रिज्यूम का मतलब नौकरी रिज्यूम फॉर्मेट कैसे बनाना है Resume kaise banaye computer par - Top.HowFN

रिज्यूम का मतलब नौकरी रिज्यूम फॉर्मेट कैसे बनाना है Resume kaise banaye computer par


Resume kaise banaye computer par resume kaise banaye phone me resume kaise banaye इतना तो आपको पता ही है कि किसी भी प्रकार की नौकरी (Jobs) के लिये रिज्यूम देना होता है आपने भी कई बार दिया होगा किन्तु शायद आप यह नहीं जानते होंगे रिज्यूम फॉर्म pdf रिज्यूम का मतलब नौकरी रिज्यूमे फॉर्मेट रिज्यूम बनाना है रिज्यूम कैसे लिखते है रिज्यूमे बनाने की वेबसाइट जॉब के लिए रिज्यूम कैसे बनाये सभी जाब (job) के लिये एक समान घिसे-पिटे रिज्यूम (resume) देने से उसका प्रभाव बिल्कुल गलत पड़ता है

सभी के लिये एक टाइप के रिज्यूम को प्रायः पढ़े बिना ही रिजेक्ट फाइल में लगा दिया जाता है एक शानदार जाब के लिये आपका रिज्यूम ऐसा होना चाहिये कि उसे पढ़ कर पढ़ने वाले को महसूस हो कि यह वो रिज्यूम है जैसा कि मैं चाहता था

 आपके रिज्यूम से आपका व्यक्तित्व और आपकी बुद्धिमत्ता झलकनी चाहिये।

रिज्यूम क्या होता है रिज्यूम का मतलब What is a resume hindi me


रिज्यूम Resume meaning in hindi -को हम एक बिक्री पत्र Sale Letter मान सकते हैं जो आपकी विद्या, गुण, निपुणता, कार्यकुशलता (skills) और अनुभवों को अत्यन्त प्रभावशाली ढंग से जाब प्रदान करने वाले के समक्ष प्रस्तुत करता है

आपका लिखित (Bio data) है, जिसे curriculum vitae या शार्ट में "CV" भी कहते है, यदि आप में विद्या, गुण, निपुणता, कार्यकुशलता (skills) और अनुभव सभी कुछ है किन्तु आप में यह बताने की क्षमता नहीं है कि एक अच्छे जॉब के लिये समस्त आवश्यक गुण आप में है तो आपके सारे गुण बेकार सिद्ध हो जाते हैं

 अच्छा रिज्यूम वह होता है जिसको पढ़ कर पढ़ने वाला प्रभावित हो जाने के लिये विवश हो जाये

अतः जब कभी भी आप अपना रिज्यूम लिखें तो सबसे पहले स्वयं को उस विशिष्ट जॉब जिसके लिये आप आवेदन करने जा रहे हैं तथा जाब प्रदान करने वाले के द्वारा चाही गई आवश्यकताओं (requirements) के प्रति केन्द्रित कर लेना चाहिये।

 रिज्यूम कैसे लिखते है resume kaise banaye

रिज्यूम (biodata kaise banaye) लिखते समय ध्यान देने वाली आवश्यक बातें
  • स्वयं के विषय में तथ्य तथा आँकड़े: एक आवेदक के तौर पर आप जाब प्रदान करने वाले को स्वयं के विषय में जानकारी ही देते हैं। अतः रिज्यूम लिखते समय आप अपने विषय में सारे तथ्य तथा आँकड़ों को संग्रहित कर लें। किसी अलग कागज पर सारे तथ्य तथा आँकड़ों को लिख लेना चाहिये ताकि कोई भी महत्वपूर्ण जानकारी छूट न जाये।
  • व्यक्तिगत जानकारी: अपने रिज्यूम की शुरुवात अपने विषय में व्यक्तिगत जानकारी देने से करें। कागज के बाँयीं ओर वाली ऊपरी हिस्से (top left) में मोटे (bold) अक्षरों में अपना नाम टाइप करें। फिर अपना वर्तमान पूरा पता (यदि अस्थायी तथा स्थायी दो पते हैं तो दोनों ही), सम्पर्क विवरण जैसे कि फोन नम्बर, मोबाइल नम्बर, ई-मेल पता आदि की जानकारी दें। शीर्षक के रूप में 'RESUME', 'BIODATA' आदि टाइप करने की कोई आवश्यकता नहीं है। सिर्फ आपका नाम ही काफी है।
  • विषय (Objective): विषय के रूप में एक संक्षिप्त कथन (statement) लिखें जो कि आपके रिज्यूम को पढ़ने वाले को आपके कैरियर के उद्देश्य (career goals) के बारे में जानकारी दे। विषय के अन्तर्गत निम्न बातें शामिल होनी चाहिये:
  • एक सामान्य या विशिष्ट जाब टाइटिल जैसे कि 'कम्प्यूटर आपरेटर' 'ग्राफिक डिजाइनर' आदि।
  • यदि चाहें तो अपनी योग्यताओं के विषय में विषय में अतिसंक्षिप्त जानकारी।
  • शैक्षणिक योग्यताएँ: फिर इसके बाद अपनी शैक्षणिक योग्यताओं के विषय में पूर्ण जानकारी दें।
  • विशेष योग्यताएँ: शैक्षणिक योग्ताओं के बाद अपनी विशेष योग्यताओं के विषय में जानकारी दें।
  • अन्य योग्यताएँ: अपनी अन्य योग्यताओं जैसे कि कम्प्यूटर का ज्ञान, आधुनिक टेक्नालाजी के विषय में ज्ञान आदि के विषय में उल्लेख करना करें।
  • अनुभवों का विवरण: आप वर्तमान में क्या कर रहे हैं, विगत वर्षों में आपने कब-कब क्या-क्या किया है, अन्य संस्थाओं में आपकी क्या उपलब्धियाँ रही हैं आदि की पूर्ण जानकारी अवश्य ही दें।
  • अन्य गतिविधियाँ (Extra Caricular Activities): अपनी अन्य गतिविधियाँ जैसे कि खेल-कूद (sports), भाषण तथा वाद-विवाद प्रतियोगिता आदि में भी अपनी उपलब्धियों के विषय में अवश्य बतायें।
समस्त प्रमाणपत्रों certificates की प्रतिलिपियाँ(photocopy) इकट्ठी कर लगाना बिल्कुल न भूलें।

