कुछ बातें कहने से बचें, जो आपके बच्चों पर बुरा असर डालती हैं - Top.HowFN

कुछ बातें कहने से बचें, जो आपके बच्चों पर बुरा असर डालती हैं

आज कल देखा गया है कि बच्चों को discipline सिखाने के लिए कठोर शब्दों का इस्तेमाल कर देते हैं। जिससे बच्चों के मानसिकता पर प्रभाव पड़ता है। ऐसे में हमें कुछ निम्न लिखी बातों को ध्यान में रखना चाहिए कि हमें बच्चों के साथ कैसे पेश आना चाहिए क्योंकि बच्चे जल्दी सीखते हैं। इसलिए उन्हें जो कुछ भी सिखाना है अच्छा सिखाने का प्रयत्न करना चाहिए-
We are telling you some things that never say to your child. Because child can get adverse effect on their mental health. Always try to say good things because child learn very fast. If you want to see your children on the top then avoid these things to say to your children.

तुम्हारी आयु में हम responsible थे
अधिकतर माता-पिता जो गलती करते हैं और वो है - बच्चे की तुलना अपने आप से करना। उनको कहना कि जब आप तुम्हारी age के थे तो हम यह करते थे, वो करते थे और तुम लापरवाह हो। यह सब बातें कहना गलत है। जब बच्चों से परफेक्ट बनने की उम्मीद की जाती है तो उनका क्रोध और चिड़चिड़ाहट बढ़ने लगती है। इससे उनका कॉन्फिडेंस डगमगा जाता है।
तुमसे अच्छे तो पड़ोसी के बच्चे हैं
अक्सर यह तुलना माता-पिता करते ही हैं कि तुम से अच्छे तो उस पडोसी के बच्चे है। अपने बच्चों की क्षमताओं की तुलना कर अपने बच्चों व उस पड़ोसी के बच्चों के बीच लड़ाई के बीज ना बोएं। अगर आप इस तरह की तुलना करते हैं तो आपके बच्चे में आत्म विश्वास ख़त्म हो जाता है। और उनके मन में  नकारात्मक भावना उत्पन्न हो जाती है।

तुम हमेशा गलती करते हो
हर आदमी गलती करता है और अपनी गलतियों से ही सीखता है। आपके बच्चे ने पढ़ाई के लिए कोई ऐसा विषय का चुनाव किया है जो आपको पसंद न हो। परंतु इसका अर्थ यह नहीं है कि आप अपने बच्चे को उसके निर्णय के लिए दोषी ठहराएं। माता-पिता होने के नाते आपका काम बच्चे को अच्छे तरीके से मार्गदर्शन करना है, न कि उनको दोषी ठहराना।

तुम्हारे जैसा बच्चा होने से बेहतर है कि बच्चा ना हो
कई बार हम बच्चों के सामने ऐसी बातें कह देते हैं जिसके बाद हमें उस बात के गंभीर परिणाम भुगतने पड़ते हैं। लिहाजा कैसी भी विकट परिस्थिति क्यों ना हो, अपनी जुबान से ऐसी कोई बात ना कहें जिसके लिए आपको जीवन भर अफसोस करना पड़े। ये कहना हमें अपने बच्चों को अलग कर सकता है और हमें जिंदगी भर पछतावा रहता है।

तुम्हें शर्म आनी चाहिए
यह कहना कि तुझे खुद पर शर्म आनी चाहिए, बहुत ही कठोर है। ये शब्द किसी भी बच्चे को कहना पूरी तरह से गलत है। बहुत से बच्चे ऐसे होते हैं जिनकी शैतानियां इतनी अधिक होती हैं कि वह किसी की नहीं सुनते। बच्चों को अच्छे और बुरे का समझाने के और भी उपाय हो सकते हैं।

No comments

मोबाइल नो. ना डाले नेट पर सभी को देखेगा सिर्फ अपने विचार दे कमेंट्स बॉक्स में ✓ Notify me क्लिक करले अगले 48 घंटे में जवाव देने का प्रयास करेगे, विज्ञापन कमैंट्स ना करे 1 घंटे के अंदर हटा दी जाएगी विज्ञापन चार्ज पे कर Ads दिखाए

Powered by Blogger.