेट किरानो से टावचा की रक्षा करते हैं. साथ ही स्किन पर पड़ने वेल लाल निशान, और साथ ही टावचा को नुकसान पहुचने वेल सेल्स को ख़त्म करते हैं. ज़्यादातर सनस्क्रीन लोशन्स में अंगूर का प्रयोग किया जाता हैं.

17. बुढ़ापे को रोकता हैं - फ्री रॅडिकल्स की समस्या चेहरे पर झुर्रिया बनाती हैं, जो असमय बुढ़ापे का कारण होती हैं. लेकिन अंगूर में मौज़ूद विटामिन सी, इन समस्याओं से लड़ता हैं और इससे होने वेल टावचा के नुकसान को रोकता हैं. रोजाना केवल 20 मिनिट्स तक अंगूर के गूदे से चेहरे पर मसाज करके इस समस्या को रोका जा सकता हैं.

18. त्वचा को कोमल बनता हैं - अंगूर के बीजो में विटामिन ए टावचा में नामी की मात्रा बनाए रखता हैं. टावचा की डेड सेल्स को हटाने के लिए अगूर का गुदा एक अचूक उपाय हैं. जिससे कोमल टावचा पाई जा सकती हैं. अंगूर के बीजो का तेल भी स्किन को कोमल बनाए रखने में काफ़ी मददगार होता हैं.

19. दाग-धब्बो से छुटकारा - हारे अंगूर की सहयता से चेहरे के दाग-धब्बो के साथ पिंपल्स की समस्या को भी ख़त्म किया जा सकता हैं. विटामिन सी टावचा के निशानो को ख़त्म करने में काफ़ी कारगर होती हैं. अंगूर को नमक के साथ बाँध कर उसे आधे घंटे के लिए पकाया जाए. फिर इसे चेहरे पर 15 मिनिट्स तक लगाकर हल्के गुनगुने पानी से धो ले.

20. बालो के लिए फयदेमंद - घने, चमकदार और लंबे बालो का ध्यान रखना भी एक बहुत बड़ा टास्क होता हैं. खाने-पीने की अनदेखी और ज़रूरी पोशाक तत्वो की कमी से आजकल डॅंडरफ, दो मूँहे बाल, सफेद बाल और बालो के झड़ने की समस्या बहुत आम बात हैं. लेकिन अंगूर खा कर या इसका जूस पीकर , इस समया में तुरंत निजात पाई जा सकती हैं.

21. लंबे बालो के लिए - अंगूर में मौज़ूद आंटी-ऑक्सिडेंट्स रक्त प्रवाह को सही रखते हैं. इससे बाल हेल्ती रहते हैं. इसमें कोई दो राय नही हैं की अंगूर का तेल बालो के विकास में मदद करता हैं. अंगूर के बीजो का तेल बालो में होने वेल पसीने, उसकी दुर्गंध को डोर करने के साथ ही उसे चमकदार , घाना, मुलायम और लंबा बनाने में मदद करता हैं.

22. रूसी की समस्या को ख़त्म करता हैं - अंगूर के बीजो के तेल से डॅंडरफ, सीर में खुजली की समस्या डोर होती हैं. इसमे मौजूद पानी की मात्रा ज़रूरी नामी की पूर्ति करती हैं, जिससे ब्लड सर्क्युलेशन सही रहता हैं.

23. बाल गिरने की समस्या से निजात - अंगूर असमय बालो के गिरने और झड़ने की समस्या को रोकता हैं. इसके बीजो में मौजूद विटामिन ए और लिनॉलिक आसिड बालो की जड़ो को मजबूत बनता हैं. साथ ही दो मूँहे बाल जो बालो के झड़ने की खास वजह हैं, उन्हे भी ख़त्म करता हैं.

24. Aromatherapy - हर तरह की स्किन के लिए फयदेमंद अंगूर के बीज को अरोमथेरपी के लिए भी इस्तेमाल किया जाता हैं.

check que?.ans

इस कमेंट्स बॉक्स में आपके मन में कोई सवाल हो तो पूछे उचित जवाब देने का हमारा प्रयास रहेगा..