पूर्ण ईमानदारी (honesty) बरतें, कोई भी झूठी जानकारी न दें।

स्टेप्स तथा व्याकरण की गलतियाँ (spelling & grammatical mistakes) बिल्कुल न करें।

स्वच्छता का पूरा पूरा ध्यान रखें।

उचित समय में अपना आवेदन प्रस्तुत करें, अन्तिम तारीख तक प्रतीक्षा न करें। और अपने रिज्यूम के साथ एक प्रभावशाली सारांश वाली कव्हर लेटर (cover letter) अवश्य संलग्न करें।

कव्हर लेटर कैसे लिखें! How to write Cover Letter 

यद्यपि किसी भी जाब के विज्ञापन (job advertisement) केवल रिज्यूम देने के लिये ही कहा जाता है तथा किसी भी प्रकार के कव्हर लेटर (cover letter) की माँग नहीं की गई होती तो भी अपेक्षा की जाती है कि आप अपने रिज्यूम (resume) के साथ कव्हर लेटर (cover letter) भी दें। वास्तव में देखा जाये तो आपके रिज्यूम (resume) को पढ़ने वाले पर सबसे पहले कव्हर लेटर (cover letter) का ही प्रभाव पड़ता है क्योंकि आपको जाब प्रदान करने वाला आपके कव्हर लेटर को पढ़ने के बाद ही आपके रिज्यूम को पढ़ता है। अतः हमेशा ध्यान रखें कि कव्हर लेटर का बहुत अधिक महत्व होता है। आपके कव्हर लेटर को पढ़कर ही पढ़ने वाले को एक अंदाजा हो जाता है कि यह आदमी हमारे काम का है या नहीं।

कव्हर लेटर (Cover Letter) लिखते समय ध्यान देने वाली आवश्यक बातें

स्वयं के शब्दों में लिखें: स्वयं के शब्दों में लिखे गये कव्हर लेटर का अपेक्षाकृत अधिक प्रभाव पड़ता है। आपके लिखने की भाषा-शैली तथा ढंग पढ़ने वाले को बताते हैं कि आप किस प्रकार के व्यक्ति हैं। इसलिये अपना कव्हर लेटर किसी और से न लिखवा कर स्वयं ही लिखें। किसी सामान्य रूप से लिखे गये कव्हर लेटर को कॉपी-पेस्ट कभी भी न करें।

व्याकरण की गलतियाँ (spelling & grammatical mistakes) बिल्कुल न करें: यह एक सामान्य बात है कि पढ़ने वाला हमेशा ही कुछ न कुछ गलती निकालने का प्रयास अवश्य ही करता है और वे अक्सर हिज्जों तथा व्याकरण की गलतियाँ (spelling & grammatical mistakes) ही होती हैं। आप सामने वाले को अपनी एक भी गलती निकालने का बिल्कुल भी अवसर न दें।

नम्रता तथा सम्मान वाले शब्दों का प्रयोग करें: स्मरण रखें कि आप अपनी आजीविका के लिये नौकरी या रोजगार माँग रहे हैं। आपके कव्हर लेटर को पढ़ने वाला आपको जाब प्रदान करने वाला है अतः उसके प्रति आपको सम्मान भी प्रकट करना है और विनम्र भी रहना है। सम्मान तथा नम्रता से युक्त शब्द सभी को प्रभावित करते हैं।

सही सम्बोधन करें: आपको मालूम होना चाहिये कि आपको रोजगार देने वाले व्यक्ति का पद क्या है और उसी के अनुसार आपका सम्बोधन भी होना चाहिये। यदि रोजगार देने के लिये अधिकृत व्यक्ति किसी संस्था का 'महाप्रबंधक' है और आपने अपने सम्बोधन में 'प्रबंधक' लिखा है तो अवश्य ही इसका विपरीत प्रभाव पड़ेगा।

अपना महत्व प्रदर्शित करें: अपने कव्हर लेटर में आपको यह भी बताना है कि नौकरी देने वाली संस्था के लिये आपका विशिष्ट महत्व है। आपको प्रदर्शित करना है कि आपको जाब देने से संस्था का विशेष हित होगा। किन्तु अपने विषय में अतिशयोक्ति न लिखे और न ही इतने विस्तार में लिखें कि पढ़ने वाला ऊब महसूस करने लगे।

अर्थपूर्ण शब्दों तथा वाक्यांशों का प्रयोग करें: आपका कव्हर लेटर 'गागर में सागर' के समान होना चाहिये अर्थात् कम से कम अर्थपूर्ण शब्दों में आपके विषय में अधिक से अधिक जानकारी हो।
Powered by Blogger.